S M L

पीएमओ के सामने तमिलनाडु के किसानों ने किया न्यूड प्रोटेस्ट

सूखा-पीड़ित किसान पिछले तीन हफ्तों से दिल्ली में पीएमओ के सामने प्रदर्शन कर रहे हैं

Updated On: Apr 10, 2017 03:31 PM IST

FP Staff

0
पीएमओ के सामने तमिलनाडु के किसानों ने किया न्यूड प्रोटेस्ट

तमिलनाडु के सूखा-पीड़ित किसान पिछले तीन हफ्तों से इंसानी खोपड़ियों के साथ दिल्ली में पीएमओ के सामने प्रदर्शन कर रहे हैं. अब सोमवार को अपना आंदोलन एक अलग ही मुकाम पर ले गए.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात न हो पाने से नाराज किसानों ने विरोध प्रदर्शन के रूप में पीएम आवास के पास कपड़े उतारकर दौड़ लगाई.

इन किसानों का आरोप है कि दिल्ली के डीसीपी उन्हें प्रधानमंत्री ऑफिस ले गए थे और वादा किया था कि नरेंद्र मोदी उनसे मुलाकात करेंगे. राहुल गांधी और साउथ के कुछ एक्टर्स भी इन किसानों को समर्थन देने के लिए उनसे मिल चुके हैं.

पीएम मोदी से मिलने आए थे किसान

दरअसल किसानों के एक नेता प्रधानमंत्री को ज्ञापन सौंपने के लिए पीएमओ पहुंचा थे. दिल्ली पुलिस उन्हें इस काम के लिए खुद जंतर-मंतर से लाई थी. हालांकि पीएम दफ्तर में मौजूद नहीं थे लेकिन किसान करीब दस मिनट तक पीएमओ के भीतर रहे.

बाहर आने पर उनके दल का एक सदस्य अचानक पुलिस के वाहन से कूद गया और निर्वस्त्र होकर सड़क पर दौड़ने लगा. इसी तरह उसके तीन अन्य साथी भी कपड़े उतारकर नॉर्थ ब्लॉक की सड़कों पर उतर आए.

ये भी पढ़ें: आखिर जंतर-मंतर पर किसान नरमुंड लिए प्रदर्शन क्यों कर रहे हैं?

प्रदर्शन को लगभग 1 महीने होने को हैं

tamilnadu farmers

खोपड़ियों के साथ कर रहे थे प्रदर्शन

ये किसान पिछले 28 दिनों से जंतर-मंतर पर धरना दे रहे हैं. इस दौरान मीडिया का ध्यान खींचने के लिए आंदोलनकारियों ने कई बार खोपड़ियों के साथ धरना देने से लेकर मरे हुए सांपों को जीभ पर रखकर प्रदर्शन जैसे तरीके अपनाए हैं.

कड़े विरोध पर अड़े

लगभग 25 किसान भूख हड़ताल पर हैं. आगे उनका कहना है कि सरकार ने उनकी मांगें पूरी नहीं की तो आगे सर मुंडवा कर विरोध करेंगे. इनमें कई महिलाएं भी हैं. किसानों की मांग है कि सूखे की वजह से हुए नुकसान के लिए सरकार इन्हें मुआवजा दे. इनका कर्ज भी माफ किया जाए.

राहुल गांधी ने की थी मुलाकात 

राहुल गांधी इन किसानों से मिलने गए थे. उन्होंने कहा था, ‘किसान यहां लंबे समय से बैठे हैं. लेकिन न तो सरकार और न ही प्रधानमंत्री उनकी सुन रहे हैं. तमिलनाडु के लोगों एवं किसानों की बात सुननी चाहिए. प्रधानमंत्री उनके साथ बात की पहल नहीं कर उनका अपमान कर रहे हैं.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi