S M L

जर्मनी का नागरिक बन गया भारत में विधायक

वोट डालने का अधिकार न होने के बाद भी फर्जी दस्तावेज के सहारे तीन चुनाव लड़ लिए रमेश चेन्नामनेनी ने

Updated On: Sep 09, 2017 07:15 PM IST

FP Staff

0
जर्मनी का नागरिक बन गया भारत में विधायक

हिंदुस्तान के बारे में एक बात कही जाती है कि यहां कुछ भी हो सकता है. तेलंगाना से आई एक खबर को सुनकर यही लग रहा है कि यहां सच में कुछ भी हो सकता है. जर्मनी का एक नागरिक भारत में विधानसभा का चुनाव लड़ता है और तीन बार विधायक बन जाता है.

तेलंगाना राष्ट्र समिति से तीन बार विधायक रह चुके रमेश चेन्नामनेनी के पास जर्मनी का पासपोर्ट है, इसके बाद भी वो तीन बार चुनाव लड़ कर विधायक बन चुके हैं.

2009 में पहली बार तेलुगु देशम पार्टी से पहली बार चुनाव लड़ने वाले चेन्नामनेनी ने 1993 में ही जर्मनी की नागरिकता ले ली थी. 2008 में उन्होंने वापस भारत की नागरिकता के लिए आवेदन किया मगर आरोप लगा कि इसके लिए उन्होंने फर्जी कागज़ात इस्तेमाल किए.

इसके बाद भी वो भारत की राजनीति में रहे. गृह मंत्रालय को जब इसकी जानकारी मिली तो चेन्नामनेनी की सदस्यता खत्म कर दी गई.

2009 में पहले चुनाव के बाद चेन्नमनेनी के ऊपर फर्जी दस्तावेजों के सहारे चुनाव लड़ने का आरोप लगा. 2013 में हाई कोर्ट ने दोहरी नागरिकता होने के चलते रमेश के चुनाव को अवैध करार दिया. 6 सितंबर 2016 में सुप्रीम कोर्ट ने रमेश की विधानसभा सदस्यता खत्म कर दी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi