S M L

योगी सरकार का बड़ा फैसला, यूपी के हर जिले में बना एंटी रोमियो दल

सरकार के शुरुआती दिनों में ध्रुवीकरण के एजेंडा बाकी एजेंडों पर भारी पड़ रहा है

Updated On: Mar 21, 2017 05:51 PM IST

Amitesh Amitesh

0
योगी सरकार का बड़ा फैसला, यूपी के हर जिले में बना एंटी रोमियो दल

सत्ता संभालने के दो दिन बाद ही योगी सरकार ने यूपी के हर जिले में एंटी रोमियो दल का गठन कर दिया है. यूपी के जोनल आईजी एंटी रोमियो दल पर नजर रखेंगे.

योगी के सत्ता संभालने के साथ इस बात के कयास लगाए जाने लगे थे कि एंटी रोमियो स्वायड से लेकर कत्लखाने बंद करने तक का फैसला कब होता है.

चुनाव के दौरान इन मुद्दों को जोर-शोर से उठाकर बीजेपी ने वोटों का ध्रुवीकरण भी खूब किया था.

अमित शाह ने किया था वादा 

ध्रुवीकरण की ये कोशिश बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से लेकर योगी आदित्यनाथ की तरफ से भी की गई थी. प्रधानमंत्री मोदी तक ने भी कई मुद्दों को लेकर ध्रुवीकरण की कवायद की थी. चुनाव प्रचार के दौरान वादा था सत्ता में आते ही मजनूओं की शामत आ जाएगी. अब योगी सरकार उस वादे को अमल में लाती नजर आ रही है.

भगवाधारी और हिंदुत्व के फायर ब्रांड नेता योगी आदित्यनाथ के हाथों में अब प्रदेश की कमान है और जिम्मेदारी है पार्टी के संकल्प पत्र के एजेंडे को लागू करने की. लेकिन, यहां भी योगी बाकी एजेंडे के लागू होने के पहले ही भगवा एजेंडे को लागू करने में लगे हैं. यूपी में एंडी रोमियो स्क्वायड का गठन कर योगी ने इसके संकेत भी दे दिए हैं.

दरअसल, इस तरह की धारणा बन गई है या फिर यूं कहें कि बनाई गई है कि यूपी के भीतर अल्पसंख्यक समुदाय के लड़कों की तरफ से ही बहुसंख्यक हिंदू समुदाय की लड़कियों के साथ छेड़खानी या इस तरह की वारदातों को अंजाम दिया जाता है. इसी धारणा को लेकर बीजेपी ने अपने पक्ष में माहौल बनाया और एंटी रोमियो स्क्वायड बनाकर वोटों का ध्रुवीकरण कर दिया.

सरकार बनने के दो दिन बाद ही बीजेपी सरकार ने अपने वादे पर अब अमल करना शुरू कर दिया है.

योगी के लिए सबसे ऊपर हिंदुत्व का एजेंडा 

बीजेपी की तरफ से हिंदुत्व के एजेंडे के तहत यूपी के भीतर चलने वाले सभी यांत्रिक कत्लखाने को बंद का भरोसा दिया गया था. इस मुद्दे पर भी खूब राजनीति हुई. इस माध्यम से भी ध्रुवीकरण की कवायद की गई. वादा था सत्ता में आते ही बूचड़खाने बंद होंगे.

अब भले ही सरकार की तरफ से अभी कैबिनेट की बैठक नहीं बुलाई गई है और न ही इस पर कोई फैसला लिया गया है. लेकिन, योगी के हाथों में कमान आते ही अबतक चल रहे अवैध कत्लखानों के उपर गाज गिरनी शुरू हो गई है.

बनारस से लेकर इलाहाबाद तक, इलाहाबाद से लेकर गाजियाबाद तक हर जगह अवैध कत्लखाने बंद होने शुरू हो गए हैं. यूपी पुलिस भी इस वक्त सख्त नजर आ रही है.

योगी बार-बार संकल्प पत्र के एजेंडे पर आगे बढ़ते हुए विकास की राह पर आगे चलने की रट लगा रहे हैं. लेकिन, सरकार के शुरूआती दिनों में ध्रुवीकरण के एजेंडा बाकी एजेंडों पर भारी पड़ रहा है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi