S M L

संत कबीर दिलाएंगे बीजेपी को 2019 लोकसभा चुनावों में जीत!

28 जून को होने वाली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली को लेकर माना जा रहा है कि मिशन 2019 में जुटी बीजेपी के अभियान में इस बार कबीर नाम भी जुड़ जाएगा

Updated On: Jun 26, 2018 08:32 PM IST

FP Staff

0
संत कबीर दिलाएंगे बीजेपी को 2019 लोकसभा चुनावों में जीत!

संत कबीर नगर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली 28 जून को होने जा रही है. बीजेपी में इसे लेकर युद्धस्तर पर तैयारियां चल रही हैं. बता दें संत कबीर नगर यानी मगहर वही जगह है, जहां तमाम सामाजिक मान्यताओं को तोड़ते हुए संत कबीर दास ने अंतिम सांस ली थी. दरअसल कहा जाता था कि मगहर में मरने वाले को नरक मिलता है.

इसी पर कबीर दास ने कहा था कि...

क्या काशी क्या ऊसर मगहर, राम हृदय बस मोरा, जो कासी तन तजै कबीरा, रामे कौन निहोरा.

(यानी काशी हो या फिर उजाड़ मगहर मेरे लिए (कबीर) दोनों ही बराबर हैं क्योंकि मेरे हृदय में राम बसे हैं. अगर कबीर की आत्मा काशी में इस तन को त्यागकर मुक्ति प्राप्त कर ले तो इसमें राम का कौन सा एहसान है.)

पीएम मोदी की हर महीने यूपी में एक रैली की तैयारी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली को लेकर माना जा रहा है कि मिशन 2019 में जुटी बीजेपी के अभियान में इस बार कबीर नाम भी जुड़ जाएगा. इसका उसे लाभ मिलेगा. दरअसल कबीर को दलितों, पिछड़ों, शोषितों, साम्प्रदायिक सौहार्द और सामाजिक एकता के करीब माना जाता रहा है. मगहर से रैली के बाद पीएम मोदी के चुनाव अभियान का चक्र शुरू हो जाएगा. बीजेपी की योजना है कि इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हर महीने यूपी में कम से कम एक रैली हो.

इसी क्रम में अगली रैली आजमगढ़ में होने की भी बात है. जुलाई में होने वाली इस रैली में कहा जा रहा है कि पीएम नरेंद्र मोदी पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का शिलान्यास कर सकते हैं. उधर पीएम मोदी की रैली की तैयारियों को लेकर बीजेपी ने पूरी ताकत झोंक रखी है. खुद प्रदेश अध्यक्ष डॉ महेंद्र नाथ पांडेय और प्रदेश महामंत्री संगठन सुनील बंसल मगहर का दौरा कर चुके हैं. रैली को लेकर डॉ महेंद्र नाथ पांडेय कहते हैं कि कबीरदास जी समता और समरसता के प्रतिनिधि संत हैं. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी संतकबीर दास जी को नमन और वंदन करने मगहर आ रहे हैं.

दलित राजनीति को लेकर स्थिति मजबूत कर रही बीजेपी

दरअसल लोकसभा उपचुनावों में गठबंधन के सामने करारी शिकस्त के बाद से बीजेपी ने जातिगत राजनीति पर स्थिति मजबूत करनी शुरू कर दी है. इसी क्रम में सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी पिछले दिनों दलित आरक्षण को लेकर विपक्ष पर हमला किया. उन्होंने कहा कि अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय और जामिया में दलित आरक्षण पर कोई नहीं बोलता. इसी क्रम में पिछले दिनों बीजेपी की तरफ से एससी वित्त एवं विकास निगम अध्यक्ष लालजी निर्मल ने प्रमोशन में आरक्षण को लेकर समाजवादी पार्टी पर हमला किया. उन्होंने कहा कि यूपी में लाखों कार्मिक रिवर्ट कर दिए गए थे. सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने विधानसभा चुनाव के मैनिफेस्टो में घोषित किया था कि वह प्रमोशन के आरक्षण के खिलाफ हैं. उन्हें अब अपनी स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए.

पीएम की रैली से बढ़ेगी विपक्ष की परेशानी: बीजेपी

बीजेपी के प्रवक्ता शलभ मणि त्रिपाठी कहते हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लोग सुनना चाहते हैं, नजदीक से देखना चाहते हैं. खुद पीएम लोगों की भावनाओं का सम्मान करते हैं. इसीलिए वह खुद जनता के बीच पहुंच रहे हैं. उन्होंने कहा कि इसी तरह से अब लगातार पीएम मोदी कार्यक्रमों, रैलियों में हिस्सा लेते रहेंगे. जाहिर है कि भविष्य में विपक्ष के लोगों के लिए परेशानी बढ़ेगी. वहीं कबीर के नाम और दलित राजनीति पर बीजेपी के बढ़ते कदम पर शलभ मणि ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी सभी महापुरुषों का सम्मान करती है. हमारे लिए वे किसी भी जाति या धर्म के नहीं है.

(न्यूज18 के लिए अजयेंद्र कुमार की रिपोर्ट)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi