S M L

छत्तीसगढ़ के सीएम घोटाले में शामिल फिर भी पीएम मोदी भ्रष्टाचार पर चुप क्यों है ?

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह और उनके परिजनों पर भ्रष्टाचार में शामिल होने का आरोप लगाया

Updated On: Nov 14, 2018 11:30 AM IST

Bhasha

0
छत्तीसगढ़ के सीएम घोटाले में शामिल फिर भी पीएम मोदी भ्रष्टाचार पर चुप क्यों है ?

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह और उनके परिजनों पर भ्रष्टाचार में शामिल होने का आरोप लगाया और कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस बारे में कुछ नहीं बोलते हैं. गांधी ने मंगलवार को छत्तीसगढ़ के रायगढ़ जिले के शाम खरसिया विधानसभा क्षेत्र में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री के बेटे का नाम पनामा पेपर्स में है, मुख्यमंत्री की पत्नी का नाम नान घोटाले की डायरी में है और वो खुद नान घोटाले में शामिल हैं. 5000 करोड़ रूपए का यहां चिटफंड घोटाला हुआ. लेकिन सरकार कोई कार्रवाई नहीं करती है. किसी को सजा नहीं मिलती है और इन सभी भ्रष्टाचार को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चुप हैं.

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साढ़े चार साल पहले भ्रष्टाचार को लेकर आवाज उठाई थी. लेकिन अब वह भ्रष्टाचार की बात नहीं करते हैं. उन्होंने राफेल का सौदा हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड की जगह अनिल अंबानी को देकर तीस हजार करोड़ रुपए अंबानी की जेब मे डाल दिया. वहीं विजय माल्या, नीरव मोदी, ललित मोदी जब भागे तब उनको रोका नहीं. कांग्रेस अध्यक्ष ने इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर झीरम घाटी में शहीद हुए नंदकुमार पटेल समेत कांग्रेसी नेताओं के अपमान करने का आरोप लगाया.

उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में प्रथम चरण के चुनाव में बस्तर क्षेत्र में कांग्रेस की जीत हो रही है. चुनाव के बाद हमारी सरकार बनते ही हम किसानों का कर्ज 10 दिनों में माफ कर देंगे, किसानों को बोनस देंगे और सभी जिलों मे फूड प्रोसेसिंग प्लांट लगाएंगे, जिससे युवाओं को रोजगार मिल सके. राहुल गांधी ने कहा कि सरकार बनते ही आउटसोर्सिंग खत्म करते हुए युवाओं को नि:शुल्क इंजीनियरिंग, मेडिकल और वकालत की उच्च शिक्षा देंगे.

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि राजस्थान में कांग्रेस की गहलोत सरकार की तर्ज पर छत्तीसगढ़ में भी गरीब लोगों को सरकारी अस्पताल से मुफ्त में दवाएं मिलेंगी. राहुल गांधी ने कहा कि यूपीए सरकार का भूमि अधिग्रहण बिल यहां लागू करेंगे, जिससे बाजार मूल्य से चार गुना दाम किसानों को उनकी भूमि का मिलेगा. बगैर किसान से पूछे उनकी जमीन नहीं छीनी जाएगी और पांच साल में उद्योग नहीं लगने पर किसान को जमीन वापस मिलेगी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi