S M L

सबरीमाला विवाद: केरल में दिखा बीजेपी की हड़ताल का असर

पुलिस ने बताया कि पत्थरबाजी की छिटपुट घटनाओं को छोड़कर यह हड़ताल शांतिपूर्ण रही

Updated On: Dec 14, 2018 09:58 PM IST

Bhasha

0
सबरीमाला विवाद: केरल में दिखा बीजेपी की हड़ताल का असर

बीजेपी की केरल इकाई की ओर से बुलाई गई हड़ताल से राज्य में शुक्रवार को आम जनजीवन आंशिक तौर पर प्रभावित रहा. सड़क से सरकारी और निजी बसें नदारद रहीं, दुकानें तथा होटल बंद रहे. पुलिस ने बताया कि पत्थरबाजी की छिटपुट घटनाओं को छोड़कर यह हड़ताल शांतिपूर्ण रही.

सबरीमला मंदिर के आसपास निषेधाज्ञा के विरोध में बीजेपी के प्रदर्शन स्थल के पास बृहस्पतिवार को 55 वर्षीय वेणुगोपाल नैयर नाम के व्यक्ति ने आत्मदाह कर लिया था. इसके बाद बीजेपी ने राज्य में हड़ताल का आह्वान किया था. नैयर के शव को प्रदर्शन स्थल पर लाया गया जहां बीजेपी नेताओं ने उन्हें श्रद्धांजलि दी.

भगवा पार्टी का दावा था कि मुख्यमंत्री पिनराई विजयन के नेतृत्व वाली केरल सरकार के सबरीमला मंदिर मामले में 'अड़ियल’ रुख को देखते हुए नैयर ने यह कदम उठाया था. हालांकि पुलिस ने बताया कि मजिस्ट्रेट के समक्ष अंतिम समय में नैयर ने कहा कि वह अवसाद में था और आग लगाने के बाद प्रदर्शनस्थल की ओर दौड़ा.

केरल राज्य सड़क परिवहन निगम (केएसआरटीसी) ने सबरीमला श्रद्धालुओं के लिए बस का संचालन किया क्योंकि उन्हें हड़ताल से छुट्टी दी गई थी. हालांकि हड़ताल समर्थकों द्वारा पार्क की हुई बस पर पथराव करने की वजह से केएसआरटीसी के तीन बस पलक्कड में क्षतिग्रस्त हो गई थीं.

हड़ताल की वजह से 4,000 पर्यटक भी प्रभावित हुए जो तीन क्रूज और एक चार्टर्ड विमान से गुरुवार को यहां पहुंचे थे.

कोच्चि के टूरिज्म प्रोफेशनल के अध्यक्ष विनेश विद्या ने बताया कि टूरिज्म प्रोफेशनल क्लब के नेतृत्व में केरल चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड केरल मैनेजमेंट एसोसिएशन सहित कई संगठनों ने कोच्चि में अपने मुंह के पास काला कपड़ा बांधकर लगातार हो रही हड़ताल के खिलाफ प्रदर्शन किया.

उन्होंने बताया कि उनकी योजना हड़ताल के खिलाफ केरल हाईकोर्ट में याचिका डालने की है.

वहीं तिरुवनंतपुरम में पुलिस ने मरीजों को मेडिकल कॉलेज और क्षेत्रीय कैंसर सेंटर तक पहुंचाने के लिए परिवहन की सुविधा मुहैया कराई.

बीजेपी जिला इकाई ने एनईईटी की परीक्षा देने आए छात्रों के लिए वाहन की व्यवस्था की. केरल की कारोबारी राजधानी कोच्चि में हड़ताल का असर आंशिक रूप में रहा क्योंकि यहां कुछ दुकानें खुली रहीं और सड़कों पर वाहन चल रहे थे.

मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने बीजेपी की आलोचना करते हुए कहा कि पार्टी राज्य में खुद 'हंसी का पात्र’ हो गई है. विजयन ने दिल्ली में मीडिया से कहा, 'बीजेपी यह बंद बुलाकर हंसी का पात्र स्वयं हो गई है . मृतक ने मजिस्ट्रेट के समक्ष मरने से पहले जो बयान दिया है वह बीजेपी के दावे के उलट है.'

बीजेपी के राज्य प्रमुख पी एस श्रीधरन पिल्लई ने शुक्रवार को आत्मदाह के इस मामले में न्यायिक जांच की मांग की है. वहीं कांग्रेस प्रमुख मुल्लापल्ली रामचंद्रन ने बीजेपी को यह बताने को कहा है कि उसने यह हड़ताल क्यों बुलाई?

रामचंद्रन ने कहा, 'भगवा पार्टी किसी व्यक्ति के आत्मदाह का फायदा राजनीतिक लाभ के लिए कर रही है. यह पार्टी की राजनीतिक दिवालियापन को दिखाती है.'

मुत्तदा के रहने वाले वेणुगोपाल नैयर का शरीर 90 फीसदी तक जल गया था और उनकी मौत सरकारी चिकित्सा कॉलेज अस्पताल में शाम को हो गई.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi