live
S M L

सुबह में BJP में शामिल हुई थीं कांग्रेस नेता की पत्नी, शाम तक 'घर' लौटीं

रेड्डी ने कहा कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं की भावनात्मक प्रतिक्रियाओं को देखते हुए उन्होंने रुकने का फैसला किया क्योंकि वो बहुत दुखी थे

Updated On: Oct 12, 2018 01:31 PM IST

FP Staff

0
सुबह में BJP में शामिल हुई थीं कांग्रेस नेता की पत्नी, शाम तक 'घर' लौटीं

तेलंगाना की सामाजिक कार्यकर्ता और कांग्रेस के सीनियर नेता की पत्नी पद्मिनी रेड्डी गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गई थीं, लेकिन हैरान करने वाला कदम उठाते हुए उन्होंने कुछ घंटों में ही अपना फैसला वापस ले लिया.

राअविभाजित आंध्रप्रदेश में तत्कालीन मुख्यमंत्री एन. किरण कुमार रेड्डी के मंत्रिमंडल में उपमुख्यमंत्री रह चुके सी दामोदर राजनरसिम्हा की पत्नी पद्मिनी रेड्डी ने अपने इस कदम पर सफाई देते हुए कहा कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं की भावनात्मक प्रतिक्रियाओं को देखते हुए उन्होंने रुकने का फैसला किया क्योंकि वो बहुत दुखी थे.

न्यूज18 की रिपोर्ट के मुताबिक, गुरुवार की रात में रेड्डी ने कहा कि 'पार्टी के कार्यकर्ता उनके बीजेपी जॉइन करने पर बहुत दुखी थे. मैंने इस प्रतिक्रिया की उम्मीद नहीं की थी. मुझसे उनका दुख देखा नहीं जा रहा, इसलिए मैंने ये फैसला वापस ले लिया है.'

उनके इस फैसले के बाद तेलंगाना बीजेपी के प्रवक्ता कृष्ण सागर राव ने एक बयान में कहा कि पद्मिनी रेड्डी ने खुद पार्टी जॉइन किया था और अब जा रही हैं, पार्टी उनके दोनों फैसलों का सम्मान करती है.

बता दें कि पद्मिनी रेड्डी गुरुवार को ही सुबह बीजेपी में शामिल हुई थीं. बीजेपी तेलंगाना के पेज से उनके स्वागत की तस्वीर भी शेयर की गई थी.

बीजेपी में पद्मिनी रेड्डी का स्वागत करते हुए राज्य इकाई के अध्यक्ष के. लक्ष्मण ने कहा था कि मेडक क्षेत्र में सामाजिक कार्यों और महिलाओं के बीच कार्यों के माध्यम से उन्होंने काफी ख्याति हासिल की है.

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने एक ऐसी महिला को देश का रक्षा मंत्री (निर्मला सीतारमण) बनाया है जिनकी शादी तेलुगु परिवार में हुई है और उन्होंने एक अन्य महिला को लोकसभा अध्यक्ष (सुमित्रा महाजन) बनाया है. पद्मिनी रेड्डी एनडीए सरकार के अच्छे कार्यों की सराहना करती हैं इसलिए वह पार्टी में शामिल हुई हैं.

बता दें कि तेलंगाना में 7 दिसंबर को विधानसभा चुनाव होने हैं. केसीआर ने 6 सितंबर को राज्य की सरकार को भंग करके समय से पहले चुनावों की मांग की थी. अब राज्य में वक्त से नौ महीने पहले ही चुनाव होने हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi