S M L

योगी आदित्यनाथ ने मेरी आंखें खोल दी, यूपी में दलित मुख्यमंत्री के आभारी हैं

28 नवंबर को यूपी के मुख्यमंत्री और बीजेपी के स्टार प्रचारक योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि हनुमान जी दलित थे और वो हमेशा सभी भारतीय समुदायों को जोड़ने के लिए काम करते थे

Updated On: Dec 09, 2018 05:11 PM IST

FP Staff

0
योगी आदित्यनाथ ने मेरी आंखें खोल दी, यूपी में दलित मुख्यमंत्री के आभारी हैं

कुछ दिनों पहले तक रामपुर निवासी कैलाश, विश्वकर्मा भगवान के अनुयायी थे. लेकिन अब उनके अराध्य बदल गए हैं. अब बजरंग बली के प्रति उनकी भक्ति ज्यादा हो गई है. इसके लिए कैलाश, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को धन्यवाद देते हैं जिन्होंने उन्हें 'नई दिव्य ऊर्जा' से मिलाया.

रामपुर के पंजाबी कॉलोनी स्थित मंदिर में पूजा करते हुए कैलाश ने कहा- 'मुझे बताया गया कि हनुमान जी दलित थे. किसी ने मुझे इसके बारे में पहले कभी नहीं बताया. ये हमारे मुख्यमंत्री जी हैं जिन्होंने मुझे इस सच्चाई से अवगत कराया. हम पारंपरिक रूप से भगवान विश्वकर्मा की ही पूजा करते हैं. हालांकि, अब हमारे मुख्यमंत्री ने हमारी आंखें खोल दी हैं. इसलिए, अब हनुमान जी के मंदिर के देखभाल की जिम्मेदारी हम लेना चाहते हैं.'

न्यूज18 के मुताबिक सिर्फ कैलाश ही अकेला नहीं है. शहर में बहुत से लोगों का दावा है कि मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने उनकी 'आंखें' खोल दी हैं. रविवार को वाल्मीकि समुदाय के सदस्यों का एक समूह पहली बार हनुमान मंदिर आया. यहां आकर उन्होंने 'उनके' भगवान को खुश करने के लिए नारे लगाने, जप करने से लेकर आरती की और हर पूजा अनुष्ठान किया.

Ayodhya CM Yogi UP

फाइल फोटो

विवाद तब हुआ जब उन लोगों ने मंदिर के देखरेख की जिम्मेदारी लिए बगैर वहां से जाने से मना कर दिया. इसके बाद जिले के अधिकारियों को बीच बचाव और स्थिति नियंत्रण में लेने के लिए आना पड़ा. लोगों को समझा बुझाकर वहां से हटाया गया. ये कोई पहला मामला नहीं है.

पहले भी हो चुके हैं ऐसे मामले:

तीन दिन पहले, दलित संगठन वाल्मीकि क्रांति दल के सदस्यों ने मुजफ्फरनगर में एक हनुमान मंदिर में प्रवेश किया और कथित तौर पर पुजारी के साथ बदतमीजी की और जबर्दस्ती उन्हें पूजा कक्ष से बाहर निकाल दिया. यहां भी मामले को नियंत्रण में रखने के लिए पुलिस तैनात करनी पड़ी थी.

ये भी पढें: समाज को गायों की हत्या बर्दाश्त नहीं, बुलंदशहर में दिखा इसका असर: VHP

इसी तरह की घटना राज्य की राजधानी में भी घटित हुई. हजरतगंज इलाके में कम से कम 20 दलित सदस्य, 'दलितों के देवता बजरंग बली का मंदिर हूमारा है' के नारे के साथ एक हनुमान मंदिर में घुस गए. इसके बाद एक सदस्य ने कहा कि- 'हम योगी जी से निवेदन करते हैं कि राज्य के सभी हनुमान मंदिर में दलित पुजारी को पूजा कराने की इजाजत दी जाए.'

28 नवंबर को यूपी के मुख्यमंत्री और बीजेपी के स्टार प्रचारक योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि हनुमान जी दलित थे और वो हमेशा सभी भारतीय समुदायों को जोड़ने के लिए काम करते थे. इसके बाद से ही समुदाय के सदस्य हनुमान मंदिरों का दौरा कर रहे हैं.

भीम सेना प्रमुख चंद्रशेखर आजाद ने दलित समुदाय के सदस्यों से देश के सभी हनुमान मंदिरों को 'लेने' का आह्वान किया है.

ये भी पढ़ें: मोदी के आगमन से एक दिन पहले सभी देशों के राजदूत प्रयागराज आएंगे: मौर्य

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi