S M L

सदन में राफेल पर हंगामा: लोकसभा-राज्यसभा कल तक के लिए स्थगित

हंगामे को कम न होता देख स्पीकर सुमित्रा महाजन ने लोकसभा की कार्यवाही बुधवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी है

Updated On: Dec 18, 2018 04:14 PM IST

FP Staff

0
सदन में राफेल पर हंगामा: लोकसभा-राज्यसभा कल तक के लिए स्थगित

राफेल विमान सौदा और 1984 सिख दंगा मामले को लेकर लोकसभा और राज्यसभा में जबरदस्त हंगामा हुआ. हंगामे को कम न होता देख स्पीकर सुमित्रा महाजन ने लोकसभा की कार्यवाही बुधवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी है. साथ ही राज्यसभा की कार्यवाही भी दिन भर के लिए स्थगित कर दी गई.

राज्यसभा में मंगलवार को राफेल विमान सौदा, कावेरी डेल्टा के किसानों की समस्याओं और आंध्रप्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग सहित अलग-अलग मुद्दों पर विभिन्न दलों के सदस्यों के हंगामे के कारण सदन की कार्यवाही शुरू होने के कुछ ही देर बाद दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई थी. हंगामे की वजह से उच्च सदन में शून्यकाल और प्रश्नकाल भी नहीं चल पाया.

उच्च सदन (राज्यसभा) में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने राफेल विमान सौदे का मुद्दा उठाया और सरकार पर सुप्रीम कोर्ट और संसद को गुमराह करने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि पूरा देश सच जानना चाहता है. आजाद ने कहा, 'हम कई मुद्दों पर चर्चा करना चाहते हैं। कार्य मंत्रणा समिति में सहमति भी बनी थी। हमने विशेषाधिकार हनन का नोटिस भी दिया है.' इस पर सभापति एम वेंकैया नायडू ने कहा कि वह नोटिस पर अभी विचार कर रहे हैं.

संसदीय कार्य राज्य मंत्री विजय गोयल ने कांग्रेस पर राफेल विमान सौदे के मुद्दे पर चर्चा से बचने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा, 'विपक्ष लगातार हंगामा कर रहा है जबकि सरकार हर मुद्दे पर चर्चा करने के लिए तैयार है.' गोयल ने कहा, 'कांग्रेस को अदालतों से हाल ही में दो-दो बड़े झटके लगे हैं। दोनों मुद्दों पर कांग्रेस को माफी मांगनी चाहिए.'

सत्ता पक्ष के सदस्यों ने गोयल से सहमति जताई वहीं कांग्रेस सदस्यों ने इसका विरोध किया. इस बीच, अन्नाद्रमुक और द्रमुक के सदस्य कावेरी डेल्टा क्षेत्र के किसानों की समस्याओं का मुद्दा उठाते हुए आसन के समक्ष आ गए. इसी मुद्दे पर द्रमुक सदस्य भी वहां आ गए. आंध्रप्रदेश के सदस्यों ने अपने प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग उठाई और आसन के समक्ष आ कर नारे लगाने लगे. सदन में व्यवस्था बनते नहीं देख सभापति नायडू ने बैठक शुरू होने के करीब दस मिनट बाद ही कार्यवाही दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी.

इससे पहले, कार्यवाही शुरू होने पर सभापति एम वेंकैया नायडू ने सदस्यों से अपील की कि वे सदन में शांति बनाए रखें और कार्यवाही चलने दें. उन्होंने कहा कि महंगाई, कृषि संकट, गज और तितली चक्रवातों की वजह से आंध्रप्रदेश, तमिलनाडु, केरल राज्यों में हुए विनाश सहित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा के लिए सदस्यों से उन्हें नोटिस मिले हैं.

(भाषा से इनपुट)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi