S M L

खाड़ो नदी पर बांध बनाने के लिए आमरण अनशन पर बैठे भारत-नेपाल के लोग

खाड़ो नदी पर बांध न होने की वजह से दोनों देशों में रहने वाली लाखों की आबादी प्रभावित होती है

FP Staff Updated On: May 21, 2018 06:31 PM IST

0
खाड़ो नदी पर बांध बनाने के लिए आमरण अनशन पर बैठे भारत-नेपाल के लोग

बिहार के सुपौल जिले के नेपाल सीमावर्ती इलाके में मिलकर भारत और नेपाल के लोग आमरण अनशन पर बैठे हैं. दरअसल दोनों देशों के लोग आमरण अनशन पर बैठकर खाड़ो नदी पर बांध बनाने की मांग कर रहे हैं. भारत-नेपाल के बीच बहने वाली खाड़ो नदी लगभग 20 सालों से इलाके में प्रलय का कारण बनती है. इस नदी में आने वाली बाढ़ की वजह से भारत-नेपाल के सरकारी कार्यालय सहित सीमा सुरक्षा बल के कैंप और लाखों की आबादी प्रभावित होती है. बाढ़ की वजह से किसानों के खेत बालू में तब्दील हो जाते हैं, जिससे उनको बड़ी आर्थिक क्षति पहुंचती है.

खाड़ो नदी पर बांध न होने की वजह से दोनों देशों में रहने वाली लाखों की आबादी प्रभावित होती है. बाढ़ की वजह से हर साल कई लोगों को अपनी जान गवानी पड़ती है. यहां के बच्चों की शिक्षा पर भी बाढ़ का बुरा प्रभाव पड़ता है, इसलिए नदी पर बांध बनाने के लिए अब दोनों देशों को लोग मिलकर आमरण अनशन पर बैठ गए हैं.

बाढ़ से प्रभावित होने वाले भारत-नेपाल के स्थानीय निवासी पिछले कई वर्षों से नदी पर पुल बनाने की मांग कर रहे हैं, लेकिन दोनों देशों की सरकारें इसे लेकर गंभीर नजर नहीं आती. सरकारों की इसी संवेदनहीनता के खिलाफ अब दोनों देशों के लोग मिलकर आमरण अनशन पर बैठे हैं. वहीं पाल भारत गांव पालिका द्वारा नदी पर बांध निर्माण का आश्वासन दिया गया है, अनशन पर बैठे लोगों का कहना है कि जब तक उन्हें ठोस आश्वासन नहीं मिलता वो अनशन खत्म नहीं करेंगे.

(न्यूज 18 से रिपोर्ट)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
International Yoga Day 2018 पर सुनिए Natasha Noel की कविता, I Breathe

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi