S M L

मुजफ्फरपुर कांड की आंच से दहकेगी दिल्ली, बिहार सरकार के खिलाफ तेजस्वी दिल्ली में देंगे धरना

बिहार के मुजफ्फरपुर के बालिका आश्रय गृह में 34 नाबालिग लड़कियों के साथ हुए यौन उत्पीड़न के मामले को लेकर बिहार में लगी आग अब दिल्ली तक पहुंच गई है.

Amitesh Amitesh Updated On: Aug 03, 2018 07:52 PM IST

0
मुजफ्फरपुर कांड की आंच से दहकेगी दिल्ली, बिहार सरकार के खिलाफ तेजस्वी दिल्ली में देंगे धरना

बिहार के मुजफ्फरपुर के बालिका आश्रय गृह में 34 नाबालिग लड़कियों के साथ हुए यौन उत्पीड़न के मामले को लेकर बिहार में लगी आग अब दिल्ली तक पहुंच गई है. इस मुद्दे को लेकर मुजफ्फरपुर से पटना तक बवाल मचा हुआ है. बिहार भर में इस मुद्दे पर सियासी बवाल मचा हुआ है. बिहार विधानसभा से लेकर दिल्ली में संसद में भी यह मामला उठा है. लेकिन, अब पटना की सड़कों पर उतरने के बाद विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने दिल्ली की सड़कों पर भी धरना देने का फैसला किया है.

आरजेडी नेता और आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजस्वी यादव शनिवार को दिल्ली के जंतर-मंतर पर मुजफ्फरपुर कांड को लेकर धरना देने की तैयारी में हैं. इस धरना के बाद कैंडेल मार्च भी निकाला जाएगा. आरजेडी की कोशिश इस मुद्दे पर बिहार की नीतीश सरकार को घेरने की है. कोशिश है कि बिहार में जेडीयू और बीजेपी की गठबंधन सरकार को दिल्ली में भी घेरा जाए. इसी बहाने सभी विपक्षी दलों को भी इस मुद्दे पर साथ लाने की कोशिश हो रही है.

हालांकि अभी यह तय नहीं है कि तेजस्वी के धरना-प्रदर्शन और कौन-कौन से नेता शामिल होंगे. लेकिन, कयास लगाए जा रहे हैं कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल इस धरना और मार्च में शामिल होकर सरकार के खिलाफ विपक्षी एकता को दिखा सकते हैं.

Nitish Kumar resigns

दरअसल, बिहार में मुख्य विपक्षी दल आरजेडी ने मुजफ्फरपुर की घटना को लेकर नीतीश सरकार पर हमला बोल दिया है. नीतीश की सुशासन बाबू वाली छवि पर तंज भी कसा जा रहा है. ऐसा होना लाजिमी भी है, क्योंकि नीतीश कुमार ने आरजेडी के जंगल-राज का हवाला देकर ही बिहार की सत्ता हासिल की थी. अब जबकि उनके कार्यकाल का पंद्रह साल (इस पूरे कार्यकाल को जोड़कर) होने जा रहा है तो उनकी सरकार में इस तरह के दुष्कर्म के मामले को लेकर भी सवाल खड़े होंगे ही.

हालांकि मामले की गंभीरता को देखते हुए बिहार सरकार ने इस मामले की सीबीआई जांच की सिफारिश भी कर दी है. लेकिन, दोषियों की सांठ-गांठ और इसमें नीतीश सरकार में मंत्री मंजू वर्मा के पति पर इस मामले  को लेकर आरोप लगने के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के ऊपर भी सवाल खड़े हो रहे हैं. विपक्ष की तरफ से इस मामले में मंत्री मंजू वर्मा पर भी कार्रवाई करने का दबाव बनया जा रहा है.

खासतौर से इस पूरे मामले में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की चुप्पी को लेकर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने लगातार हमला बोला था. लेकिन, उनकी चुप्पी इस मुद्दे पर बरकरार थी. लेकिन, अब तेजस्वी के पटना के बाद दिल्ली पहुंचकर इस मामले पर धरना देने के फैसले के बाद मुख्यमंत्री ने भी इस मुद्दे पर कडी कार्रवाई की बात की है.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आखिरकार मुजफ्फरपुर रेप कांड पर चुप्पी तोड़ दी है. उन्होंने कहा है कि मुझे इस तरह की घटना से बहुत दुख पहुंचा और पीड़ा हुई है. जिन लोगों ने गड़बड़ की है उन्हें बख्शा नहीं जाएगा. दोषी को पकड़ा जाएगा. समाज के सुधार के लिए सबको साथ मिलकर काम करना होगा.

tejaswi yadav

बिहार सीएम ने कहा कि मुजफ्फरपुर में ऐसी घटना घट गई की हम शर्मसार हो गए. सीबीआई मामले की जांच कर रही है. हाईकोर्ट इसकी मॉनिटरिंग करे.

नीतीश कुमार ने भले ही अपनी तरफ से इस मुद्दे पर बयान दे दिया है लेकिन, अभी इस मुद्दे को लेकर राजनीति और तेज होने वाली है. अगर तेजस्वी को दिल्ली में दूसरे विपक्षी दलों का साथ मिल गया तो फिर आरजेडी इस मुद्दे पर और हमलावर हो जाएगी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi