विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

मायावती की बीएसपी के हुए मुलायम के खासमखास अंबिका चौधरी

अंबिका चौधरी को बलिया के फेफना सीट से ही चुनाव में उतारने की तैयारी में हैं मायावती

FP Staff Updated On: Jan 21, 2017 04:47 PM IST

0
मायावती की बीएसपी के हुए मुलायम के खासमखास अंबिका चौधरी

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले समाजवादी पार्टी को करारा झटका लगा है. समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री अंबिका चौधरी ने शनिवार को बहुजन समाज पार्टी का दामन थाम लिया.

लखनऊ में हुई बीएसपी सुप्रीमो मायावती की प्रेस कॉन्फ्रेंस में अंबिका चौधरी उनके साथ नजर आए. अंबिका चौधरी मुलायम सिंह यादव और शिवपाल के बेहद नजदीकी माने जाते हैं.

Mayawati with Ambika

अंबिका चौधरी समाजवादी पार्टी के संस्थापक सदस्यों में से हैं (फोटो: पीटीआई)

अखिलेश ने टिकट काट दिया था

शुक्रवार को जारी हुई समाजवादी पार्टी के उम्मीदवारों की लिस्ट में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने उनका टिकट काट दिया था.

अंबिका चौधरी के पार्टी छोड़कर जाने से माना जाने लगा है कि अखिलेश के बढ़ते असर की वजह से शिवपाल गुट के लोग अब अपने लिए नए ठिकानों की तलाश में जुट गए हैं.

बलिया से चुनाव लड़ने वाले अंबिका चौधरी यूपी के राजस्व मंत्री रह चुके हैं. उन्हें अखिलेश ने पद से बर्खास्त कर दिया गया था.

मुलायम के साथ अच्छा नहीं किया

बीएसपी में शामिल होने के मौके पर अंबिका ने कहा कि अखिलेश ने मुलायम के साथ अच्छा नहीं किया. अंबिका चौधरी ने कहा कि उन्होंने सांप्रदायिक ताकतों के खिलाफ लड़ाई लड़ने के लिए बीएसपी का दामन थापा है.

लगातार चार बार से विधायक रहे अंबिका चौधरी ने खुद को बीएसपी का सिपाही बताते हुए मायावती का शुक्रिया अदा किया. उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी धर्मनिरपेक्ष लोगों, मुस्लिमों और दलितों की रक्षा के बजाए परिवार के आपसी झगड़े में उलझी है.

Akhilesh Mulayam 1

चुनाव से ऐन पहले अखिलेश और मुलायम के बीच विवाद से समाजवादी पार्टी को काफी नुकसान पहुंचा है

मायावती बलिया के फेफना सीट से ही अंबिका को चुनाव में उतारने की तैयारी कर चुकी हैं. अंबिका चौधरी काफी समय से अखिलेश विरोधी रुख के लिए जाने जाते हैं.

समाजवादी पार्टी में मुलायम और अखिलेश के बीच जारी खींचतान पर उन्होंने कहा था कि बीजेपी ने सीएम पर जादू-टोना करवा दिया है. अंबिका ने कहा था कि वह हमेशा मुलायम का साथ देंगे क्योंकि नेता और बाप बदले नहीं जाते.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi