विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

आरएसएस की बैठक कोयंबटूर में, छाया रहेगा केरल का मुद्दा

कोयंबटूर में 19, 20 और 21 मार्च को आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत समेत संगठन के सभी दिग्गज जुटेंगे.

Amitesh Amitesh Updated On: Mar 07, 2017 12:50 PM IST

0
आरएसएस की बैठक कोयंबटूर में, छाया रहेगा केरल का मुद्दा

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा की सालाना बैठक इस बार तमिलनाडू के कोयंबटूर में हो रही है. कोयंबटूर में 19, 20 और 21 मार्च को आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत समेत संगठन के सभी दिग्गज जुटेंगे. इस बैठक में संघ के करीब 1500 कार्यकर्ता शिरकत करने वाले हैं.

तीन दिनों तक चलने वाले इस मंथन में इस बार केरल का मुद्दा छाए रहने की उम्मीद है. केरल में हाल के दिनों में आरएसएस के कार्यकर्ताओं के खिलाफ हिंसा की कई घटनाएं हुई हैं. उधर सीपीएम की तरफ से आरएसएस कार्यकर्ताओं पर हमले के आरोप लगे हैं.

संघ की तरफ से इस बात को हर फोरम पर उठाया जाता रहा है, लेकिन, केरल में पी विजयन के नेतृत्व में लेफ्ट की सरकार बनने के बाद हिंसा की घटनाओं में आई बढ़ोतरी ने केरल से लेकर दिल्ली तक सियासी बवाल बढ़ा दिया है. आरएसएस के एक नेता के केरल सीएम के सिर लाने पर इनाम वाले बयान ने माहौल गरमाया.

ये भी पढ़ें: केरल सीएम का 'सिर लाने वाले' बयान से आरएसएस ने पल्ला झाड़ा

संघ की तरफ से लगातार आरोप लगाए जा रहे हैं और इस बाबत विरोध प्रदर्शन भी लगातार हो रहे हैं. लेकिन, अबतक आरएसएस कार्यकर्ताओं पर हमले थमते नजर नहीं आ रहे हैं. केरल से सटे तमिलनाडु में ही इस बार संघ की प्रतिनिधि सभा की बैठक होने जा रही है. जिसमें केरल में हो रहे हमले को लेकर गंभीर चर्चा होनी है.

आरएसएस सूत्रों के मुताबिक, इस बैठक में आरएसएस के आनुषंगिक संगठनों के कामकाज का ब्योरा रखा जाएगा जिस पर विस्तार से चर्चा होगी.

भारतीय मजदूर संघ, स्वदेशी जागरण मंच, सेवा भारती, क्रीडा भारती, सेवा भारती, संस्कृत भारती, विद्या भारती और अखिल भारतीय परिषद समेत संघ के सभी आनुषंगिक संगठनों के कामकाज का प्रेजेंटेशन भी होगा और इस बैठक में आगे की रणनीति को अलग धार देने की कोशिश भी होगी.

तीन दिनों तक चलने वाली मीटिंग में भारतीय जनता पार्टी की तरफ से संगठन महासचिव रामलाल के अलावा पार्टी अध्यक्ष अमित शाह भी शिरकत करेंगे. इसमें बीजेपी के कामकाज और आगे के रोडमैप के बारे में भी विस्तार से जानकारी दी जाएगी.

11 मार्च को यूपी समेत पांच राज्यों के चुनाव परिणाम आ जाएंगे और संघ की प्रतिनिधि सभा की बैठक से पहले सरकारें भी बन चुकी होगी. बीजेपी के लिए 2019 के लोकसभा चुनाव के रोडमैप के लिहाज से इन सभी राज्यों का चुनाव परिणाम खासा महत्वपूर्ण हो गया है. संघ की बैठक में भी आगे के रोडमैप और संघ-बीजेपी के बीच बेहतर समन्वय पर चर्चा होगी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi