S M L

मोइन कुरैशी पर ईडी के कसते शिकंजे का अंजाम क्या होगा?

ईडी ने मीट कारोबारी मोइन कुरैशी के खिलाफ दायर चार्जशीट में कई चौंकाने वाले खुलासे किए हैं

Ravishankar Singh Ravishankar Singh Updated On: Nov 20, 2017 09:49 PM IST

0
मोइन कुरैशी पर ईडी के कसते शिकंजे का अंजाम क्या होगा?

मीट और हवाला कारोबारी मोइन कुरैशी पर भारतीय जांच एजेंसियों का शिकंजा लगातार कसता जा रहा है. ईडी ने मीट कारोबारी मोइन कुरैशी के खिलाफ दायर चार्जशीट में कई चौंकाने वाले खुलासे किए हैं. ईडी द्वारा दायर चार्जशीट में मोइन की पत्नी नसरीन कुरैशी पर लाखों रुपए की खरीददारी और फिजूलखर्ची करने की बात सामने आई है.

ईडी की चार्जशीट में यह खुलासा हुआ है जिस समय कुरैशी पर हवाला कारोबार करने का आरोप लगा था, उसी वक्त कुरैशी की पत्नी नसरीन कुरैशी विदेशों में कई करोड़ रुपए के महंगे विदेशी प्रोक्ट्स खरीद रही थी.

ईडी के चार्जशीट से खुलासा हुआ है कि नसरीन कुरैशी लग्जरी लाइफ जीने की शौकीन है. महंगे सौंदर्य प्रसाधन और बड़े-बड़े होटलों में रुकना उसकी आदत में शुमार है.

गौरतलब है कि मोइन अख्तर कुरैशी को ईडी ने इसी साल अगस्त महीने में गिरफ्तार किया था. कुरैशी पर गैरकानूनी तरीके से धन रखने, हवाला कारोबार में शामिल होने और कई अधिकारियों को महंगे उपहार देने के आरोप हैं.

इसी साल 24 अक्टूबर को दिल्ली हाई कोर्ट में ईडी ने एक चार्जशीट दायर की थी. इस चार्जशीट में ईडी ने खुलासा किया था कि कुरैशी ने सीबीआई के कुछ अधिकारियों की सांठगांठ से गलत तरीके से धन अर्जित किया.

Delhi High Court

दिल्ली हाईकोर्ट

ईडी ने अपनी चार्जशीट में कहा है कि आंध्र प्रदेश के एक व्यापारी से कुरैशी ने सीबीआई के तत्कालीन निदेशक एपी सिंह के नाम पर 5 करोड़ रुपए उगाही किए थे. इस चार्जशीट में पीड़ित और कुरैशी के बीच बीबीएम (ब्लैकबेरी मैंसेजर) पर बातचीत का जिक्र है. इस बातचीत में लगभग 11 करोड़ रुपए की लेन-देन की बात सामने आई है.

भारतीय जांच एजेंसी को ब्लैकबेरी मैंसेजर बॉक्स से कुरैशी और कुछ कारोबारियों के बीच डील करने की बात सामने आई है. ईडी ने अपने चार्जशीट में कहा है कि मोइन कुरैशी ब्यूरोक्रेट्स और राजनीतिक हस्तियों के नाम पर पैसा वसूली करता था.

मीट कारोबारी मोइन कुरैशी के खिलाफ ईडी ने पटियाला कोर्ट की विशेष अदालत में दाखिल चार्जशीट में कई खुलासे किए हैं. इस चार्जशीट में ईडी ने कहा है कि सीबीआई के दो पूर्व निदेशक एपी सिंह और रंजीत सिन्हा के नाम पर मोइन कुरैशी वसूली किया करता था.

गौरतलब है कि इस केस में ईडी को कई अहम गवाह भी मिले हैं. ईडी को दो गवाहों से पता चला है कि सीबीआई के दो पूर्व निदेशकों के नाम पर कुरैशी ने 7 करोड़ 50 लाख रुपए वसूले थे.

ईडी ने जांच के दौरान मोइन कुरैशी से एक डायरी भी बरामद की है. इस डायरी में कई बड़े अधिकारियों के साथ सीबीआई के दो पूर्व निदेशकों एपी सिंह और रंजीत सिन्हा के भी नाम हैं.

ईडी ने चार्जशीट में सीबीआई के दो पूर्व निदेशकों के नाम भी शामिल किए हैं. ईडी सीबीआई के दोनों पूर्व निदेशकों के खिलाफ भी जांच कर रही है. पिछले दिनों ही मीट कारोबारी मोइन कुरैशी ने आरोप लगाया था कि कुख्यात गैंगस्टर नीरज बवाना से तिहाड़ जेल में लिखित धमकी प्राप्त हुई है. मोइन कुरैशी ने इसके बाद जेल में अपनी सुरक्षा को लेकर अदालत का रुख किया था.

सीबीआई की विशेष अदालत ने इस मामले की सुनवाई करते हुए जेल अधिकारियों से मोइन कुरैशी की याचिका पर जवाब दाखिल करने को कहा था. कुरैशी ने सामान्य वार्ड से उच्च सुरक्षा वाले वार्ड में खुद को स्थांतरित करने की मांग की थी.

मीट और हवाला कारोबारी कुरैशी पर सबसे पहले आयकर विभाग ने शिकंजा कसा था, जिसके बाद सीबीआई जांच शुरू हुई थी. कुरैशी के विदेशी लिंक सामने आने के बाद यह मामला ईडी को ट्रांसफर किया गया था.

cbi headquarter

दिल्ली स्थित सीबीआई हेडक्वार्टर

मोइन कुरैशी पर आरोप है कि हवाला के जरिए उसने विदेशों में कई संपत्तियां अर्जित की है. दुबई, मुंबई, स्विट्जरलैंड, इटली, पेरिस और कई दूसरे देशों में हवाला के जरिए पैसा भेजे जाने का भी पता चला है. पिछले 13 नवंबर को ही मोइन कुरैशी की तरफ से दिल्ली हाई कोर्ट में ईडी की गिरफ्तारी को चुनौती देने वाली एक याचिका पर सुनवाई पूरी हुई थी.

हाई कोर्ट मनी लॉन्डरिंग के इस मामले में दायर की गई याचिका पर भी जल्द ही फैसला सुना सकती है. केंद्र सरकार ने इस याचिका का विरोध करते हुए अदालत में दलील दी थी कि कुरैशी की गिरफ्तारी पर सवाल उठाना कानूनी प्रक्रिया का दुरुपयोग है. कुरैशी पर हवाला के जरिए लेन-देन करने का गंभीर आरोप है.

ताजा घटनाक्रम के बाद भारतीय जांच एजेंसियां यह पता लगाने में लग गई हैं कि हवाला के जरिए कुरैशी किन-किन अधिकारियों को फायदा पहुंचा रहा था. साथ ही कुरैशी के पूरे परिवार का नौकरशाहों और राजनेताओं के साथ लिंक खंगाला जा रहा है.

भारतीय जांच एजेंसियां यह भी पता लगाने में लग गई है कि आखिर किस अधिकारी की सिफारिश पर कुरैशी की बेटी को सीबीआई के एनुअल-डे कराने का जिम्मा मिला था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi