S M L

गुजरात की सरकार को बर्खास्त करने वाले देवगौड़ा को भूल गए होंगे वजुभाई वाला

1996 में गुजरात में बीजेपी की सरकार को पीएम देवगौड़ा के सलाह पर राष्ट्रपति ने बर्खास्त कर दिया था, उस समय वजुभाई बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष थे

FP Staff Updated On: May 16, 2018 09:07 PM IST

0
गुजरात की सरकार को बर्खास्त करने वाले देवगौड़ा को भूल गए होंगे वजुभाई वाला

कर्नाटक विधानसभा चुनाव में किसी भी दल को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला है. ऐसे में अब सबकी निगाहें राज्यपाल वजुभाई वाला पर हैं. वजुभाई वाला गुजरात बीजेपी के नेता रहे हैं और एक समय वजुभाई ने अपनी सीट प्रधानमंत्री मोदी के लिए खाली भी की थी. वर्तमान कर्नाटक राज्यपाल मोदी कैबिनेट में वित्त मंत्री भी रह चुके हैं.

वजुभाई वाला जब गुजरात बीजेपी के अध्यक्ष थे तब का एक वाकया उन्हें जरूर याद होगा. 1996 में गुजरात की बीजेपी सरकार को पीएम के सलाह पर राष्ट्रपति ने बर्खास्त कर दिया था. यहां पर दिलचस्प यह है कि उस समय प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा थे. अब खेल पलट चुका है और गेंद वजुभाई वाला के पाले में हैं.

किसी भी पार्टी को पूर्ण बहुमत नहीं मिलने की स्थिति में राज्यपाल सबसे बड़ी पार्टी को सरकार बनाने के लिए निमंत्रित करते हैं. हालांकि हाल के समय में गोवा, मणिपुर और मेघालय में ऐसा नहीं किया. इन तीनों राज्यों में सबसे बड़ी पार्टी कांग्रेस थी लेकिन सरकार बनाने के लिए चुनाव बाद बने गठबंधन को राज्यपाल ने आमंत्रित किया था. इसलिए कर्नाटक के मामले में भी राज्यपाल का रोल अब काफी अहम हो गया है.

कौन हैं कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई वाला

वजुभाई वाला गुजरात के पूर्व बीजेपी लीडर हैं जिन्होंने 2002 में नरेंद्र मोदी के लिए अपनी सीट छोड़ी थी. बाद में उन्होंने मोदी कैबिनेट में वित्त मंत्री के तौर पर काम भी किया था.

गुजरात के राजकोट को कांग्रेस का गढ़ माना जाता था. लेकिन 1984 में बीजेपी ने यह सीट कांग्रेस से छीन ली थी. तबसे लेकर अब तक बीजेपी इस सीट पर चुनाव कभी नहीं हारी है.

वह 2002 तक राजकोट पश्चिम सीट से बीजेपी विधायक रहे. 2002 में उन्होंने बीजेपी के सीएम पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी के लिए सीट खाली कर दी. उपचुनाव में मोदी ने इस सीट पर 45 हजार वोटों से जीत दर्ज की. उनके निकटतम प्रतिद्ंवंद्वी कांग्रेस के अश्विनी महेता को 30,570 वोट मिले थे.

इसके 2002 में हुए विधानसभा चुनाव में मोदी ने मणिनगर सीट से चुनाव लड़ा और वजुभाई वाला ने राजकोट पश्चिम में वापसी की. उन्होंने यहां से तीन और बार 2002, 2007 और 2012 में चुनाव जीते. उन्होंने राज्य की नरेंद्र मोदी सरकार में वित्त मंत्री के तौर पर भी काम किया.

साल 2014 में जब केंद्र में बीजेपी की सरकार बनी और मोदी प्रधानमंत्री बने तब वजुभाई वाला को इनाम के रूप में कर्नाटक का राज्यपाल बना दिया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
कोई तो जूनून चाहिए जिंदगी के वास्ते

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi