विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

शरद यादव ने तोड़ी चुप्पी, बोले- बिहार की नई गठबंधन सरकार से नाखुश हूं

नीतीश कुमार का बिहार में बीजेपी के साथ गठबंधन कर सरकार बनाने का फैसला दुर्भाग्यपूर्ण

FP Staff Updated On: Jul 31, 2017 12:25 PM IST

0
शरद यादव ने तोड़ी चुप्पी, बोले- बिहार की नई गठबंधन सरकार से नाखुश हूं

राज्यसभा सांसद और जनता दल यूनाइटेड के वरिष्ठ नेता शरद यादव ने अपनी चुप्पी तोड़ते हुए कहा है कि वो बिहार में बनी जेडीयू-बीजेपी गठबंधन की नई सरकार से खुश नहीं हैं. शरद ने नीतीश कुमार के बिहार में बीजेपी के साथ गठबंधन कर सरकार बनाने के फैसले को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया है.

शरद यादव ने सोमवार को कहा कि नवंबर, 2015 में बिहार में मिला जनादेश इसके लिए (जेडीयू-बीजेपी सरकार) तो नहीं था. शरद यादव नहीं चाहते थे कि नीतीश महागठबंधन तोड़कर बीजेपी के साथ चले जाएं और सरकार बनाएं.

नीतीश कुमार ने बीते 26 जुलाई को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देकर आरजेडी और कांग्रेस से अपना महागठबंधन तोड़ लिया था. इसके अगले दिन नीतीश ने एनडीए के समर्थन से सरकार बना ली और छठी बार बिहार के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली. महागठबंधन के टूटने के बाद से ही कहा जा रहा था कि शरद यादव नीतीश कुमार से इस फैसले से नाराज हैं.

बीते पांच दिन से इस मामले में खामोश शरद यादव की चुप्पी के कई मायने निकाले जा रहे थे. इस दौरान उन्होंने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी समेत विपक्षी दलों के कई नेताओं से मुलाकात की.

राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के अध्यक्ष लालू यादव ने शरद यादव पर डोरे डालते हुए उन्हें सामाजिक लड़ाई का अगुवा बताया. रविवार को पटना में लालू ने शरद यादव को अपना भाई बताया और कहा कि बीजेपी को देश भर से उखाड़ फेंकने की ल में शरद यादव का सहयोग महत्वपूर्ण रहेगा.

शरद यादव की ही तरह राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और एनडीए गठबंधन के हिस्सा जीतन राम मांझी नीतीश सरकार से नाराज हो गए हैं. मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर उन्होंने अपनी नाराजगी खुलकर जाहिर की है. उन्होंने लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) के पशुपति कुमार पारस के मंत्री बनाने को लेकर सवाल खड़ा किये हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi