S M L

बीजेपी नेता ने मुस्लिम वोटरों को दी धमकी, कहा- वोट दो, वरना भुगतो

रंजीत कुमार श्रीवास्तव ने धमकी के अंदाज में कहा 'मैं मुसलमानों से कह रहा हूं, वोट दे देना. भीख नहीं मांग रहा हूं. अगर वोट दोगे तो सुखी रहोगे.'

FP Staff Updated On: Nov 17, 2017 01:26 PM IST

0
बीजेपी नेता ने मुस्लिम वोटरों को दी धमकी, कहा- वोट दो, वरना भुगतो

यूपी का नगर निकाय चुनाव भी विवादास्पद हो चला है. बीजेपी के एक प्रत्याशी ने मुस्लिम मतदाताओं को खुलेआम धमकी दी है कि वे उसे वोट दें, वरना परिणाम भुगतने को तैयार रहे हैं.

वह भी तब जब योगी सरकार के दो मंत्री सभा के दौरान सामने बैठे हों. ये दो मंत्री थे दारा सिंह चौहान और रमापति शास्त्री. वाकया बाराबंकी जिले के नवाबगंज इलाके की है.

इंडियन एक्सप्रेस में छपी खबर के मुताबिक बीजेपी नेता रंजीत कुमार श्रीवास्तव की पत्नी यहां से प्रत्याशी हैं. 13 नवंबर को एक जनसभा के दौरान आरके श्रीवास्तव ने कहा कि समाजवादी की सरकार नहीं है. यहां पर तुम जाकर डीएम, एसपी से काम नहीं करवा सकते हो.

यहां पर तुम्हारा कोई नेता तुम्हारी मदद नहीं कर सकता है. सड़क, खरंज्जा, नाली नगरपालिका का काम है. दूसरी भी कुछ मुसीबतें तुम्हारे ऊपर आ सकती हैं.

मुसीबत में पड़े तो बीजेपी सरकार बचाने नहीं आएगी 

रंजीत कुमार ने कहा कि 'आज तुम्हारा कोई पैरोकार बीजेपी के अंदर नहीं है. अगर हमारे सभासदों को तुमने बगैर भेदभाव नहीं जिताया, अगर रंजीत साहब की पत्नी को वोट देकर तुमने नहीं जिताया, तो ये जो दूरी तुम बढ़ाने जा रहे हो, अब अगर ये दूरी बनी रही तो, समाजवादी पार्टी बचाने नहीं आएगी. बीजेपी का शासनकाल है, जो कष्ट तुमको नहीं झेलने पड़े थे, वो कष्ट उठाने पड़ सकते हैं.'

वे यहीं पर नहीं रुके, धमकी के अंदाज में कहा 'इसलिए मैं मुसलमानों से कह रहा हूं, वोट दे देना. भीख नहीं मांग रहा हूं. अगर वोट दोगे तो सुखी रहोगे. अगर नहीं दोगे तो जो कष्ट उठाना पड़ेगा, उसका अंदाजा तुमको खुद लग जाएगा.'

दोनों जगह बीजेपी की सरकार रही तो कामकाज में आसानी रहेगी 

इस बयान पर श्रीवास्तव अपना पक्ष रखने के लिए उपलब्ध नहीं हुए. उनके प्रवक्ता ने कहा कि 'उनके कहने का दूसरा मतलब था. पिछली बार मुस्लिमों ने उन्हें वोट नहीं दिया. फिर भी उनके इलाके में काम करवाया गया. बिना भेदभाव के. साथ ही वे ये भी कहना चाहते थे कि इस समय बीेजेपी की सरकार है. अगर चेयरपर्सन बीजेपी का नहीं बना तो कामकाज में दिक्कत आ सकती है. फिर उनकी मदद कोई नहीं कर पाएगा.'

बाराबंकी के जिलाधिकारी अखिलेश तिवारी ने कहा कि अभी तक उन्होंने इस वीडियो को देखा नहीं है. जानकारी मिली है. बहुत जल्द वो इसकी जांच करवाएंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi