S M L

योगी सरकार का फैसला: प्राथमिक शिक्षकों के चयन का बदलेगा मानदंड

प्रतिभागियों को लिखित परीक्षा ही देनी होगी. लिखित परीक्षा के 60 अंक होंगे जबकि 40 अंक पूर्व की शिक्षा में हासिल अंकों के होंगे

Updated On: Sep 26, 2017 05:45 PM IST

Bhasha

0
योगी सरकार का फैसला: प्राथमिक शिक्षकों के चयन का बदलेगा मानदंड

उत्तर प्रदेश सरकार ने प्राथमिक शिक्षकों के चयन को लेकर मानदंडों में बदलाव का महत्वपूर्ण फैसला लिया है. मंगलवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में यह फैसला किया गया. बैठक के बाद कैबिनेट मंत्री और सरकार के प्रवक्ता श्रीकांत शर्मा ने बताया कि उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा अध्यापक सेवा नियमावली में संशोधन किया गया है.

उन्होंने बताया कि चयन के मानदंड बदले गए हैं. शिक्षकों को लिखित परीक्षा ही देनी होगी. लिखित परीक्षा के 60 अंक होंगे जबकि 40 अंक पूर्व की शिक्षा में हासिल अंकों के होंगे.

शर्मा ने बताया कि जिन्होंने टीईटी परीक्षा पास कर ली हो केवल वो प्रतियोगी ही लिखित परीक्षा दे सकेंगे. उन्होंने बताया कि अदालत के आदेशों के अऩुसार शिक्षामित्रों को जो अवसर दिये जाने हैं, दिए जाएंगे. ढाई अंक प्रति वर्ष के भार अंक (वेटेज) का ध्यान रखा जाएगा. अधिकतम वेटेज 25 अंकों का होगा.

मंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार का संकल्प है कि प्राथमिक शिक्षा गुणवत्तापरक हो इसलिए पूरा ध्यान प्राइमरी एजुकेशन पर है.

प्रदेश की बेसिक शिक्षा मंत्री अनुपमा जायसवाल ने बताया कि कुल 1.37 लाख पदों पर भर्ती होगी. शिक्षामित्रों को ढाई अंक सालाना के हिसाब से वेटेज मिलेगा लेकिन वेटेज की सीमा 25 अंक होगी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi