S M L

यूपी में चौथे चरण में होगी धनबल-बाहुबल की असली लड़ाई

चौथे चरण के लिए सभी पार्टियों ने धनबल और बाहुबल से मजबूत प्रत्याशियों को टिकट दिया है

Updated On: Feb 20, 2017 10:52 PM IST

Ravishankar Singh Ravishankar Singh

0
यूपी में चौथे चरण में होगी धनबल-बाहुबल की असली लड़ाई

उत्तर प्रदेश में तीसरे चरण का चुनाव खत्म हो गया है. अब चौथे चरण के लिए 23 फरवरी को वोट डाले जाने हैं.

इस चरण में होने वाले चुनाव के लिए सभी पार्टियों ने ज्यादातर करोड़पति, बाहुबली और आपराधिक बैकग्रांउड के लोगों को मैदान में उतारा है. चौथे चरण में 53 विधानसभा सीटों के लिए हो रहे चुनाव में कुल 680 उम्मीदवार मैदान में हैं.

उत्तर प्रदेश इलेक्शन वॉच और एडीआर (एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स) के अनुसार चौथे चरण में 116 प्रत्याशियों (17 प्रतिशत) के ऊपर आपराधिक मुकदमें चल रहे हैं. 95 यानी 14 प्रतिशत उम्मीदावारों पर गंभीर आपराधिक मामले चल रहे हैं.

680 में से 189 उम्मीदवार करोड़पति हैं. कुल उम्मीदवारों में से 171 उम्मीदवार ऐसे हैं जिनके पास पैन कार्ड नहीं है.

करोड़पति उम्मीदवारों की भरमार

चौथे चरण के लिए सभी पार्टियों ने धनबल और बाहुबल से मजबूत प्रत्याशियों को टिकट दिया है. एडीआर की रिपोर्ट के अनुसार चौथे चरण में बीएसपी के 45, बीजेपी के 36, एसपी के 26, कांग्रेस के 17, आरएलडी के 6 और 25 निर्दलीय प्रत्याशी करोड़पति हैं.

एडीआर के अनुसार चौथे चरण में कुल उम्मीदवारों में से 171 (25 प्रतिशत) उम्मीदवारों के पास पैन कार्ड नहीं हैं.

680 उम्मीदवारों में से 406 उम्मीदवारों ने आयकर रिटर्न नहीं भरा है. 28 उम्मीदवारों ने अपनी संपत्ति एक करोड़ से ज्यादा घोषित की है पर आयकर विवरण घोषित नहीं किया है.

पूरे 680 उम्मीदवारों में से एक उम्मीदवार ऐसा है, जिसने अपनी संपत्ति शून्य बताई है. प्रतापगढ़ से एसपी के उम्मीदवार इंद्राकर मिश्रा ने चुनाव आयोग को दिए हलफनाफे में अपनी संपत्ति शून्य बताई है.

तीन उम्मीदवार ऐसे हैं, जिन्होंने अपनी संपत्ति काफी कम बताई है. इन उम्मीदवारों ने अपने शपथपत्र में कुल संपत्ति का ब्यौरा नहीं दिया है. कुल संपत्ति की गणना उम्मीदवारों द्वारा शपथपत्र में घोषित किए गए विवरण के आधार पर की जाती है.

कुल 98 राजनीतिक दलों के उम्मीदवार 

चौथे चरण में 98 राजनीतिक दलों के उम्मीदवार अपना किस्मत आजमा रहे हैं, जिनमें 6 राष्ट्रीय दल, 5 क्षेत्रीय दल, 87 गैरमान्यता प्राप्त दलों और 200 निर्दलीय उम्मीदवार भी मैदान में हैं.

एडीआर के अनुसार पहले चरण में 20 फीसदी, दूसरे और तीसरे चरण में लगभग 14 प्रतिशत उम्मीदवारों पर आपराधिक मुकदमें दर्ज थे.

चौथे चरण में होने वाले चुनाव में 14 प्रतिशत उम्मीदवारों ने अपने ऊपर गंभीर आरोप के मामले घोषित किए हैं. जिनमें हत्या, हत्या के प्रयास, अपहरण और महिलाओं के ऊपर अत्याचार और अन्य मामले शामिल हैं.

विभिन्न राजनीतिक दलों के 7 उम्मीदवारों ने अपने ऊपर आईपीसी की धारा 302 से संबंधित मामले को घोषित किया है. 18 उम्मीदवारों ने अपने ऊपर हत्या के प्रयास करने के मामले को घोषित किया है. 10 उम्मीदवारों ने अपने ऊपर अपहरण से संबंधित आरोप को घोषित किया है.

किस दल में कितने बाहुबली

चौथे चरण में बीजेपी के 48 उम्मीदवार मैदान में हैं. जिसमें 19 यानी 40 प्रतिशत उम्मीदवारों पर आपराधिक मामले और 14 यानी 29 प्रतिशत उम्मीदवारों पर गंभीर आपराधिक मामले चल रहे हैं.

बीएसपी के 53 प्रत्याशियों में से 12 पर यानी 23 प्रतिशत पर आपराधिक मामले और 10 यानी 19 प्रतिशत पर गंभीर आपराधिक मामले चल रहे हैं.

एसपी के 33 में से 13 यानी 39 प्रतिशत उम्मीदवारों पर आपराधिक मामले और 10 यानी 30 प्रतिशत उम्मीदवारों पर गंभीर आपराधिक मामले चल रहे हैं.

कांग्रेस के 25 में से 8 यानी 32 प्रतिशत उम्मीदवारों पर आपराधिक मामले और 5 यानी 20 प्रतिशत उम्मीदवारों पर गंभीर आपराधिक मामले चल रहे हैं.

आरएलडी के 39 में से 9 यानी 23 प्रतिशत उम्मीदवारों पर आपराधिक मामले और 8 यानी 21 प्रतिशत उम्मीदवारों पर गंभीर आपराधिक मामले चल रहे हैं.

200 निर्दलीय उम्मीदवारों में से 24 यानी 12 प्रतिशत उम्मीदावारों पर आपराधिक और 19 यानी 10 प्रतिशत पर गंभीर आपराधिक मामले चल रहे हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi