S M L

त्रिपुरा में मोदी लहर से ज्यादा, माणिक विरोधी लहरः BJP

बीजेपी नेता ने कहा कि राज्य में 12 लाख लोगों को बीपीएल कंपनियों ने लूट लिया है. सरकार के मंत्री इस फ्रॉड में शामिल रहे हैं

Updated On: Feb 17, 2018 09:21 PM IST

FP Staff

0
त्रिपुरा में मोदी लहर से ज्यादा, माणिक विरोधी लहरः BJP

त्रिपुरा में विधानसभा चुनाव प्रचार समाप्त हो चुका है. लोग मतदान का इंतजार कर रहे हैं. सियासी समीकरण लगाए जा रहे हैं, आरोप प्रत्यारोप अभी तक जारी है. इस बीच बीजेपी के राज्य प्रभारी सुनील देवधर का कहना है कि यह चुनाव किसी के सत्ता हासिल करने से ज्याद महत्वपूर्ण किसी को सत्ता से हटाने से है.

आरएसएस के प्रचारक से बीजेपी नेता बने देवधर वही आदमी हैं जिन्होंने नरेंद्र मोदी के लिए वाराणीस में चुनवी रूपरेखा तैयार की थी. लोकसभा चुनाव खत्म होते ही 52 साल के इस नेता ने अपना कार्यक्षेत्र बदला और पहुंच गए वाममोर्चा के अंतिम किला को फतह करने त्रिपुरा.

न्यूज 18 में छपी खबर के मुताबिक 18 फरवरी को चुनाव होने जा रहा है. इस बीच उन्होंने पर्दे के पीछे रहते हुए माणिक सरकार के लिए बड़ी चुनौती खड़ी कर दी है. उन्होंने कहा कि ये बात सही है कि मोदी लाओ से ज्यादा माणिक सरकार हटाओ की लहर चल रही है.

बीपीएल कंपनियों ने राज्य में 12 लाख लोगों को लूटा है 

उनके मुताबिक त्रिपुरा में लोगों के जीवनस्तर में किसी तरह का सुधार नहीं हुआ. गरीब और गरीब होते चले गए. यही वजह है कि इस राज्य में कुल 67 प्रतिशत बीपीएल परिवार हैं.

बीजेपी नेता ने कहा कि राज्य में 12 लाख लोगों को बीपीएल कंपनियों ने लूट लिया है. सरकार के मंत्री इस फ्रॉड में शामिल रहे हैं. उनपर कार्रवाई करने के बजाए माणिक सरकार अपनी कुर्सी बचाने में लगे रहे. जनता में इस बात को लेकर बहुत आक्रोश है.

वहीं बीजेपी की ओर से सीएम प्रत्याशी के सवाल पर उन्होंने कहा कि त्रिपुरा की जनता को इससे मतलब नहीं था. वह केवल माणिक सरकार को हटाना चाहती है. बीजेपी अगर सत्ता में आती है तो विधायक मिलकर अपना नेता चुनेंगे. वही राज्य का सीएम होगा.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi