S M L

राजीव गांधी 'भारत रत्न' विवाद में AAP का यू-टर्न, सिसोदिया बोले- अलका लांबा से नहीं मांगा इस्तीफा

कांग्रेस ने इस प्रकरण पर आपत्ति जताते हुए सीएम अरविंद केजरीवाल से माफी मांगने और सदन में कार्यवाही के दौरान पेश हुए प्रस्ताव के उस हिस्से को निकालने की मांग की है

Updated On: Dec 22, 2018 03:10 PM IST

FP Staff

0
राजीव गांधी 'भारत रत्न' विवाद में AAP का यू-टर्न, सिसोदिया बोले- अलका लांबा से नहीं मांगा इस्तीफा

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के भारत रत्न को वापस लेने का प्रस्ताव पर खड़ा हुआ विवाद थमता नहीं दिख रहा है. कांग्रेस ने इस मुद्दे पर तीखी प्रतिक्रिया दी है.

दिल्ली के वरिष्ठ कांग्रेस नेता अजय माकन ने कहा कि राजीव गांधी ने देश के लिए अपना जीवन बलिदान किया है, बीजेपी ने भी कभी उनसे भारत रत्न वापस लिए जाने की मांग नहीं उठाई. केजरीवाल को इस प्रकरण के लिए माफी मांगनी चाहिए. साथ ही सदन में कार्यवाही के दौरान पेश हुए प्रस्ताव के उस हिस्से को भी निकालने की मांग की गई है.

वहीं इसे लेकर आम आदमी पार्टी (आप) की सरकार बैकफुट पर है. उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने शनिवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सफाई दी. उन्होंने कहा कि मूल प्रस्ताव में राजीव गांधी का जिक्र नहीं है. विधायकों ने अपनी बात रखी थी. सोमनाथ भारती ने प्रस्ताव में कलम से राजीव गांधी का नाम लिखा था. सिसोदिया ने कहा कि प्रस्ताव में राजीव गांधी से भारत रत्न वापस लेने की बात नहीं है.

चांदनी चौक से विधायक अलका लांबा के इस्तीफे के सवाल पर उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर आप के किसी भी नेता का इस्तीफा नहीं मांगा गया है. और न ही इस्तीफा देने का दबाव बनाया गया है. उन्होंने पार्टी का रुख साफ करते हुए कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री से भारत रत्न वापस लेने के पक्ष में नहीं हैं.

दरअसल पहले यह खबर आई थी कि पार्टी ने लांबा से उनका इस्तीफा मांग लिया है.

वहीं विधानसभा के स्पीकर राम निवास गोयल ने लांबा के दावे को आधारहीन करार देते हुए कहा कि विधानसभा में पेश मूल प्रस्ताव में राजीव गांधी के नाम का जिक्र नहीं था और विधायक सोमनाथ भारती ने भावनों में बहकर हाथ से इसे लिखा था.

शनिवार को आप विधायक जरनैल सिंह ने प्रस्ताव में पहले से राजीव गांधी का नाम लिखे होने की बात का खंडन किया. उन्होंने कहा कि मूल प्रस्ताव में राजीव गांधी का नाम नहीं था, मैंने उसमें उनका नाम जोड़ दिया था.

इससे पहले दिल्ली सरकार के पूर्व मंत्री और आप के बागी विधायक कपिल मिश्रा ने इस विवाद में कूदते हुए अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधा. उन्होंने वीडियो ट्वीट कर कहा, साफ देखा जा सकता है विधानसभा में आप विधायक जरनैल सिंह प्रस्ताव पढ़ रहे हैं. इसके बाद स्पीकर गोयल के आदेश के बाद सभी सदस्य खड़े होते हैं और इस प्रस्ताव का समर्थन करते हैं.

दरअसल शुक्रवार को दिल्ली विधानसभा में 1984 सिख विरोधी दंगों पर चर्चा के दौरान पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी से भारत रत्न वापस लेने का प्रस्ताव पेश किया गया था. इस दौरान अलका लांबा ने स्पष्ट कहा कि प्रस्ताव में राजीव गांधी से भारत रत्न सम्मान वापस लेने की बात पहले से छपी थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi