S M L

विवादित जमीन सौदे के पीछे रॉबर्ट वाड्रा नहीं, राहुल गांधी हैं असली चेहरा: स्मृति ईरानी

बीजोपी नेता ने आरोप लगाया कि भ्रष्टाचार में जीजा-साले की संजय भंडारी, सी. सी. थंपी और एच. एल. पाहवा के साथ क्या मिलीभगत है, इस पर अब राहुल गांधी को देश की जनता को जवाब देना होगा

Updated On: Mar 14, 2019 02:10 PM IST

Bhasha

0
विवादित जमीन सौदे के पीछे रॉबर्ट वाड्रा नहीं, राहुल गांधी हैं असली चेहरा: स्मृति ईरानी

भारतीय जनता पार्टी ने बुधवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और उनकी बहन प्रियंका गांधी वाड्रा पर जमीन सौदे से जुड़े कथित घोटाले में शामिल होने का आरोप लगाया. बीजेपी ने दावा किया कि विपक्षी पार्टी ने भ्रष्टाचार को संस्थागत रूप देने का काम किया है, जो अब पारिवारिक भ्रष्टाचार को परिभाषित करता है.

मीडिया रिपोर्ट का हवाला देते हए केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता स्मृति ईरानी ने  कहा कि राबर्ट वाड्रा विवादास्पद जमीन सौदे के संबंध में महज मुखौटा हैं और उनके साले राहुल गांधी असली चेहरा हैं.

वहीं, इन आरोपों को खारिज करते हुए कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि हार को भांपते हुए प्रधानमंत्री मोदी और उनके चहेते पूरी तरह से बेबुनियाद और फर्जी आरोप लगा रहे हैं. पार्टी ने कहा कि यह बेरोजगारी और कृषि संकट जैसे मुद्दों से ध्यान भटकाने की कोशिश है.

स्मृति ईरानी ने आरोप लगाया कि कांग्रेस देश में भ्रष्टाचार की जननी रही है. अब तक यह माना जा रहा था कि भ्रष्टाचार के मामले में हथियार डीलर संजय भंडारी के संबंध केवल रॉबर्ट वाड्रा से ही थे लेकिन अब देश की जानकारी में यह भी आ गया है कि ये संबंध रॉबर्ट वाड्रा के साले साहब राहुल गांधी तक भी पहुंचते हैं.

उन्होंने दावा किया, ‘UPA सरकार के दौरान पेट्रोलियम और रक्षा सौदों की जांच में पैसों का लेन-देन न केवल रॉबर्ट वाड्रा तक पहुंचा, बल्कि अब देश यह भी जान गया है कि जीजा जी (राबर्ट वाड्रा) के साथ साले जी (राहुल गांधी) भी इस फैमिली पैकेज भ्रष्टाचार में संलिप्त हैं.' केंद्रीय मंत्री ने जोर देकर कहा कि 70 सालों में संस्थागत भ्रष्टाचार कांग्रेस की देन रहा है और पिछले 24 घंटों में समाचार माध्यमों से सामने आए तथ्य दर्शाते हैं कि कैसे गांधी-वाड्रा परिवार ने पारिवारिक भ्रष्टाचार को परिभाषित किया है.

उन्होंने कहा कि नए खुलासों से देश की जनता अब समझने लगी है कि रक्षा सौदों में राहुल गांधी विशेष रुचि क्यों ले रहे हैं. रक्षा सौदों में राहुल की विशेष रुचि महज राजनीति नहीं बल्कि आर्थिक और पारिवारिक भी है. स्मृति ईरानी ने कहा कि पूर्ववर्ती UPA सरकार में रक्षा से संबंधित सौदे और पेट्रोलियम संबंधित सौदे में संजय भंडारी और सी सी थंपी के तार जुड़े हैं.

बीजोपी नेता ने आरोप लगाया कि भ्रष्टाचार में जीजा-साले की संजय भंडारी, सी. सी. थंपी और एच. एल. पाहवा के साथ क्या मिलीभगत है, इस पर अब राहुल गांधी को देश की जनता को जवाब देना होगा.

उन्होंने दावा किया कि प्रवर्तन निदेशालय द्वारा एच. एल. पाहवा के यहां तलाशी के दौरान जब्त दस्तावेज से पता चलता है कि राहुल गांधी ने पाहवा से हरियाणा में औने-पौने दाम में कई एकड़ जमीन खरीदी थी.

उन्होंने आरोप लगाया कि एच. एल. पाहवा के साथ जमीन की खरीद-फरोख्त में श्रीमती वाड्रा (प्रियंका गांधी) से संबंधित कागजात भी पाए गए हैं.

बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने भी लगाए आरोप 

बाद में BJP प्रवक्ता संबित पात्रा ने दावा किया कि कांग्रेस नेता और वकील कपिल सिब्बल संजय भडारी की तरफ से अदालत में पेश हुए थे, इससे विवादित हथियार डीलर और राहुल गांधी के बीच के ‘नापाक गठजोड़ का खुलासा’ होता है.

कांग्रेस ने किया पलटवार

आरोपों को खारिज करते हुए कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने सवाल किया कि पांच वर्षों से मोदी सरकार ने मामले की जांच क्यों नहीं कराई? सुरजेवाला ने  कहा, 'हार नजदीक देखकर मोदी जी लड़खड़ा रहे हैं , भटका भी रहे हैं. लेकिन 2019 में भी वह तीन प्रान्तों की तरह हारने वाले हैं.' उन्होंने कहा, ' मुझे लगता है कि राहुल गांधी से नफरत और बदले की आग में मोदी जी और स्मृति ईरानी जी इतने अंधे हो गए हैं कि वो सन्तुलन खो बैठे हैं और रोजाना बेसिर-पैर के आरोप लगा रहे हैं.' कांग्रेस नेता ने कहा, 'आपकी पांच साल से सरकार है. आपने अब तक जांच क्यों नहीं की? सारी जांच एजेंसियां उनके पास हैं तो फिर 2019 में आरोप लगाने के लिए इंतजार क्यों कर रहे थे?' उन्होंने कहा कि सच्चाई यह है कि उनकी बातों में कोई दम नहीं है.

स्मृति ईरानी पर तंज कसते हुए सुरजेवाला ने कहा, 'किसी अयोग्य और अशिक्षित व्यक्ति के मंत्री बनने पर यही सब होता है.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi