S M L

पार्टी में 'शो पीस' बनाए जाने से नाराज ओडीशा बीजेपी से दूसरा इस्तीफा

पूर्व केंद्रीय मंत्री रे, राउरकेला के मौजूदा विधायक हैं. जबकि पूर्व राज्य कैबिनेट मंत्री महापात्रा केंद्रपाड़ा के पटकुरा विधानसभा क्षेत्र से कई बार चुनाव जीत चुके हैं

Updated On: Nov 30, 2018 06:35 PM IST

FP Staff

0
पार्टी में 'शो पीस' बनाए जाने से नाराज ओडीशा बीजेपी से दूसरा इस्तीफा

ओडिशा बीजेपी के दो कद्दावर नेता ने पार्टी का दामन छोड़ दिया. दिलीप रे और बिजॉय महापात्रा ने शुक्रवार को पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को अपना इस्तीफ भेज दिया. अपने इस्तीफे में उन्होंने राज्य के प्रति पार्टी की बेरुखी और उनके खिलाफ पार्टी में चल रही 'गंदी राजनीति' को जिम्मेदार बताया.

राउरकेला के मौजूदा विधायक रे ने ओडिशा विधानसभा अध्यक्ष प्रदीप कुमार अमात को अपना इस्तीफा सौंपा.

पत्र में कहा गया है, 'पार्टी में हमारे साथ फर्नीचर की तरह व्यवहार नहीं किया जा सकता. जबकि वहीं 'रूटलेस' लोग बड़ी बड़ी बातें करते हैं और अपने को भगवान साबित करते रहते हैं. नाम न बताने की शर्त पर एक बीजपी नेता ने कहा कि पत्र में केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान पर आरोप लगाए गए हैं.

नेता ने बताया, 'रुटलेस शब्द धर्मेंद्र प्रधान के लिए इस्तेमाल किया लगता है. प्रधान मध्य प्रदेश से राज्यसभा सदस्य हैं. ऐसा माना जा रहा है कि 2019 में होने वाले विधानसभा चुनावों में उन्हें बीजेपी के मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किए जाने की उम्मीद है.'

ओडिशा की स्थिति को लेकर लिखे थे कई पत्र:

छत्तीसगढ़ के साथ महानदी जल विवाद, ब्राह्मनी नदी पर एक दूसरा पुल, राउरकेला में एक सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल और ओडिआ युवाओं के लिए नौकरियों जैसे मुद्दों का हवाला देते हुए शाह को लिखे पत्र में कहा गया है, 'हमें यह बताते हुए अफसोस हो रहा है कि ओडिशा में पार्टी की बुरी स्थिति के बारे में बार बार बताने के बाद भी न तो आप और न ही किसी वरिष्ठ केंद्रीय पार्टी के नेता ने परामर्श, समीक्षा या सुधारात्मक उपायों को करने का प्रयास किया.'

पत्र में आरोप लगाया गया है, 'हमारे द्वारा भले मन से दिए गए सुझावों को कुछ उदासीन, स्व केंद्रित व्यक्तियों द्वारा खतरे के रूप में देखा गया. उन्होंने गंदी साजिश का सहारा लिया और हमारे क्षेत्रों में अभियान शुरू कर हमें बदनाम करने की कोशिश की गई.'

इस पत्र के शुरू में बीजेडी को बीजेडी को "एक शॉकर" के रूप में इस पत्र में भगवा पार्टी के 40,000 मतों से भगवा पार्टी के नुकसान का भी उल्लेख है। यह कहता है कि पार्टी ने "पंचायत स्तर पर आयोजित सभी उपनिवेशों को खो दिया, और अधिक, कई आत्मनिर्भर लंबा नेताओं के जेब में"।

पूर्व केंद्रीय मंत्री रे, राउरकेला के मौजूदा विधायक हैं. जबकि पूर्व राज्य कैबिनेट मंत्री महापात्रा केंद्रपाड़ा के पटकुरा विधानसभा क्षेत्र से कई बार चुनाव जीत चुके हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi