S M L

देश पर थोपना चाहता है आरएसएस अपने विचार: सिताराम येचुरी

गांधी जी की मौत पर आरएसएस के लोगों ने खुशियां मनाईं और मिठाइयां बाटीं

Updated On: Feb 28, 2017 06:40 PM IST

FP Staff

0
देश पर थोपना चाहता है आरएसएस अपने विचार: सिताराम येचुरी

मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के महासचिव सीताराम येचुरी ने मंगलवार को भारतीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) पर आरोप लगाया कि वह देश पर अपने 'प्रतिगामी विचारों' को थोपने का प्रयास कर रहा हैं.

मार्क्‍सवादी नेता ने केंद्रीय गृहराज्यमंत्री किरण रिजिजू के उस बयान की निंदा की, जिसमें उन्होंने कहा है कि, जब भारतीय सैनिक मारे जाते हैं, तो वामपंथी जश्न मनाते हैं.

येचुरी ने ट्वीट किया, ‘महात्मा गांधी के मारे जाने के बाद किसने जश्न मनाया था.’

इसके बाद उन्होंने आरएसएस के तत्कालीन चीफ एम.एस.गोलवलकर से तत्कालीन केंद्रीय गृहमंत्री द्वारा कही गई बात को तलब किया, ‘गांधी जी की मौत पर आरएसएस के लोगों ने खुशियां मनाईं और मिठाइयां बाटीं.’­

येचुरी की यह टिप्पणी आरएसएस से संबध अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) द्वारा रामजस कॉलेज में एक सेमीनार को रद्द करवाने और उसके बाद दिल्ली विश्वविद्यालय में विद्यार्थियों, शिक्षकों और पत्रकारों पर कथित तौर पर हमले करने के बाद आई है.

दिल्ली विश्वविद्यालय में बीते बुधवार को एबीवीपी और ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन (आइसा) के कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हुई थी. इस घटना के एक दिन पहले ही एबीवीपी ने रामजस कॉलेज में आयोजित सेमीनार को जबरन रद्द करा दिया था, जिसमें जेएनयू के छात्र उमर खालिद को आमंत्रित किया गया था.

माकपा नेता ने दिल्ली विश्वविद्यालय की छात्रा गुरमेहर कौर को निर्देश देते हुए कहा, ‘कानून का शासन सुनिश्चित करने के लिए मंत्री संविधान की शपथ लेने के बाद काम करते हैं, लेकिन मौजूदा स्थिति में उन्होंने 20 साल की एक लड़की को धमकी दी और उसका अपमान किया है.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi