S M L

पश्चिम बंगालः बंद होंगे RSS के सभी स्कूल, ममता सरकार ने लिया फैसला

शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी के मुताबिक 125 स्कूलों के पास नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट (एनओसी) नहीं है. इन्हें बंद कर दिया गया है

FP Staff Updated On: Feb 22, 2018 02:53 PM IST

0
पश्चिम बंगालः बंद होंगे RSS के सभी स्कूल, ममता सरकार ने लिया फैसला

पश्चिम बंगाल की ममता सरकार वामपंथी राजनीति और दक्षिणपंथी राजनीति से एकसाथ लड़ रही हैं. अब उनकी आरएसएस से भी ठन चुकी है. सरकार ने फैसला लिया है कि आरएसएस से संबंध रखनेवाले सभी स्कूलों को बंद किया जाएगा. इसके पीछे तर्क दिया गया है कि इन स्कलों में धार्मिक कट्टरता की शिक्षा दी जा रही है. राज्य सरकार के सिलेबस से इतर इनकी पढ़ाई होती है. राज्य में ऐसे तत्वों को बढ़ावा नहीं दिया जाएगा.

इंडियन एक्सप्रेस में छपी खबर के मुताबिक शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने बताया कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से जुड़े 125 स्कूलों को बंद करने का फैसला लिया है. राज्य शिक्षा विभाग ने मार्च 2017 में इन स्कूलों को दिए गए एफलिएशन की जांच शुरू की थी.

जांच से पता चला कि ये सभी 125 स्कूल तीन ट्रस्टों सारदा शिशु तीर्थ, सरस्वती शिशु मंदिर और विवेकानंद विद्या विकास परिषद की ओर से चलाए जा रहे हैं. जो विद्या भारती अखिल भारतीय शिक्षा संस्थान से एफलिएडेट है.

शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने कहा कि पश्चिम बंगाल में 400 से ज्यादा स्कूल आरएसएस से जुड़े हैं. लेकिन उनमें से 125 स्कूलों के पास नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट (एनओसी) नहीं है. इन्हें बंद कर दिया गया है.

जरूरत पड़ने पर कोर्ट भी जा सकती है सरकार 

उन्होंने कहा, हम दूसरे स्कूलों की भी जांच कर रहे हैं. उसके बाद हम कोई फैसला लेंगे. हमें 125 नोटिफाइड स्कूलों में से कुछ में छात्रों की कट्टरता के बारे में शिकायत मिली है.

वहीं मदरसा के बारे में चटर्जी ने कहा, मदरसा मेरे अधिकार क्षेत्र में नहीं है. कुछ को मान्यता के लिए जांच में लिया गया है. मुझे सही स्थिति पता नहीं है.

इससे पहले विधानसभा में कहा था कि आरएसएस के स्कूल शिक्षा देने के नाम पर छात्रों को लाठी चलाना सिखा रही है. हम उनके खिलाफ लड़ रहे हैं और जरूरत पड़ने पर हम सुप्रीम कोर्ट तक जाएंगे. उनके खिलाफ राज्य सरकार समुचित कदम उठाएगी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi