विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

पीएम मोदी ने विरोधियों को बताया शल्य, पर वो आखिर थे कौन?

पीएम ने बताया कि कुछ लोग उसी तरह हतोत्साहित करने की कोशिश करते हैं जैसे शल्य ने कर्ण को हतोत्साहित किया था

FP Staff Updated On: Oct 04, 2017 09:04 PM IST

0
पीएम मोदी ने विरोधियों को बताया शल्य, पर वो आखिर थे कौन?

पीएम मोदी ने बुधवार को विज्ञान भवन में बोलते हुए नोटबंदी और जीएसटी के मुद्दे पर महाभारत के शल्य का जिक्र किया. उन्होंने बताया कि कुछ लोग उसी तरह हतोत्साहित करने की कोशिश करते हैं जैसे शल्य ने कर्ण को हतोत्साहित किया था.

दरअसल महाभारत के शल्य माद्री के भाई और नकुल और सहदेव के मामा थे. वह मद्र राज्य के राजा थे. महारथी शल्य को एक बेहतरीन गदाधारी के रूप में जाना जाता था.

जब शल्य को पता चला कि महाभारत युद्ध होने वाला है तो वह पांडवों की तरफ से लड़ने के लिए चल पड़े पर रास्ते में में ही दुर्योधन ने उन्हें छल से अपनी सेना में मिला लिया.

दुर्योधन ने छला था शल्य को

दुर्योधन ने उन्हें बुला कर उनकी खूब खातिरदारी की. दुर्योधन ने घंटों तक उनका सेवा सत्कार किया जिसके बाद उन्होंने दुर्योधन को कुछ मांगने को कह दिया. शल्य को लग रहा था कि उनका यह सत्कार युधिष्ठिर कर रहे हैं इसलिए उन्होंने उनसे मिलने की इच्छा जताई. तब जाकर शल्य को पता चल गया कि यह एक षड्यंत्र था. लेकिन तब तक उन्होंने दुर्योधन को उसकी इच्छा पूरी करने का वचन दे दिया था.

यह बात जान कर नकुल और सहदेव बेहद नाराज हो गए और उन्होंने कहा कि शल्य मामा ने यह साबित कर दिया कि हम पांडवों के सौतेले भाई हैं. इस पर युधिष्ठिर ने कहा कि वो दोबारा ऐसा नहीं बोलें कि वो सौतेले भाई हैं.

महाभारत युद्ध से पहले शल्य ने युधिष्ठिर को विजयी होने का आशीर्वाद भी दिया. साथ ही यह वचन भी दिया कि कर्ण के सारथी के रूप में वह कर्ण को हतोत्साहित करेंगे ताकि वह युद्ध में अपनी क्षमता का प्रदर्शन ना कर पाए. पीएम मोदी ने इसी बात का जिक्र करते हुए अपने विरोधियों पर निशाना साधा.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi