S M L

तमिलनाडु संकट: दोनों गुटों से बहुमत साबित करने को कह सकते हैं राज्यपाल

एआईएडीएमके विधायकों को संबोधित करने के दौरान शशिकला की आंखों से आसू छलक पड़े

Updated On: Feb 13, 2017 11:46 PM IST

IANS

0
तमिलनाडु संकट: दोनों गुटों से बहुमत साबित करने को कह सकते हैं राज्यपाल

तमिलनाडु में मुख्यमंत्री की कुर्सी को लेकर ओ.पन्नीरसेल्वम और एआईएडीएमके की महासचिव वी. शशिकला के बीच छिड़ी राजनीतिक घमासान जारी है.

राज्यपाल विद्यासागर राव दोनों में से किसे मौैका देंगे इसे लेकर कयासों का दौर जारी है. माना जा रहा है कि राज्यपाल दोनों गुटों को सदन में बहुमत साबित करने के लिए कह सकते हैं. सोमवार को शशिकला ने पार्टी विधायकों के समर्थन का दावा करते हुए कहा कि ‘विरोधियों की किसी भी संख्या से निपटने’ के लिए उनके पास पर्याप्त बहुमत है.

शशिकला की यह टिप्पणी सुप्रीम कोर्ट के उनके खिलाफ आय से अधिक संपत्ति के मामले में फैसला देने से एक दिन पहले सामने आई है. मंगलवार को अगर सुप्रीम कोर्ट अपने फैसले में उन्हें दोषी ठहराती है, तो मुख्यमंत्री बनने के शशिकला के प्रयास को तगड़ा झटका लगेगा.

जयललिता, शशिकला और उनके दो रिश्तेदारों को कर्नाटक हाईकोर्ट के दोषमुक्त करने के फैसले को कर्नाटक सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दे रखी है.

Sasikala-Panneerselvam

तमिलनाडु में पन्नीरसेल्वम और शशिकला के बीच सत्ता की जंग जारी है

वहीं, पन्नीरसेल्वम गुट इस बात पर जोर दे रहा है कि एआईएडीएमके के अधिकतर विधायकों को शशिकला ने एक रिसॉर्ट में कैद कर रखा है. जबकि, सरकारी वकील ने मद्रास हाईकोर्ट से कहा है कि विधायकों को अवैध रूप से कैद कर के रखा नहीं गया है.

विशेष सत्र बुलाकर बहुमत साबित करें

अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने कथित तौर पर राज्यपाल सी. विद्यासागर राव से कहा है कि वह विधानसभा का एक विशेष सत्र बुलाएं और पन्नीरसेल्वम और शशिकला को बहुमत साबित करने के लिए कहें.

पन्नीरसेल्वम के समर्थकों के अनुसार, कार्यवाहक मुख्यमंत्री अधिकारियों के साथ एआईएडीएमके के विधायकों को कथित तौर पर नजरबंद कर रखने के मुद्दे पर चर्चा कर सकते हैं.

एआईएडीएमके के एक नेता ने आईएएनएस से कहा कि उनके पास इस बात के सबूत हैं कि कुछ विधायकों को चेन्नई से 90 किलोमीटर दूर एक रिसॉर्ट में रहने को मजबूर किया जा रहा है.

शशिकला के खिलाफ मोर्चा खोलने के बाद से ही पन्नीरसेल्वम अपने कार्यालय नहीं गए थे. उन्होंने आरोप लगाया है कि उन्हें इस्तीफा देने पर मजबूर किया गया.

sasikala-panneerselvam-new

पन्नीरसेल्वम और शशिकला गुट अपने साथ विधायकों के बहुमत का दावा कर रहे हैं

शशिकला के मुख्यमंत्री बनने का रास्ता साफ करने के लिए बीते पांच फरवरी को पन्नीरसेल्वम ने तमिलनाडु के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था.

अम्मा दिल में रहती हैं

सोमवार को शशिकला लगातार तीसरे दिन एआईएडीएमके विधायकों से मिलने बीच रिसॉर्ट पहुंचीं. विधायकों को संबोधित करते हुए शशिकला सबके सामने रो पड़ीं. उन्होंने कहा कि अम्मा उनके दिल में रहती हैं.

इससे पहले, उन्होंने अपने सैकड़ों समर्थकों से कहा कि मुख्यमंत्री पद उनके लिए महत्वपूर्ण नहीं है. शशिकला ने दोहराया कि 5 दिसंबर, 2016 को जयललिता के निधन के बाद उन्होंने ही ओ. पन्नीरसेल्वम को मुख्यमंत्री बनने के लिए कहा था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi