S M L

जिनके पास कोई योग्यता नहीं है, वे राष्ट्र चला रहे हैं: शिवसेना

केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए शिवसेना ने दावा किया कि ईंधन के ज्यादा दाम देश में किसानों की खुदकुशी का मुख्य कारण है

Updated On: Sep 18, 2017 06:25 PM IST

FP Staff

0
जिनके पास कोई योग्यता नहीं है, वे राष्ट्र चला रहे हैं: शिवसेना

पेट्रोल-डीजल के दामों में बढ़ोत्तरी को लेकर केंद्रीय मंत्री के. जे. अलफोंस की टिप्पणी पर राजनीति गरमाने लगी है. उनके बयान की शिवसेना ने आलोचना की है. पार्टी ने इसे गरीब और मध्यवर्ग की ‘बेइज्जती’ करार दिया.

शिवसेना के मुखपत्र सामना में लिखा गया है, 'जिनके पास कोई योग्यता और जनता से जुड़ाव नहीं है, वे राष्ट्र को चला रहे हैं.' केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए शिवसेना ने दावा किया कि ईंधन के ज्यादा दाम देश में किसानों की खुदकुशी का मुख्य कारण है.

शिवसेना केंद्र और महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ एनडीए का सहयोगी है. बावजूद इसके दोनों पार्टियों में जुबानी जंग हमेशा चलती रहती है.

दाम बढ़ने पर बीजेपी नेता पहले सड़कों पर बैठ जाते थे 

पर्यटन और आईटी मंत्री के तौर अलफोंस मंत्री परिषद में हाल ही में शामिल किए गए हैं. उन्होंने पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों का यह कहते हुए बचाव किया था कि वाहन मालिक ‘भूखे नहीं मर रहे’ और पेट्रोल का खर्च वहन कर सकते हैं.

शिव सेना के मुखपत्र ‘सामना’ में कहा गया, ‘गरीबों को कभी बेइज्जत नहीं किया गया, कांग्रेस के शासन में भी नहीं.’ इसमें कहा गया कि अलफोंस की इस टिप्पणी से मध्यमवर्गीय आदमी का अपमान किया गया है.

शिवसेना ने कहा कि कांग्रेस के शासन में जब ईंधन के दाम बढ़ रहे थे तब राजनाथ सिंह, स्मृति ईरानी और सुषमा स्वराज, जो अब मंत्री हैं, विरोध के लिए सड़कों पर बैठ गए थे.

शिवसेना ने कहा, ‘राष्ट्र आज महसूस कर रहा है कि जब अयोग्य और जनता से नहीं जुड़े लोग सरकार में आते हैं और राष्ट्र पर शासन करते हैं तब क्या होता है.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi