विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

योगी आदित्यनाथ: सत्ता योगियों के लिए, भोगियों के लिए नहीं

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा मोदी जी जैसा योगी देश की सत्ता में आया है उससे विश्वास जगा है

FP Staff Updated On: Apr 06, 2017 08:37 AM IST

0
योगी आदित्यनाथ: सत्ता योगियों के लिए, भोगियों के लिए नहीं

उत्तर प्रदेश की सत्ता में मुख्यमंत्री की कुर्सी संभालने के बाद से लगातार सुर्खियों में रहने वाले योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को टीवी चैनल को पहला इंटरव्यू दिया. इंटरव्यू में सीएम योगी आदित्यनाथ ने एंटीरोमियो, बूचड़खाना, सांप्रदायिक दंगों से लेकर कई तरह के मुद्दों पर अपनी राय रखी.

डीडी न्यूज को दिए इंटरव्यू में सीएम ने कहा कि राज्य की सत्ता तो कोई योगी ही चला सकता है. मोदीजी जैसा योगी देश की सत्ता में आया है जिससे देश में विश्वास जगा है. मोदी पहले पीएम हैं जिन पर जनता का विश्वास सत्ता में आने के तीन साल बाद पहले से ज्यादा बढ़ा है. उनका जीवन किसी योगी से कम नहीं है, मोदी हमारे आदर्श हैं, हमें उसने प्रेरणा लेकर कार्य करने का सौभाग्य मिला है.

एंटी रोमियो अभियान पर बोले योगी आदित्यनाथ

एंटी रोमियो अभियान के सवाल पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि रोमियो की कोई जाति या संप्रदाय नहीं था, नाम जो हिट करता है उसी को इस्तेमाल किया जाता है. योगी ने कहा कि हमारी बेटियां सुरक्षित रह सके, यूपी में ऐसा वातावरण बनाना चाहते हैं. चुनाव के दौरान सर्वाधिक शिकायत कानून व्यवस्था, पलायन, गुंडागर्दी की सामने आईं थी. महिलाएं कहती थीं बच्चियों को स्कूल नहीं भेज पाती, अपहरण हो जाता है, हमें बुरा लगता है कि हम किस प्रदेश में जी रहे हैं.

मैं गोरखपुर से पांच बार सांसद रहा हूं, हमने वहां आदोलन चलाया भी था, कभी मैं सोचता था कि हमें राजनीति में ही नहीं रहना चाहिए, हम पलायन नहीं करना चाहते थे, पार्टी ने मौका दिया, हमने कहा हम ऐसा वातावरण बनाएंगे जिससे रात के समय में बालिका अपने घर बेझिझक जा सके. एंटी रोमियो को स्पष्ट गाइडलाइन है कि अगर कोई लड़का लड़की जा रहे हैं तो आप उन्हें नहीं छेड़ेंगे. लेकिन अगर कहीं बालिका के साथ छेड़खानी का प्रयास हो रहा है या हो रही है तो फिर कानून उन्हें छोड़ेगा नहीं.

बूचड़खानों पर हमने कोर्ट के आदेश का पालन किया

बूचड़खानों की बंदी पर पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि एनजीटी ने 2015 में अवैध बूचड़खानों को बंद करने के लिए कहा था. ये फरमान चीफ सेक्रेटरी के स्तर पर जारी तो हुआ लेकिन लागू नहीं हो पाया. योगी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट कहता है और आप इसका क्रियान्वयन नहीं करेंगे. हमने कहा ऐसा नहीं चलेगा. हमने कोर्ट के आदेश का पालन किया है.

जो भी डायरेक्शन मिले, उसको लागू किया. स्पष्ट डायरेक्शन जारी किए हैं. अगर कोई मानकों को पूरा करता है तो हमें कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए. लेकिन अगर कोई मानकों को पूरा नहीं करता है तो सख्ती से रोकना चाहिए. कोई भी किसी भी पार्टी का हो, कानून सब पर लागू कीजिए.

हर समुदाय से सीधे संवाद

सांप्रदायिक दंगों के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि मैंने सभी डीएम से कहा है कि वो सीधे संवाद करिए, लोकतंत्र संवाद का नाम है. जिसे जनता ने चुना है उससे सीधे बात करिए. अगर संवाद स्थापित होगा तो संघर्ष अपने आप समाप्त हो जाएगा. कुछ लोग ऐसे लोगों को सत्ता का संरक्षण देते थे. लेकिन अगर जनता से संवाद स्थापित होगा तो प्रदेश दंगामुक्त होगा. कानून व्यवस्था की स्थिति मजबूत होगी. हम समीक्षा करेंगे कहां पर क्या हुआ है. हम प्रदेश में किसी को भी जाति चेहरा देखकर कार्रवाई करने की इजाजत नही देंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi