S M L

बीजेपी की बुराई कर नहीं, बेहतर विकल्प के साथ लड़ेंगेः पायलट

उन्होंने कहा कि कांग्रेस केवल बीजेपी की विफलताओं को लेकर लोगों के पास नहीं जाएगी बल्कि उन्हें एक बेहतर विकल्प देगी

Bhasha Updated On: Dec 25, 2017 09:01 PM IST

0
बीजेपी की बुराई कर नहीं, बेहतर विकल्प के साथ लड़ेंगेः पायलट

कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने कहा है कि उनकी पार्टी राजस्थान में बीजेपी के ‘विद्वेषपूर्ण’ आरोप का जवाब ‘सकारात्मक एवं सार्थक’ अभियान से देगी. शासन के नए मॉडल की वकालत करेगी.

राजस्थान प्रदेश कांग्रेस समिति के प्रमुख पायलट ने कहा कि हाल में सम्पन्न स्थानीय निकाय के लिए उपचुनाव के नतीजों से उत्साहित कांग्रेस ने बूथ स्तर पर अपना आधार मजबूत बनाने का निर्णय किया है. पार्टी शीघ्र ही अपना सक्रिय जनसंपर्क कार्यक्रम शुरू करेगी.

पायलट ने कहा, ‘बीजेपी के विपरीत कांग्रेस का प्रचार विद्वेषपूर्ण अभियान के स्तर तक नहीं जाएगा और नकारात्मक नहीं होगा. इसके बजाए हम सकारात्मक एवं सार्थक अभियान रखेंगे जिसमें वसुंधरा राजे नीत सरकार की विफलताओं को उजागर किया जाएगा.’

राहुल के अध्यक्ष बनने के बाद पार्टी में नई ऊर्जा आई है 

उन्होंने कहा कि कांग्रेस केवल बीजेपी की विफलताओं को लेकर लोगों के पास नहीं जाएगी बल्कि उन्हें एक बेहतर विकल्प देगी.

उन्होंने कहा, ‘हम लोगों को वैकल्पिक शासन का खाका देंगे जो समग्र और व्यापक होगा तथा जिसमें युवा एवं बुजुर्गों, दोनों का ध्यान रखा जाएगा. हम रोजगार बढ़ाने और राज्य को आगे ले जाने का नजरिया रखेंगे.’

पायलट ने कहा कि राज्य के कार्यकर्ता पहले से ही कमर कस चुके हैं और बीजेपी से मुकाबले को तैयार हैं. अब राहुल गांधी ने कांग्रेस अध्यक्ष पद की कमान संभाल ली है और पार्टी में नई ऊर्जा का संचार किया है.

उन्होंने कहा कि पार्टी ने पहले ही ‘मेरा बूथ, मेरा गौरव’ अभियान शुरू कर दिया है. जल्द ही राज्य भर में जनसम्पर्क अभियान शुरू किया जाएगा.

निकाय चुनावों के परिणाम से पार्टी कार्यकर्ताओं में उत्साह है 

कांग्रेस नेता ने कहा कि राज्य में बीजेपी चार साल से सत्ता में है और उसके पास दिखाने के लिए कुछ भी नहीं है. उन्होंने राज्य सरकार पर धन उगाहने के लिए परिसंपत्तियों की बिक्री का आरोप लगाया.

उन्होंने आरोप लगाया कि सार्वजनिक निजी भागीदारी के नाम पर इमारतों, स्कूलों, सड़कों, अस्पतालों एवं अन्य आधारभूत ढांचे को चंद लोगों को बेचा जा रहा है.

पायलट ने कहा कि कांग्रेस को 2013 में ऐतिहासिक हार का सामना करना पड़ा था जब पार्टी राज्य की 200 विधानसभा सीटों में से महज 21 सीट जीत पाई थी. उन्होंने कहा कि हाल में संपन्न 14 शहरी स्थानीय निकायों में से कांग्रेस को सात सीटें मिली हैं.

उन्होंने कहा कि कांग्रेस एवं बीजेपी के बीच वोटों का अंतर जो 25 प्रतिशत था, वह पिछले साल हुए राज्य पंचायत चुनाव में घटकर महज डेढ़ प्रतिशत रह गया है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
कोई तो जूनून चाहिए जिंदगी के वास्ते

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi