S M L

राजस्थान चुनाव 2018: कांग्रेस ने 28 बागियों को 6 साल के लिए पार्टी से निकाला

प्रदेश संगठन महासचिव महेश शर्मा ने इनके निष्कासन के आदेश जारी किए

Updated On: Nov 25, 2018 10:48 PM IST

FP Staff

0
राजस्थान चुनाव 2018: कांग्रेस ने 28 बागियों को 6 साल के लिए पार्टी से निकाला

राजस्थान कांग्रेस ने 28 बागियों को पार्टी से निकाल दिया है. इन 28 बागी उम्मीदवारों को कांग्रेस से 6 साल के लिए निष्कासित किया है. प्रदेश संगठन महासचिव महेश शर्मा ने इनके निष्कासन के आदेश जारी किए.

राजस्थान में 7 दिसंबर को मतदान होने वाले हैं. देश के पांच राज्यों मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान, तेलंगाना और मिजोरम में विधानसभा चुनाव हो रहे हैं. वोटों की गिनती 11 दिसंबर को होगी.

जिन 28 बागियों को कांग्रेस से निकाला गया है उनके नाम हैं : 

- खंडेला से महादेव सिंह खंडेला

- सिरोही से संयम लोढ़ा

- केशोरायपाटन से सीएल प्रेमी

- नीमकाथाना से रमेश खंडेलवाल

- शाहपुरा से आलोक बेनीवाल

यह भी पढ़ें: राजस्थान चुनाव 2018: कांग्रेस के पास अब सीएम पद के 7 दावेदार!

- दूदू से बाबूलाल नागर

- किशनगढ़ से नाथूराम सिनोदिया

- बस्सी से लक्ष्मण मीणा

- गंगापुर से रामकेश मीणा

- तारानगर से सीएस बैद

- लाडनू से जगन्नाथ बुरड़क

- सादुल शहर से ओम बिश्नोई

ये भी पढ़ें: राजस्थान चुनाव 2018: BJP उम्मीदवार पर हमला, 20 राउंड चली गोली

- गंगानगर से राजकुमार गौड़

- करणपुर से पृथ्वीपाल सिंह संधू

- रायसिंहनगर से सोहन नायक

- रतनगढ़ से पूसाराम गोदारा

- सुजानगढ़ से संतोष मेघवाल

- किशनगढ़बास से दीपचंद खेड़िया

यह भी पढ़ें: राजस्थान चुनाव 2018: BJP के हाथों से फिसल रहा अलवर, मॉब लिंचिंग से हुआ वोटों का ध्रुवीकरण

- कठूमर से रमेश खींची

- महुवा से अजीतसिंह महुवा

- बामनवास से ननवलकिशोर मीणा

- जैतारण से राजेश कुमावत

- पाली से भीमराज भाटी

यह भी पढ़ें: वसुंधरा राजे सरकार ने शराब और भू-माफिया को संरक्षण दिया: गहलोत

- मारवाड़ जंक्शन से खुशवीर सिंह जोजावर

- जैसलमेर से सुनीता भाटी

- आहोर से जगदीश चौधरी

- सलूम्बर से रेशमा मीणा

- शाहपुरा से गोपाल केसावत

राजस्थान में हर पांच साल पर सत्ता बदलने का चलन रहा है. मुख्यत: यहां दो दलों के बीच में ही कड़ा मुकाबला रहता है.  एक बार आप और एक बार हम वाली स्थिति रहती आई है, मतलब एक बार कांग्रेस तो एक बार बीजेपी. ऐसे में वसुंधरा राजे की सरकार पर खतरे की घंटी लटकी हुई है. लेकिन वहीं खुद वसुंधरा सरकार के गलत राजनीतिक फैसलों ने भी राज्य में कांग्रेस की स्थिति को मजबूत करने में सहायता की है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi