S M L

Whatsapp सुधार करे, फेक मैसेज से निपटना कोई रॉकेट साइंस नहीं है: रविशंकर प्रसाद

आईटी मंत्रालय को व्हाट्सएप्प ने नोटिस का जवाब देकर आश्वस्त किया है कि अफवाहों पर काबू पाने के लिए उचित नियामक तय किए जाएंगे और इस मामले में शिक्षाविदों की भी मदद ली जाएगी

Updated On: Jul 04, 2018 10:29 PM IST

FP Staff

0
Whatsapp सुधार करे, फेक मैसेज से निपटना कोई रॉकेट साइंस नहीं है: रविशंकर प्रसाद
Loading...

व्हाट्सऐप पर फैल रही अफवाहों की वजह से मॉब लिंचिंग की बढ़ रही घटनाओं पर केंद्रीय सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की. उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस में जानकारी दी कि सोशल मीडिया साइट्स की भी जिम्मेदारी हो कि वह गलत सूचनाएं फैलाने का जरिया न बनें. प्रसाद ने कहा, 'किसी समय पर किसी क्षेत्र विशेष में किसी खास मुद्दे से जुड़े मैसेजों के व्यापक आदान-प्रदान को चिन्हित करना कोई रॉकेट साइंस नहीं है.'

उन्होंने कहा कि भारत व्हाट्सऐप के लिए दुनिया के सबसे बड़े बाजारों में से एक है. व्हाट्सऐप के यूजर दुनियाभर में हैं. इसलिए व्हाट्सऐप के लिए जरूरी है कि लोगों के सुरक्षात्मक पहलू पर भी व्हाट्सऐप ध्यान दे. आईटी मंत्रालय को व्हाट्सएप्प ने नोटिस का जवाब देकर आश्वस्त किया है कि अफवाहों पर काबू पाने के लिए उचित नियामक तय किए जाएंगे और इस मामले में शिक्षाविदों की भी मदद ली जाएगी.

3 जुलाई को आईटी मंत्रालय को भेजे गए लेटर में व्हाट्सऐप ने लिखा है कि वह लोगों को उन जानकारियों से वाकिफ करा रहा है जिससे लोग सुरक्षित रह सकें. साथ ही वह ग्रुप चैट में भी तब्दीली कर रहा है ताकि फेक मैसेज को फैलने से रोका जा सके. इस संबंध में व्हाट्सऐप ने जवाब दिया है. कंपनी ने कहा कि उसके प्लेटफॉर्म के जरिए इन मैसेज को रोकना एक चुनौती है और इसके लिए उनके और भारत सरकार के बीच पार्टनरशिप की जरूरत है.

अफवाह से 30 लोगों की हो चुकी है मौत

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले दिनों व्हाट्सऐप के जरिए बच्चों को अगवा करने की फेक खबर फैली थी, जिसके बाद 30 लोगों की अबतक मौत हो चुकी है. इस अफवाह से पूरे देश में माहौल भयावह हो चला है. भारत में व्हाट्सऐप का इस्तेमाल करीब 20 करोड़ लोग करते हैं. ऐसे में फेक मैसेज और वीडियो ने पहले से ही डेटा प्राइवेसी को लेकर विवाद में चल रही पैरेंट कंपनी फेसबुक का सिरदर्द बढ़ा दिया है.

फेक न्यूज रोकने के लिए व्हाट्सऐप तैयार कर रहा है रणनीति

व्हाट्सऐप ने कहा, 'हम लोगों को नियमित रूप से बता रहे हैं कि ऑनलाइन सेफ कैसे रहें. उदाहरण के तौर पर हम हर रोज बताते हैं कि कैसे फेक न्यूज को पहचानें. साथ ही हम जल्द ही इस संबंध में एजुकेशनल मटेरियल मुहैया कराएंगे. इस साल पहली बार हमने फैक्ट चेकिंग संगठन के साथ काम करना शुरू कर दिया है. ताकि अफवाहों और फेक खबर को फैलने से रोका जा सके और व्हाट्सऐप का इस्तेमाल करते हुए उसका जवाब दिया जा सके. उदाहरण के तौर पर हमने इस संबंध में मैक्सिको प्रेसीडेंशियल चुनाव के लिए काम किया था. इस दौरान चुनाव से संबंधित जानकारी को लेकर यूजर्स ने हजारों फेक मैसेज भेजे थे. इसके जवाब में हमने यूजर्स को सही जानकारी मुहैया कराई थी और बताया था कि क्या फेक है और क्या सही. हम ब्राजील में इसी प्रोग्राम पर 24 न्यूज कंपनियों के साथ काम कर रहे हैं, उम्मीद है कि इन दोनों मामलों से जो हमें सीख मिली है उसे हम भारत में इस्तेमाल करते हुए फेक न्यूज रोक पाएंगे.'

(साभार न्यूज18)

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi