S M L

UP: सरकारी बंगले को बचाने के लिए मायावती ने खेला 'कांशीराम' कार्ड

सुप्रीम कोर्ट ने पिछले दिनों सभी पूर्व मुख्यमंत्रियों को उनका मिला सरकारी बंगला इस महीने की आखिरी तारीख तक खाली करने का आदेश जारी किया था

FP Staff Updated On: May 21, 2018 04:19 PM IST

0
UP: सरकारी बंगले को बचाने के लिए मायावती ने खेला 'कांशीराम' कार्ड

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद उत्तर प्रदेश में पूर्व मुख्यमंत्रियों के सरकारी बंगले खाली करने की कवायद शुरू हो गई है. राज्य संपत्ति विभाग ने सभी पूर्व मुख्यमंत्रियों को सरकारी बंगले इस महीने के आखिर तक खाली करने का नोटिस जारी किया है.

पूर्व मुख्यमंत्री मायावती के बारे में बताया जा रहा है वो अपने सरकारी आवास 13-ए माल एवेन्यू को छोड़कर 9 माल एवन्यू में शिफ्ट होंगी. 9 माल एवेन्यू निजी मकान है और 13-ए के पास ही स्थित है. लेकिन मायावती अपने अलॉट 13-ए के बंगले को छोड़ने के मूड में नहीं दिख रही हैं. सोमवार को उनके सरकारी बंगले के सामने कांशीराम विश्रामालय स्थल का बोर्ड लगा दिया गया है.

माना जा रहा है कि बीएसपी ने 13-ए मॉल एवेन्यू को छोड़ने का फैसला जरूर किया है, लेकिन उन्होंने अपने वर्तमान बंगले के सामने कांशीराम जी यादगार विश्रामालय स्थल लिखवा कर यह संदेश देने की कोशिश की है कि सरकार इस सरकारी बंगले को ना छेड़े. ऐसी भई खबरें हैं कि पीडब्ल्यूडी अपना कैंप कार्यालय मायावती के सरकारी बंगले को बना सकता हैं.

UP Ex CM Residence

सुप्रीम कोर्ट ने पिछले दिनों अपने आदेश में सभी पूर्व मुख्यमंत्रियों को 'आम आदमी' मानकर उन्हें अलॉट सरकारी आवासों को खाली करने का आदेश दिया था

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद मायावती का बदला नया ठिकाना

फिलहाल मायावती लखनऊ में 9 माल एवन्यू में शिफ्ट हो रही हैं, यहां तेजी से रेनोवेशन का काम किया जा रहा है. रिपोर्ट के मुताबिक मायावती के नए बंगले 9 मॉल एवेन्यू में नई टाइल्स लगाई जा रही हैं. यहां साफ-सफाई का काम भी कराया जा रहा है. समझा जा रहा है कि अगले 1 से 2 दिन में मायावती के सभी सामान 13-ए मॉल एवेन्यू से 9, मॉल एवेन्यू में शिफ्ट कर दिया जाएगा.

वहीं देश के गृह मंत्री और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री राजनाथ सिंह लखनऊ के विपुल खंड में शिफ्ट हो रहे हैं. जबकि राजस्थान के राज्यपाल और यूपी के ही पूर्व सीएम कल्याण सिंह अपने पोते और मंत्री संदीप सिंह के सरकारी आवास में शिफ्ट होंगे.

दूसरी तरफ अखिलेश यादव और मुलायम सिंह यादव को लेकर अभी संशय बरकरार है. उम्मीद की जा रही है कि दोनों पूर्व मुख्यमंत्री अपने लिए पॉश इलाके गोमती नगर या फिर हजरतगंज से सटे हुए इलाके में बंगले का इंतजाम करेंगे.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार मुलायम सिंह ने पिछले हफ्ते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से लंबी मुलाकात की थी. कयास लगाए गए थे कि उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के फैसले के संदर्भ में अपने सरकारी आवास को लेकर यह मुलाकात की थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
International Yoga Day 2018 पर सुनिए Natasha Noel की कविता, I Breathe

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi