live
S M L

जयललिता की हमराज शशिकला अब करेंगी पार्टी पर राज!

एमजीआर के जाने के बाद जयललिता के जीवन में शशिकला नटराजन का अहम रोल रहा.

Updated On: Dec 07, 2016 12:44 PM IST

Pratima Sharma Pratima Sharma
सीनियर न्यूज एडिटर, फ़र्स्टपोस्ट हिंदी

0
जयललिता की हमराज शशिकला अब करेंगी पार्टी पर राज!

'एक खूबसूरत अभिनेत्री...एक दबंग नेता. क्षेत्रीय राजनीति में रहने के बावजूद केंद्र की सरकारों को नाकों चने चबवाने वाली नेता.' जयललिता ने अपने राजनीतिक और निजी जीवन में बहुत ज्यादा लोगों को अपना साथी नहीं बनाया. जयललिता को राजनीति में लाने वाले एम जी रामचंद्रन थे. एमजीआर के जाने के बाद जयललिता के जीवन में शशिकला नटराजन का अहम रोल रहा.

किंगमेकर की भूमिका में शशिकला

एमजीआर की मौत के बाद दक्षिण भारत की राजनीति में जो जगह खाली हुई थी, उसे जयललिता ने बखूबी भरा था. अब जयललिता के जाने के बाद शशिकला किंगमेकर की भूमिका में आ सकती हैं.

शशिकला नटराजन और जयललिता के संबंधों के बारे में करीब से जानने वालों का कहना है कि जयललिता के निजी और राजनीतिक जीवन में शशिकला का बहुत दखल था. जयललिता की संपत्ति और प्रॉपर्टी की देखरेख का जिम्मा शशिकला और उनके पति नटराजन के जिम्मे ही था.

जयललिता के जीवन में शशिकला की अहमियत का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि 1995 में उन्होंने शशिकला के भतीजे सुधाकरण को गोद लिया था. हालांकि एक साल बाद 1996 में ही जयललिता ने सुधारकण का त्याग कर दिया.

जयललिता के बेहद करीब शशिकला

सुधाकरण की शादी में अनाप शनाप पैसा खर्च करने की वजह से जयललिता 1996 का चुनाव भी हार गई थीं. शादी के बाद सुधाकरण जयललिता के बेहद प्रिय थे. ऐसा माना जा रहा था कि जयललिता की विरासत को सुधाकरण ही संभालेंगे.

लेकिन जयललिता के वित्तीय मामलों में सुधाकरण के दखल के बाद 1996 में उन्होंने सुधाकरण के साथ अपना रिश्ता खत्म कर लिया. सुधाकरण के साथ रिश्ता खत्म करने के बाद जयललिता ने उनके साथ कोई संबंध नहीं रखा. लेकिन शशिकला नटराजन के साथ उनके संबंधों की मजबूती में कोई कमी नहीं आई.

जयललिता जब अस्पताल में भर्ती थीं तो इस दौरान उनसे मिलने की इजाजत सिर्फ शशिकला नटराजन को मिली. शशिकला नटराजन, जयललिता की हमराज रही हैं. आरोप हैं कि जयललिता के मुख्यमंत्री रहते तीन कार्यकाल में शशिकला ने न सिर्फ ताकत का बेजा इस्तेमाल किया बल्कि अकूत संपत्ति भी इकट्ठा की.

7 दिसंबर 1996 को कलर टीवी स्कैम में शशिकला और जयललिता को गिरफ्तार किया गया था. हालांकि, आरोप बेबुनियाद पाए जाने पर सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले को खारिज कर दिया.

भ्रष्टाचार में भी साथ 

शशिकला और जयललिता

शशिकला और जयललिता

शशिकला और जयललिता को तांसी जमीन अधिग्रहण मामले में ट्रायल कोर्ट ने दो साल की सजा सुनाई थी. हालांकि, बाद में मद्रास हाईकोर्ट ने शशिकला को छोड़ दिया. 19 दिसंबर 2011 को जयललिता ने वी एन सुधाकरण, शशिकला नटराजन और उनके पति नटराजन सहित 13 लोगों को पार्टी से निकाल दिया.

हालांकि, जयललिता ने 31 मार्च 2012 को शशिकला नटराजन को दोबारा पार्टी में शामिल कर लिया. उस वक्त शशिकला ने जयललिता को भरोसा दिलाया था कि वह अपने सभी रिश्तेदारों से संबंध खत्म कर लेंगी और बगैर किसी महत्वकांक्षा के पार्टी के लिए काम करेंगी.

27 सितंबर 2014 को शशिकला और जयललिता को बेंगलुरु के एक स्पेशल कोर्ट ने 4 साल कैद की सजा सुनाई. जयललिता पर 100 करोड़ रुपए का जुर्माना भी लगाया गया. जबकि शशिकला पर 10 करोड़ रुपए का फाइन लगाया गया. हालांकि, बाद में हाई कोर्ट ने दोनों को जमानत दे दी.

तमिल मीडिया के पत्रकारों का कहना है कि चेन्नई के अपोलो हॉस्पिटल में जाने के बाद शशिकला ही जयललिता का सारा कामकाज देख रही हैं. हालांकि, पिछले कुछ समय में शशिकला नटराजन और जयललिता के संबंधों में कड़वाहट आने की भी बात दबी जबान में कही जा रही है. इंडिया टुडे में छपी एक खबर में शशिकला पुष्पा ने शशिकला नटराजन की भूमिका पर सवाल उठाए थे.

शशिकला नटराजन से जयललिता की पहली मुलाकात

शशिकला का जन्म तंजौर जिले के मन्नारगुडी में हुआ था. शुरुआती पढ़ाई के बाद उन्होंने स्कूल छोड़ दिया. बाद में इनका विवाह तमिलनाडु सरकार के पब्लिक रिलेशन आॅफिसर आर नटराजन से हुआ. नटराजन अस्थायी तौर पर तमिलनाडु सरकार के पीआर का काम संभाल रहे थे. वह कुडलौर के डिस्ट्रिक कलेक्टर आईएएस वी एस चंद्रलेखा के साथ काम कर रहे थे. चंद्रलेखा उस वक्त के तमिलनाडु के सीएम एमजी रामचंद्रन की काफी करीबी थीं.

1976 में इमरजेंसी के दौरान नटराजन की नौकरी चली गई. उस वक्त नटराजन ने चंद्रलेखा से निवेदन किया कि वह जयललिता से उनकी पत्नी शशिकला की मुलाकात करा दें. मुलाकात के बाद शशिकला ने अपने काम से जयललिता का मन मोह लिया और धीरे-धीरे उनकी हमराज बन गईं.

जयललिता के अपोलो अस्पताल में भर्ती होने के बाद से ही सारा कामकाज शशिकला संभाल रही हैं. जयललिता के 2014 में जेल जाने के बाद सीएम बने ओ पन्नीरसेल्वम के बारे में माना जा रहा है कि उनके सिर पर शशिकला का हाथ है. यह साफ है कि शशिकला किंगमेकर की भूमिका में हैं और जयललिता के जाने के बाद वह अम्मा की जगह लेने की पूरी कोशिश कर सकती हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi