S M L

2019 में कांग्रेस सत्ता में आई तो राहुल गांधी होंगे प्रधानमंत्री: राज बब्बर

राज बब्बर ने कहा कि मौजूदा NDA सरकार में ऐसा लग रहा है कि 67 सालों से देश ने किसी तरह की कोई तरक्की की ही नहीं और भारत में जो विकास हुआ है उसकी शुरुआत साल 2014 से मोदी सरकार में ही हुआ है.

Updated On: Sep 01, 2018 02:45 PM IST

Bhasha

0
2019 में कांग्रेस सत्ता में आई तो राहुल गांधी होंगे प्रधानमंत्री: राज बब्बर

आने वाले लोकसभा चुनाव में अगर कांग्रेस सत्ता में आती है तो कौन होगा प्रधानमंत्री..? इस बात का खुलासा अब कांग्रेस के ही वरिष्ठ नेता ने कर दिया है. उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर का कहना है कि 2019 के लोकसभा चुनावों में अगर कांग्रेस पार्टी के अंदर बात आएगी तो कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ही प्रधानमंत्री होंगे.

राज बब्बर ने कहा कि मौजूदा NDA सरकार में ऐसा लग रहा है कि 67 सालों से देश ने किसी तरह की कोई तरक्की की ही नहीं और भारत में जो विकास हुआ है उसकी शुरुआत साल 2014 से मोदी सरकार में ही हुआ है. केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए बब्बर ने कहा कि कांग्रेस की सरकार में जीडीपी दर 10 फीसदी से ऊपर थी लेकिन वर्तमान समय में रुपए पर डॉलर काफी भारी पड़ गया है. वहीं पेट्रोल की कीमत 85 रुपए के पार पहुंच गई है.

हिंदुस्तान अखबार के जरिए आयोजित 'हिंदुस्तान शिखर समागम' में विपक्ष के गठबंधन के सवाल पर भी राज बब्बर ने अपनी बात रखी. उन्होंने कहा, 'महागठबंधन किसी एक इंसान के खिलाफ नहीं है. बल्कि देश की सुरक्षा के लिए यह काफी जरूरी है. जब देश हित की बात आएगी तो सब लोग एक हो जाएंगे. इसमें तमाम राजनीतिक पार्टियां, संस्थाएं, व्यक्ति और व्यक्तित्व सब एक होंगे और वक्त आने पर देश की जनता बताएगी कि देश का नेता कौन होगा. वहीं अगर कांग्रेस पार्टी के अंदर की बात की जाए तो प्रधानमंत्री राहुल गांधी ही होंगे.'

कांग्रेस इन दिनों मोदी सरकार पर राफेल डील को लेकर भी निशाना साध रही है. ऐसे में राज बब्बर ने भी मोदी सरकार को राफेल विमान को लेकर आड़े हाथों लिया. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बब्बर ने मोदी सरकार पर देश का सबसे बड़ा रक्षा घोटाला करने का आरोप लगाते हुए कहा कि संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) सरकार में 526 करोड़ रुपए में एक राफेल विमान खरीदने का सौदा हुआ था. यह भी तय हुआ था कि 18 जहाज बने बनाए लेंगे बाकी के 108 जहाज हिंदुस्तान में बनेंगे.

बब्बर का दावा है कि इसके बावजूद इस सौदे को रद्द करके 526 करोड़ रुपए के जहाज को 1670 करोड़ रुपये में खरीदा जाता है. 126 विमानों की जगह केवल 36 जहाज खरीदे जाते हैं. इस तरह से एक विमान पर 1100 करोड़ रुपये से अधिक खर्च हो रहा है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi