S M L

शिवपाल यादव की पार्टी को मिला चुनाव चिन्ह, अब 'चाबी' से खोलेंगे सियासत का दरवाजा

शिवपाल यादव की प्रगतिशील समाजवादी पार्टी(लोहिया) को चुनाव चिन्ह मिल गया है

Updated On: Jan 14, 2019 08:24 PM IST

FP Staff

0
शिवपाल यादव की पार्टी को मिला चुनाव चिन्ह, अब 'चाबी' से खोलेंगे सियासत का दरवाजा

चुनाव आयोग ने समाजवादी पार्टी से निष्कासित नेता शिवपाल यादव की पार्टी को चुनाव चिन्ह का आवंटन कर दिया है. शिवपाल यादव की प्रगतिशील समाजवादी पार्टी(लोहिया) को 'चाबी' चुनाव चिन्ह मिला है.

गौरतलब है कि शिवपाल ने कहा था कि उनकी पार्टी आने वाले लोकसभा चुनाव के लिए उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के साथ गठबंधन करने को तैयार है. समाजवादी पार्टी में उपेक्षा से नाराज होकर प्रगतिशील समाजवादी पार्टी-लोहिया बनाने वाले शिवपाल सिंह यादव ने एसपी में वापसी की संभावनाओं से इनकार करते हुए दावा किया था कि उनकी पार्टी अगले लोकसभा चुनाव के बाद किंगमेकर साबित होगी.

शिवपाल ने एसपी में वापसी की संभावनाओं से लेकर गठबंधन तक कई मुद्दों पर चर्चा की थी. उन्होंने दावा किया, 'केंद्र में अगली सरकार हमारी पार्टी की मदद के बिना नहीं बन सकेगी. हमारी पार्टी पिछले तीन महीनों के अंदर एक बड़ी ताकत बनकर उभरी है. प्रदेश के सभी 75 जिलों में हमारा संगठन तैयार है और जनता अब हमें एक राजनीतिक शक्ति के तौर पर देखने लगी है.'

एसपी के संस्थापक सदस्यों में शुमार किए जाने वाले शिवपाल ने अपने पुराने 'घर' में लौटने की संभावनाओं से भी इनकार किया था. उनसे एसपी नेता आजम खां के उस बयान के बारे में पूछा गया था जिसमें उन्होंने हालात अनुकूल होने पर पूरे यादव परिवार के एक साथ आने की बात कही थी.

शिवपाल ने कहा था, 'प्रगतिशील समाजवादी पार्टी का एसपी में विलय करने या मेरी एसपी में वापसी का कोई सवाल ही नहीं उठता. हालांकि मैं बीजेपी जैसी सांप्रदायिक शक्ति को सत्ता से दूर रखने के लिए समान विचारधारा वाली पार्टियों से गठबंधन करने को तैयार हूं. मगर वह भी तब होगा, जब हमें सम्मानजनक संख्या में सीटें मिलेंगी.'

उन्होंने कहा था कि प्रसपा के गठन के बाद उन्होंने उत्तर प्रदेश के लगभग हर जिले का दौरा किया है. उन्हें हर जगह उत्साहजनक प्रतिक्रिया मिली है. अगर किसी पार्टी से गठबंधन नहीं हुआ तो प्रसपा प्रदेश की सभी 80 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ेगी.

ये भी पढ़ें: त्योहारों पर पड़ा नागरिकता संशोधन विधेयक का असर, लोगों ने नहीं मनाया बिहू

ये भी पढ़ें: JNU में नारेबाजी: तीन साल बाद कन्हैया कुमार के खिलाफ 12,000 पन्नों की चार्जशीट दायर

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi