S M L

यूपी चुनाव: बीजेपी के 'विकास' में अब 'हिंदुत्व' का तड़का

उत्तर प्रदेश बीजेपी के हिंदुत्व की राजनीति की प्रयोगशाला रहा है.

Updated On: Jan 30, 2017 08:20 PM IST

Suresh Bafna
वरिष्ठ पत्रकार

0
यूपी चुनाव: बीजेपी के 'विकास' में अब 'हिंदुत्व' का तड़का

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव भारतीय जनता पार्टी के लिए 2019 के लोकसभा चुनाव के संदर्भ में जीवन-मरण का सवाल बन गया है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह लगातार यह कहते रहे हैं कि उत्तर प्रदेश सहित अन्य चार राज्यों में हो रहे विधानसभा चुनावों में बीजेपी विकास के मुद्दे पर ही चुनाव लड़ेगी.

जैसे-जैसे उत्तर प्रदेश में पहले चरण के मतदान की तारीख नजदीक आ रही है, बीजेपी ने अपने प्रचार अभियान में रामबाण औषधि के तौर पर हिंदुत्व का तड़का लगाना शुरु कर दिया है.

बीजेपी के वरिष्ठ नेता अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के सवाल पर यह कहते रहे हैं कि यह चुनावी मुद्दा नहीं है, यह हमारी आस्था का सवाल है.

यह भी पढ़ें: यूपी में अफसरों के 'सियासी प्रेम' का रोग पुराना है

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए जारी किए गए घोषणा-पत्र में बीजेपी ने यह वादा किया है कि यदि उसे बहुमत मिला तो वह अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनाने का प्रयास करेगी.

इसका सीधा अर्थ यह है कि बीजेपी राम मंदिर मुद्दे का चुनावी दोहन करना चाहती है. चुनाव घोषणा-पत्र में गौहत्या और कैराना में हिंदुओं के पलायन का भी प्रमुखता से जिक्र किया गया है.

amit shah

अमित शाह की फेसबुक वॉल से साभार

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने अपने ताजा इंटरव्यू में कहा कि हमारी सरकार संवैधानिक मर्यादा का ख्‍याल रखते हुए मंदिर निर्माण के लिए कटिबद्ध है.

उनका कहना है कि उत्तर प्रदेश की विशेष स्थिति है, जहां वोट बैंक और तुष्टिकरण की राजनीति हुई है.

अमित शाह ने गौहत्या के संदर्भ में ‘गौहत्या’  की बजाय ‘पशुधन’ शब्द का इस्तेमाल कर राजनीतिक चतुराई का परिचय दिया है. यह शब्द ‘डिजीधन’ जैसा ही है.

हिंदू मतों का ध्रुवीकरण

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में हिंदुओं के कथित पलायन के मुद्दे को भी बीजेपी प्रमुखता के साथ उठा रही है. इस संदर्भ में चौंकानेवाली बात यह है कि अमित शाह पार्टी द्वारा गठित एंटी-रोमियो स्क्वॅायड को साम्प्रदायिक नहीं मानते हैं.

सवाल उठता है कि क्या समाज के किसी भी समुदाय को कानून अपने हाथ में लेने का अधिकार है?

यह भी पढ़ें: उत्तरप्रदेश के मुसलमानों का असली नेता कौन?

समाजवादी पार्टी विकास की आड़ में धर्म व जातिगत आधार पर समर्थन जुटाने की कोशिश कर रही है, उसी तरह बीजेपी ने भी विकास की आड़ में हिंदू वोटों के ध्रुवीकरण पर काम शुरु कर दिया है.

दुखद तथ्य यह है कि पाकिस्तान के खिलाफ हुई सर्जिकल स्ट्राइक को भी बीजेपी हिंदू वोट पाने का जरिया बना रही है. सेना को इस तरह राजनीति का औजार बनाना देश के रक्षा हितों के खिलाफ है.

बीजेपी की इन कोशिशों का अर्थ यह है कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी का विकास का मुद्दा पूरी तरह फ्लॉप होता नजर आ रहा है.

बीजेपी में काम का बंटवारा इस तरह किया गया है कि मोदीजी विकास की बात करेंगे और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और संघ परिवार हिंदुत्व से जुड़े मुद्दों के आधार पर ध्रुवीकरण की चुनावी रणनीति को आगे बढ़ाएंगे.

कुछ माह पूर्व अमित शाह ने दलितों को बीजेपी के साथ जोड़ने का विशेष अभियान चलाया था जो सफल नहीं हो पाया.

यह भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश चुनाव का 'द्वापर' कनेक्शन

समाजवादी पार्टी व कांग्रेस के बीच गठबंधन बनने के बाद बीजेपी ने अपनी चुनावी रणनीति में अचानक बदलाव किया है.

बीजेपी को लगा कि एसपी-कांग्रेस गठबंधन बनने के बाद मुस्लिम मतों का तीन तरफा विभाजन संभव नहीं होगा और मुस्लिम मतदाता एकजुट होकर इस गठबंधन के पक्ष में वोट देंगे. उत्तर प्रदेश में बीजेपी की चुनाव रणनीति का मुख्‍य आधार मुस्लिम मतों का विभाजन ही था.

Sultanpur: Uttar Pradesh Chief Minister and Samajwadi Party President Akhilesh Yadav arrives for an election rally in an helicopter in Sultanpur on Tuesday. PTI Photo (PTI1_24_2017_000129B)

कांग्रेस और बीजेपी दोनों ने अपने उम्मीदवारों की लिस्ट जारी कर दी है

यह भी पढ़ें: राहुल को बेटा होता और वो कांग्रेस अध्यक्ष बनता, ये है परिवारवाद

बदले हुए राजनीतिक परिदृश्य में अब बीजेपी की चुनावी रणनीति का मुख्‍य आधार यह है कि मुस्लिम मतों के संभावित ध्रुवीकरण के खिलाफ हिंदू मतों का ध्रुवीकरण करने का प्रयास किया जाए.

इसी ध्रुवीकरण की राजनीति के माध्यम से अतीत में बीजेपी को उत्तर प्रदेश में सरकार बनाने का अवसर मिला है. उत्तर प्रदेश बीजेपी के हिंदुत्व की राजनीति की प्रयोगशाला रहा है. इस वजह से यह मानना नादानी होगी कि हिंदुत्व बीजेपी के एजेंडे से गायब हो जाएगा.

आम बजट 2017 की खबरों को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi