S M L

माल्या के बयान के बाद स्वामी का सवाल- लुकआउट नोटिस को किसने बदलवाया?

स्वामी ने ट्वीट कर कहा है कि 24 अक्टूबर, 2015 को माल्या के खिलाफ जारी लुकआउट नोटिस को 'ब्लॉक' से 'रिपोर्ट' में शिफ्ट किया गया, जिसके मदद से विजय माल्या 54 लगेज आइटम लेकर भागने में सफल रहे

Updated On: Sep 13, 2018 04:25 PM IST

FP Staff

0
माल्या के बयान के बाद स्वामी का सवाल- लुकआउट नोटिस को किसने बदलवाया?

भगोड़े शराब व्यापारी विजय माल्या का लंदन कोर्ट के बाहर दिया गय एक बयान भारत के सियासी गलियारे में हंगामा मचा रहा है. माल्या ने बुधवार को कहा था कि भारत छोड़ने से पहले मैंने वित्त मंत्री अरुण जेटली से मुलाकात की थी और उनसे इस मामले को सुलझाने के लिए भी कहा था.

माल्या का यह बयान बीजेपी के गले में किसी फांस की तरह अटक गया है. विपक्षी दल तो निशाना साध ही रहे हैं साथ ही साथ पार्टी के भीतर से भी आवाजें उठने लगी हैं. बीजेपी के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने ट्वीट कर दो सवाल उठाएं हैं.

स्वामी ने अपने ट्वीट में लिखा कि विजय माल्या के देश से भागने से जुड़े अब दो तथ्य हमारे सामने आ रहे हैं, जिससे कोई इनकार नहीं कर सकता. पहला- 24 अक्टूबर, 2015 को माल्या के खिलाफ जारी लुकआउट नोटिस को 'ब्लॉक' से 'रिपोर्ट' में शिफ्ट किया गया. जिसके मदद से विजय माल्या 54 लगेज आइटम लेकर भागने में सफल रहे. दूसरा- विजय माल्या ने संसद के सेंट्रल हॉल में वित्त मंत्री अरुण जेटली को बताया था कि वह लंदन के लिए रवाना हो रहे हैं.

इसके अलावा, माल्या के बुधवार के बयान के बाद स्वामी का एक पुराना ट्वीट भी सोशल मीडिया में चक्कर काट रहा है. स्वामी का यह ट्वीट लगभग 3 महीने पुराना है. स्वामी ने इस ट्वीट में कहा था कि माल्या देश छोड़ कर नहीं जा सकते क्योंकि एयरपोर्ट पर उनके खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी हो चुका था. स्वामी ने अपने ट्वीट में दावा किया है कि इसके बाद वो दिल्ली आए और किसी ताकतवर शख्स से मुलाकात के बाद विदेश जाने से रोकने वाले नोटिस को बदला गया. उन्होंने उस ट्वीट में सवाल पूछा है कि वो शख्स कौन था जिसने लुकआउट नोटिस को कमजोर करने में मदद की.

इससे पहले गुरुवार को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पीएल पुनिया ने कहा कि उन्होंने शराब कारोबारी विजय माल्या को देश से भागने के दो दिन पूर्व संसद में वित्त मंत्री से बात करते हुए देखा था.

पुनिया ने कहा कि जब माल्या के देश से भागने की खबर आई तो उससे दो दिन पहले ही मैंने संसद के केंद्रीय कक्ष में उसे जेटली जी के साथ बातचीत करते देखा था. मैंने देखा कि दोनों खड़े होकर बातचीत कर रहे हैं. इससे पहले, बुधवार रात को भी पुनिया ने ट्वीट करके यह दावा किया था और जेटली पर ‘झूठ बोलने’ का आरोप लगाया था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi