S M L

महिलाएं असुरक्षित और गाय बचाने में लगी है सरकार: उद्धव ठाकरे

ठाकरे ने अविश्वास प्रस्ताव पर कहा, 'सरकार को मतदान करना होता तो इतने दिनों तक हम सरकार के निर्णय पर हमला क्यों बोलते?

Updated On: Jul 23, 2018 11:16 AM IST

FP Staff

0
महिलाएं असुरक्षित और गाय बचाने में लगी है सरकार: उद्धव ठाकरे

शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने एक बार फिर केंद्र की बीजेपी सरकार पर निशाना साधा है. ठाकरे ने बीजेपी पर तंज कसते हुए कहा है कि देश की महिला असुरक्षित हैं और सरकार गायों को बचाने में लगी है. उद्धव ठाकरे ने सामना को दिए इंटरव्यू में कई मुद्दों पर बात की.

उन्होंने कहा 'मैं पिछले तीन-चार वर्षों से देश में चल रहे हिंदुत्व को स्वीकार नहीं करता हूं. यह हिंदुत्व का विचार हमारा नहीं है. हमारी महिला आज असुरक्षित हैं, और आप गायों की रक्षा कर रहे हैं.' ठाकरे ने कहा, 'आप लोगों को उनके खाने की प्राथमिकताओं के लिए निशाना नहीं बना सकते.'

उद्धव ठाकरे ने कहा, 'शिवसेना सरकार पर अंकुश रखने का काम कर रही है.' उन्होंने कहा, शिवसेना जनता की दोस्त है, किसी एक पार्टी की मित्र नहीं है. समय समय पर मुझे अगर कोई बात पसंद ना आए तो उस समय मैं बोलता हूं और आगे भी बोलूंगा ही. ठाकरे ने कहा, 'बोलने का ही नतीजा है कि बीते 4 वर्षों में शिवसेना ने की जो भूमिका रही अब वही लागू हो रही है.'

जनता के लिए किया बीजेपी का विरोध

उन्होंने कहा, हमने सरकार की किसी भूमिका या नीति का विरोध किया तो वह देश और जनता के हित के लिए किया है. उन्होंने कहा, 'जो भी किया वह खुलेआम किया. साथ दिया, वह भी खुलेआम दिया और विरोध किया तो वह भी खुलेआम.'

अविश्वास प्रस्ताव पर क्या बोले उद्धव ठाकरे

ठाकरे ने अविश्वास प्रस्ताव पर कहा, 'सरकार को मतदान करना होता तो इतने दिनों तक हम सरकार के निर्णय पर हमला क्यों बोलते? आज जो सब लोग मिल कर बोल रहे हैं, उसकी भूमिका शिवसेना ने ही पहले रखी. बात चाहे नोटबंदी की हो, जीएसटी की हो, आज भी सभी लोग एक होकर बोल रहे हैं, उस समय इसके खिलाफ बोलने का साहस किसी के पास नहीं था, यह साहस सिर्फ शिवसेना के पास है.'

ठाकरे ने कहा, ' वाह-वाह करने वालों और चाटुकारिता करने वालों को मैं मित्र नहीं मानता. सरकार में हिस्सेदारी होने के बाद भी देश की जनता के लिए अगर कुछ गलत कदम उठाए जाएंगे तो पूरी ताकत के साथ उसे बताना मैं फर्ज समझता हूं और वह मैं करुंगा. '

अमित शाह ने दिया जवाब

बता दें, अविश्वास प्रस्ताव के दौरान संसद में शिवसेना की गैर हाजिरी के बाद से बीजेपी और शिवसेना के बीच खाई बढ़ गई है. दरअसल अविश्वास प्रस्ताव से एक दिन पहले शिवसेना ने व्हिप जारी कर सरकार के समर्थन में वोट देने को कहा था. कुछ ही घंटों बाद शिवसेना अपने फैसले से पलट गई और कहा कि अविश्वास प्रस्ताव वाले दिन वह कार्यवाही में शामिल नहीं होगी. इसके बाद रविवार को ही बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने भी कार्यकर्ताओं तक संदेश पहुंचा दिया है कि आगामी चुनावों में अकेले दम पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर लें.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi