विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

यूपी चुनाव 2017: पीएम मोदी की हरदोई रैली की 10 बड़ी बातें

गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हरदोई में जनसभा की.

FP Staff Updated On: Feb 16, 2017 05:03 PM IST

0
यूपी चुनाव 2017: पीएम मोदी की हरदोई रैली की 10 बड़ी बातें

यूपी विधानसभा चुनाव 2017 के तीसरे चरण के मतदान के लिए सभी राजनीतिक दल जोर-शोर से प्रचार कर रहे हैं.

गुरुवार को यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने मैनपुरी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हरदोई में जनसभा की.

पीएम मोदी ने हमेशा की तरह अपने भाषण में यूपी की एसपी सरकार और विधानसभा चुनाव से ठीक पहले बने एसपी-कांग्रेस गठबंधन को निशाने पर लिया.

एक नजर पीएम मोदी के भाषण की 10 मुख्य बातों पर:

+  पूरे उत्तर प्रदेश का विकास कैसे हो? कांग्रेस, बीएसपी, एसपी ने कभी सोचा ही नहीं. जो भी आया अपना वोटबैंक संभालने में ही लगा रहा.

+  उत्तर प्रदेश के आशीर्वाद से गरीब मां का बेटा प्रधानमंत्री बन गया. भगवान कृष्ण उत्तरप्रदेश में पैदा हुए और गुजरात को अपनी कर्मभूमि बना लिया. मैं गुजरात में पैदा हुआ और उत्तर प्रदेश ने मुझे गोद ले लिया.

+  हमारे देश में सबसे अधिक अगर गैंगरेप की घटना कहीं होती है तो उस प्रदेश का नाम है उत्तर प्रदेश.

+  अगर सरकार सही हो, अगर घुड़सवार सही हो तो घोड़ा भी सही दिशा में चलता है. हमारे देश में कुल जितने लोग आर्म्स एक्ट को लेकर रजिस्टर होते हैं. करीब 50 प्रतिशत अकेले उत्तर प्रदेश में होते हैं

+ सबसे ज्यादा देश में हत्यायें उत्तरप्रदेश में होती हैं. अब ये उनका काम बोलता है या कारनामा बोलता है?

modi rally

पश्चिमी यूपी में एक रैली के दौरान पीएम मोदी

+ महिलाओं की सुरक्षा, दलितों पर अत्याचार रोकने की जिम्मेदारी राज्य सरकार की होती है. दलितों पर अत्याचार की 20 प्रतिशत घटना अकेले उत्तर प्रदेश में होती है.

+ अगर उत्तरप्रदेश और बिहार से गरीबी गई तो मान लीजिए हिंदुस्तान से गरीबी चली गई.

+ प्राकृतिक संपत्ति, राज्य और देश की संपत्ति होती है, लेकिन हरदोई में अवैध खनन मुख्य कारोबार हो गया है. ये अवैध खनन राज्य सरकार के इशारे पर होता है.

+ जब मैं प्रधानमंत्री बना कुछ ही दिनों में जो मुख्यमंत्रियों की चिट्ठियां आती थीं, उसमें सबसे ज्यादा चिट्ठी यूरिया मांगने के लिए आती थी. आज मैं बड़े संतोष के साथ कहता हूं, यूरिया के लिए पिछले एक साल से कोई चिट्ठी नहीं आई.

+ शौचालय बनाने के लिए कोई बहुत बड़े इंजीनियरों की जरूरत थी क्या? आज भी मेरी करोड़ों माताएं-बहनें सूरज उगने से पहले बाहर भागती हैं. उन्हें डर होता है सूरज निकल गया तो जा नहीं पाऊंगी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi