S M L

'हम राम नहीं जो दलितों के साथ खाना खाएंगे तो वो पवित्र हो जाएंगे'

केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने दलितों के घर जाकर खाना खाने वाले नेताओं पर हमला बोला है. उन्होंने कहा है कि हम भगवान राम नहीं हैं कि दलितों के साथ भोजन करेंगे, तो वो पवित्र हो जाएंगे

Updated On: May 02, 2018 10:58 AM IST

FP Staff

0
'हम राम नहीं जो दलितों के साथ खाना खाएंगे तो वो पवित्र हो जाएंगे'
Loading...

केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने दलितों के घर जाकर खाना खाने वाले नेताओं पर हमला बोला है. उन्होंने कहा है कि हम भगवान राम नहीं हैं कि दलितों के साथ भोजन करेंगे, तो वो पवित्र हो जाएंगे. जब दलित हमारे घर आकर साथ बैठकर भोजन करेंगे, तब हम पवित्र हो पाएंगे. मध्यप्रदेश के छतरपुर के नौगांव के ददरी गांव मे पहुंची उमा भारती ने मंच से कहा कि दलित को जब मैं अपने घर अपने हाथों से खाना परोसूंगी तब मेरा घर धन्य हो जाएगा.

उमा भारती यहां संत रविदास के मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम में शामिल होने के लिए पहुंची थीं. धार्मिक आयोजन के साथ सामाजिक समरसता भोज का आयोजन भी किया गया था. कार्यक्रम के बाद उन्होंने पूरा घटना के बारे में विस्तार से अपने ट्वीट के जरिए बताया. उन्होंने कहा कि मुझे हरशू महाराज ने बताया कि अब कार्यक्रम के बाद में सामाजिक समरसता भोज भी है, जिसकी जानकारी मुझे पहले से नहीं थी. मुझे ढाई बजे तक पपौरा, जिला टीकमगढ़, मध्यप्रदेश पहुंचना था जो कि यहां से 150 किलोमीटर दूर है और श्री विद्यासागर महाराज के दर्शन करने थे. इसलिए मैं भोज में भाग नहीं ले पाई.

एक अन्य ट्वीट में केंद्रीय मंत्री ने कहा कि मंच के पीछे खड़े पत्रकारों ने मुझसे पूछा कि आप दलितों के साथ भोजन नहीं करना चाहती? मैं दंग रह गई और साथ ही यह रहस्य भी खुल गया कि ऐसी बात भी बनाई जा सकती है.

इस पर उन्होंने ट्वीट कर कहा कि वो जमाना चला गया जब दलितों के घर में बैठकर भोजन करना सामाजिक समरसता का सूत्र था. अब तो राजनीति में जो दलितों और पिछड़ों के साथ भेदभाव होता है, उसमें सामाजिक समरसता लानी पड़ेगी. मैं दलित वर्गों के लोगों को अपने घर में, अपने साथ डाइनिंग टेबल पर बिठाकर भोजन करती हूं और मेरे परिवार के सदस्य उन्हें भोजन परोसते हैं.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi