S M L

राज्यसभा उपसभापति चुनाव: 125 वोटों के साथ जीते हरिवंश, हरिप्रसाद को मिले 105 वोट

रिजल्ट घोषित होने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हरिवंश के पत्रकारीय धर्म की काफी तारीफ की. उनके कई कार्यों से सदन को अवगत कराया

| August 09, 2018, 02:22 PM IST

FP Staff

0

हाइलाइट

Aug 9, 2018

  • 13:40(IST)
  • 13:16(IST)

    एनडीए उम्मीदवार हरिवंश की जीत पर यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा, कभी हम हारते हैं तो कभी जीतते हैं.

  • 12:54(IST)

  • 12:41(IST)

  • 12:10(IST)

    हरिवंश के उपसभापति चुने जाने के बाद पीएम मोदी ने कहा, आज हम भारत छोड़ो आंदोलन की वर्षगांठ मना रहे हैं. हरिवंश जी बलिया से आते हैं, जो जगह स्वतंत्रता सेनानियों के लिए जानी जाती है. वे (हरिवंश) लोकनायक जयप्रकाश नारायण से प्रभावित हैं. उन्होंने वाराणसी में भी जिंदगी बिताई है. वे ऐसे नेता हैं जिन्होंने धुर राजनेता चंद्रशेखर जी के साथ काम किया है.

  • 12:05(IST)

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उपसभापति हरिवंश के बारे में क्या कहा, यहां सुनें.

  • 12:03(IST)

    अरुण जेटली ने कहा, हमें भरोसा है कि हरिवंश जी सदन की कार्यवाही पूरी ईमानदारी और सक्षमता से चलाएंगे.

  • 12:02(IST)

    हरिवंश को उपसभापति बनाए जाने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनकी जमकर तारीफ की. प्रधानमंत्री ने चंद्रशेखर के साथ उनके राजनीतिक सफर से लेकर प्रभात खबर के संपादकीय कार्यों के बारे में जानकारी दी.

  • 11:54(IST)
  • 11:46(IST)
  • 11:46(IST)
  • 11:44(IST)

    एनडीए उम्मीदवार हरिवंश नारायण सिंह उपसभापति चुने गए. उन्हें 125 वोट मिले, जबकि कांग्रेस उम्मीदवार हरिप्रसाद को 105 वोट मिले. 

  • 11:36(IST)

    उपसभापति पद के चुनाव के लिए दोबारा हो रही है वोटिंग.

  • 11:31(IST)
  • 11:29(IST)

    आप नेता संजय सिंह ने कहा, कांग्रेस का बर्ताव देखते हुए आप आदमी पार्टी ने वोटिंग से गैर-हाजिर रहने का फैसला किया है. विपक्षी एकजुटता में कांग्रेस सबसे बड़ी बाधा है.

  • 11:20(IST)

    नजमा हेपतुल्ला के बाद के रहमान खान और पीजे कुरियन निर्विरोध चुने गए. हालांकि 2004 में शिवसेना ने खान के खिलाफ एक प्रस्ताव बढ़ाया था जो पारित न हो सका. 

  • 11:17(IST)

    साल 1985 में नजमा हेपतुल्ला दूसरी महिला उपसभापति बनीं. पहली बार साल भर वे इस पद पर बनी रहीं और 1988 में दूसरी बार उन्हें उपसभापति पद के लिए चुना गया.

  • 11:15(IST)

    1980 में श्याम लाल यादव उपसभापति चुने गए. 1984 के अंत तक वे इस पद पर बने रहे.

  • 11:12(IST)

    किडनी ट्रांसप्लांट के बाद आज पहली बार राज्यसभा में दिखे अरुण जेटली.

  • 11:11(IST)

    बीजेडी ने एनडीए प्रत्याशी हरिवंश को समर्थन देने का एलान किया. पार्टी ने कहा कि जेडीयू के साथ उसके अच्छे वैचारिक संबंध रहे हैं.

  • 11:09(IST)

    एनडीए उम्मीदवार हरिवंश ने आसान जीत का भरोसा जताया.

  • 11:09(IST)

    आंध्र प्रदेश की वाईएसआर कांग्रेस ने वोटिंग से गैर-हाजिर रहने का फैसला किया.

  • 11:07(IST)

    1977 में मोरारजी देसाई के शासनकाल में राम निवास मिर्धा उपसभापति बने. यह अंतिम मौका था जब विपक्षी पार्टी (मिर्धा कांग्रेस नेता थे) का कोई नेता राज्यसभा का उपसभापति चुना गया.

  • 11:05(IST)

    गोडे मुराहारी और कृष्णमूर्ति ऐसे दो नेता थे जो राज्ससभा में उपसभापति भी बने और लोकसभा के उपाध्यक्ष भी चुने गए.

  • 11:02(IST)

    गोडे मुराहारी दो बार 1972 से 1977 तक उपसभापति पद के लिए निर्विरोध चुने गए थे. बाद में वे लोकसभा का चुनाव लड़े और लोकसभा में उपाध्यक्ष चुने गए.

  • 10:59(IST)

    डॉ. खोबरागडे 128 वोटों के साथ चुनाव जीत गए, जबकि उनके विरोध में 60 वोट पड़े थे. भारत के इतिहास में पहली बार कोई गैर-सत्तारूढ़ दल का नेता राज्यसभा में उपसभापति बना.

  • 10:57(IST)

    1969 में वॉयलेट अल्वा ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया जिसके बाद डॉ. भाउराव देवाजी और गोडे मुराहारी के बीच उपसभापति पद के लिए चुनाव हुआ. ऐसा पहली बार हुआ था जब दो सांसद उपसभापति चुनाव के लिए एक-दूसरे के सामने थे.

  • 10:55(IST)

    एसवी कृष्णमूर्ति राव राज्यसभा के पहले उपसभापति थे. उन्होंने एक दशक तक यह पद संभाला. उनके बाद वॉयलेट अल्वा उपसभापति बनीं जो पहली महिला उपसभापति थीं. अल्वा सात साल इस पद पर बनी रहीं.

  • 10:50(IST)

    सन 1952 से लेकर अबतक राज्यसभा के उपसभापति के लिए 19 बार चुनाव हो चुके हैं. इसमें 14 बार निर्विरोध प्रत्याशी चुने गए. 

  • 10:47(IST)

    कांग्रेस उम्मीदवार बीके हरिप्रसाद के बारे में जानकारी यहां लें.

राज्यसभा उपसभापति चुनाव: 125 वोटों के साथ जीते हरिवंश, हरिप्रसाद को मिले 105 वोट

राज्यसभा के उपसभापति पद पर गुरुवार को होने वाले चुनाव के लिए सत्तापक्ष और विपक्ष के अधिकृत दोनों उम्मीदवारों ने नामांकन पत्र भर दिया. विपक्ष की ओर से कांग्रेस के बीके हरिप्रसाद को उम्मीदवार घोषित किए जाने के बाद इस पद के लिए चुनाव होना तय हो गया है. सत्तारूढ़ एनडीए की ओर से जेडीयू के हरिवंश को पहले ही उम्मीदवार घोषित किया जा चुका है.

राज्यसभा सचिवालय के सूत्रों ने हरिवंश और हरिप्रसाद के नामांकन पत्र के नोटिस मिलने की पुष्टि की है. हरिवंश की ओर से राज्यसभा महासचिव कार्यालय को मंगलवार को ही नामांकन का नोटिस मिल गया था. बुधवार को उन्होंने महासचिव देशदीपक वर्मा के सामने अपना नामांकन पत्र पेश किया.

वहीं हरिप्रसाद की ओर से भी बुधवार को नामांकन पत्र पेश किया गया. उम्मीदवारी की घोषणा के बाद हरिप्रसाद ने कहा कि पार्टी ने निश्चित रूप से काफी सोच विचार के बाद यह फैसला किया होगा. उन्होंने चुनाव में सकारात्मक परिणाम मिलने का विश्वास व्यक्त किया.

इस बीस उच्च सदन में कांग्रेस उप नेता आनंद शर्मा ने जीत के लिए जरूरी मत मिलने का दावा करते हुए कहा कि संख्याबल उनके पक्ष में है. उन्होंने कहा कि किसी एक सदस्य के नाम पर सर्वानुमति नहीं बन पाने के कारण विपक्ष को चुनाव का विकल्प अपनाना पड़ा. नामांकन पत्र पेश करने के बाद हरिवंश ने एनडीए की ओर से उन्हें उम्मीदवार बनाए जाने के लिए आभार व्यक्त किया. उन्होंने कहा 'मैं उन सभी लोगों के प्रति आभारी हूं जिन्होंने मुझे इस योग्य समझा.'

उपसभापति पद के लिए गुरुवार को 11 बजे मतदान होगा. कांग्रेस के पी जे कुरियन के गत एक जुलाई को सेवानिवृत्त होने के बाद से यह पद रिक्त है.

244 सदस्यीय उच्च सदन में उपसभापति चुनाव को जीतने के लिए 123 मतों की आवश्यकता पड़ेगी. यदि एआईडीएमके (13),बीजेडी (नौ), टीआरएस (छह) और वाईएसआर कांग्रेस (दो) का समर्थन एनडीए को मिल जाता है तो उसके पास 126 मत हो जाएंगे.

उच्च सदन में बीजेपी के 73 और कांग्रेस के 50 सदस्य हैं. बीजेपी के सहयोगी जेडीयू, शिवसेना और अकाली दल के छह और तीन- तीन सदस्य हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi