S M L

क्षेत्रीय दलों में सबसे अमीर है समाजवादी पार्टी, जानिए अन्य के बारे में

एडीआर की रिपोर्ट के मुताबिक, एसपी ने 2016-17 में सबसे अधिक आय (82.76 करोड़) दर्ज की, जो क्षेत्रीय पार्टियों की आय का 25.78 प्रतिशत है

Updated On: May 22, 2018 08:03 PM IST

Bhasha

0
क्षेत्रीय दलों में सबसे अमीर है समाजवादी पार्टी, जानिए अन्य के बारे में

देश के 32 क्षेत्रीय राजनीतिक दलों की कुल आय वित्त वर्ष 2016-17 में 321.03 करोड़ रुपए रही और इनमें समाजवादी पार्टी (एसपी) 82.76 करोड़ रुपए के साथ सबसे ऊपर रही. यह जानकारी एक गैर सरकारी संगठन की ताजा विश्लेषण रपट में दी गई है. सपा के बाद चंद्रबाबू नायडू की पार्टी टीडीपी और तमिलनाडु की एआईएडीएमके का नंबर है. एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) ने मंगलवार को अपनी रिपोर्ट में यह जानकारी दी.

कुल 48 क्षेत्रीय दलों में से 16 दलों की ऑडिट रिपोर्ट चुनाव आयोग की वेबसाइट पर उपलब्ध नहीं है. जिन 16 क्षेत्रीय दलों की 2016-17 की ऑडिट रिपोर्ट चुनाव आयोग की वेबसाइट पर उपलब्ध नहीं है उनमें दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली आम आदमी पार्टी (आप) , जम्मू एंड कश्मीर नेशनल कॉन्फ्रेंस और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव का राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) जैसे प्रमुख दल शामिल हैं.

एडीआर की एक रपट के अनुसार इस दौरान में इन क्षेत्रीय दलों ने 435.48 करोड़ रुपए खर्च किए. वर्ष के दौरान इनमें से 17 दलों ने दिखाया कि इस दौरान उनकी ‘व्यय नहीं हुई’ आय 114.45 करोड़ रुपये रही.

2016-17 में सबसे ज्यादा कमाई समाजवादी पार्टी की हुई

एसपी ने 2016-17 में सबसे अधिक आय (82.76 करोड़) दर्ज की, जो क्षेत्रीय पार्टियों की आय का 25.78 प्रतिशत है. उसके बाद तेलुगु देशम पार्टी यानी टीडीपी (72.92 करोड़ रुपए) और एआईएडीएमके (48.88 करोड़ रुपए) का स्थान है. तीनों क्षेत्रीय पार्टियों की कुल आय (204.56 करोड़) 32 क्षेत्रीय दलों की कुल आय का 63.72 प्रतिशत रही.

विश्लेषण में शामिल किए गए 32 क्षेत्रीय दलों में से 14 ने अपनी आय में वर्ष के दौरान 2015-16 की तुलना में गिरावट दर्शायी है जबकि 13 दलों ने आय में वृद्धि दिखाई है. पांच क्षेत्रीय दलों ने चुनाव आयोग में आयकर रिटर्न (आईटीआर) जमा नहीं किया है. आईटीआर जमा करने वाले 27 क्षेत्रीय दलों की आय 2015-16 में 291.14 करोड़ रुपए से बढ़कर 2016-17 में 316.05 करोड़ रुपए हो गई है.

कुल 17 दलों ने कहा कि 2016-17 के दौरान उनकी आय का एक हिस्सा अभी बचा है जबकि 15 दलों ने अपनी आय से अधिक खर्च किया है.

डीएमके ने आय से अधिक खर्च किए

रिपोर्ट के मुताबिक, ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन और जनता दल (सेक्युलर) ने विवरण में कहा कि उनकी कुल आय का 87 प्रतिशत से अधिक हिस्सा खर्च नहीं हो सका है जबकि टीडीपी ने आय का 67 प्रतिशत हिस्सा खर्च नहीं किया था .

वहीं, डीएमके ने अपनी घोषित आय से 81.88 करोड़ रुपए अधिक खर्च किए जबकि एसपी और एआईएडीएमके ने आय से क्रमश: 64.34 करोड़ रुपए और 37.89 करोड़ रुपए अधिक खर्च किए. एसपी का कुल खर्च इन 32 दलों के कुल खर्च (435.48 करोड़ रुपए) का 33.78 प्रतिशत रहा.

यह रिपोर्ट 32 क्षेत्रीय दलों की आय और व्यय के विश्लेषण पर आधारित है, इन्होंने 2016-17 की ऑडिट रिपोर्ट चुनाव आयोग को सौंपी. दलों को इन वर्ष के अपने आय-व्यय का विवरण 31 अक्टूबर 2017 तक आयोग को देना था. 48 में से 12 क्षेत्रीय दलों ने समय पर विवरण प्रस्तुत किया . 20 दल विवरण देने में 13 दिन से 5 माह तक पीछे थे.

इन दलों की आय में मुख्य योगदान अनुदान, चंदे, सकल प्राप्तियां और ब्याज आय आदि का था. इनका मुख्य खर्च चुनाव लड़ने, सामान्य प्रशासान और सामान्य मदों से जुड़ा था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi