S M L

मां भावनाओं के आधार पर काम करती हैं और मैं सोचता ज्यादा हूं: राहुल गांधी

राहुल गांधी ने 16वीं हिंदुस्तान लीडरशिप समिट में कहा कि उनकी जिंदगी में कई खास लोग हैं जैसे उनकी मां, उनकी बहन, उनके दोस्त लेकिन कोई 'खास' शख्स नहीं है

Updated On: Oct 05, 2018 02:14 PM IST

FP Staff

0
मां भावनाओं के आधार पर काम करती हैं और मैं सोचता ज्यादा हूं: राहुल गांधी

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज साफ साफ कहा कि उनकी जिंदगी में कोई 'खास' शख्स नहीं है. राहुल गांधी ने 16वीं हिंदुस्तान लीडरशिप समिट में कहा कि उनकी जिंदगी में कई खास लोग हैं जैसे उनकी मां, उनकी बहन, उनके दोस्त लेकिन कोई 'खास' शख्स नहीं है. अपने बेटे की इस बात को सुनकर कार्यक्रम में मौजूद मां सोनिया गांधी भी मुस्कुराने लगीं. आपको बता दें कि राहुल गांधी पिछले साल ही कांग्रेस के अध्यक्ष बने हैं. इससे पहले उनकी मां सोनिया गांधी 19 वर्षों तक पार्टी को संभालती आई हैं.

लीडरशिप क्वालिटी के बारे में जब राहुल गांधी से सवाल किया गया तो राहुल ने कहा कि उन्होंने अपनी मां से बहुत कुछ सीखा है और सबसे ज्यादा धैर्य रखना. राहुल गांधी ने कहा- मां ने मुझे धैर्य सिखाया है. पहले मुझमें धैर्य की कमी थी. कभी कभी मैं उनसे कहता था कि उनमें कुछ ज्यादा ही धैर्य रखने की क्षमता है. राहुल ने कहा- हम दोनों में ही अधिक सुनने का गुण है. हालांकि पहले मैं कम सुनता था पर अब ज्यादा सुनने लगा हूं. राहुल ने कहा कि उनकी मां ने उनसे कहा था कि वह भावनाओं के आधार पर काम करती हैं जबकि राहुल सोच के आधार पर. राहुल ने बताया कि अब वह लोगों की बातों को ज्यादा अच्छे से सुनते हैं और ये समझने की कोशिश करते हैं कि लोग क्या कहना चाह रहे हैं. राहुल ने कहा कि उनमें लगातार बदलाव आ रहा है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi