S M L

मिशन 2019: राम मंदिर पर शिवसेना का नया नारा- हर हिंदू की यही पुकार, पहले मंदिर फिर सरकार

2019 के लोकसभा चुनाव से पहले शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने राम मंदिर निर्माण को नया नारा दिया है

Updated On: Nov 19, 2018 10:43 AM IST

FP Staff

0
मिशन 2019: राम मंदिर पर शिवसेना का नया नारा- हर हिंदू की यही पुकार, पहले मंदिर फिर सरकार

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे 24 और 25 नवंबर को अयोध्या दौरे पर जाने वाले हैं. इस बीच उन्होंने राम मंदिर पर एक नया नारा देकर मंदिर निर्माण की मांग की है. दरअसल अपने दौरे से पहले तैयारियों का जायजा लेने के लिए उद्धव ठाकरे ने रविवार को पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ बैठक की थी. इस बैठक में महाराष्ट्र के बाहर से भी पार्टी के कई नेता शामिल थे. अपने इस खास दौरे के लिए ठाकरे ने अपने पार्टी कार्यकर्ताओं से 24 नवंबर को पूरे राज्य में महाआरती का आयोजन करने लिए कहा है. साथ ही 24 नवंबर को अयोध्या में सरयू पूजा  का आयोजन करने के लिए भी कहा है.

क्या है नया नारा?

बैठक के बाद एक प्रेस कॉन्फ्रेंस हुई जिसमें उद्धव ठाकरे ने नारा दिया, 'हर हिंदू की यही पुकार, पहले मंदिर फिर सरकार.'

दरअसल शिवसेना पिछले महीने हुई दशहरा रैली के बाद से ही राम मंदिर निर्माण की मांग जोरदार तरीके से उठाती हुई नजर आ रही है. इसके साथ ही पार्टी समय-समय पर बीजेपी पर भी निशाना साधती आई है यह कहकर कि सत्ता में आने के चार साल बाद भी बीजेपी राम मंदिर निर्माण में फेल हो गई है.

इस मुद्दे पर बात करते हुए शिवसेना ने कहा कि राम मंदिर निर्माण के लिए अध्यादेश लाने में हो रही देरी से ये साफ पतचा चलता है कि केंद्र और उत्तर प्रदेश में बीजेपी सरकार मंदिर निर्माण के लिए इच्छुक नहीं है. पार्टी के वरिष्ठ नेता और पार्टी के सांसद संजय राउत ने कहा कि अगर एनडीए सरकार ‘तीन तलाक’ पर प्रतिबंध लगाने के लिए अध्यादेश ला सकती है, तो फिर देश के लिए ‘गौरव का विषय’ राम मंदिर के निर्माण की बाधाओं को हटाने के लिए यह रास्ता क्यों नहीं अपनाती.

उन्होंने कहा कि 2014 में बीजेपी को सत्ता में आने में मदद करने वाले आरएसएस को मंदिर के निर्माण के लिए अध्यादेश लाने में विफल रहने को लेकर एनडीए सरकार को हटा देना चाहिए.

राउत का बयान शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे की अयोध्या की 25 नवंबर की प्रस्तावित यात्रा के मद्देनजर आया है. उनकी इस यात्रा के दौरान पार्टी इस मुद्दे पर अपने अगले कदम का खुलासा कर सकती है.

चुनावों के लिए कभी नहीं किया राम मंदिर के मुद्दे का इस्तेमाल 

राउत ने कहा, ‘हमने चुनावों के लिए कभी राम मंदिर के मुद्दे का इस्तेमाल नहीं किया लेकिन जो लोग ऐसा करना चाहते हैं उनके बारे में हमें लगता है कि वे राम मंदिर नहीं चाहते हैं. अगर आप राम मंदिर बनाना चाहते हैं तो फिर कानून लाइए.’

शिवसेना ने कहा, ‘किसी भी राजनीतिक दल और चुनाव के लिए ना तो राम मंदिर और ना ही बाबरी मस्जिद एजेंडा होना चाहिए. हमें कोई श्रेय नहीं चाहिए.आप ही श्रेय लीजिए लेकिन राम मंदिर बना दीजिए.’

राउत ने कहा, ‘अगर हम पिछले 25 साल में मंदिर के लिए एक भी ईंट नहीं रख सके, तो हम कौन-सा मंदिर बनाने जा रहे हैं.’

उन्होंने कहा कि राम मंदिर के निर्माण के लिए विश्व हिंदू परिषद, आरएसएस, बजरंग दल, शिवसेना को एक साथ बैठना चाहिए और इस मुद्दे पर अपना रुख स्पष्ट करना चाहिए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi