S M L

एक समय लोग बाघ से डरते थे, आज गाय से डरते हैं: लालू

शनिवार को ईडी की टीम ने राबड़ी देवी से रेलवे टेंडर घोटाले मामले में करीब 7 घंटे पूछताछ की है

Bhasha Updated On: Dec 02, 2017 10:46 PM IST

0
एक समय लोग बाघ से डरते थे, आज गाय से डरते हैं: लालू

आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद ने दावा कि एक समय लोग बाघ और सियार से डरते थे लेकिन आज गाय से डरते हैं. उन्होंने कहा कि इस स्थिति के लिए बीजेपी जिम्मेदार है.

जिले के चेरकी स्थित एक अनाथालय के सौ साल पूरे होने के उपलक्ष्य में आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए लालू ने कहा, ‘एक समय था जब लोग बाघ और सियार से डरते थे. लेकिन आज लोग गाय से डरते हैं. ऐसी ऐसी स्थिति भारतीय जनता पार्टी के लोगों ने कर दी है.’

उन्होंने कहा, ‘सद्दाम हुसैन की तरह चाहे तो लोग मुझे फांसी पर लटका दें लेकिन मैं नरेंद्र मोदी के सामने नहीं झुकने वाला.’

लालू ने आरोप लगाया, ‘पूरी तरह से भाजपा के लोग मुझे फंसाने में लगे हुए हैं. लेकिन देश की जनता सब देख रही है. आने वाले समय में ऐसे लोगों को करारा जवाब दिया मिलेगा.’

उन्होंने आरोप लगाया, ‘मुख्यमंत्री नीतीश कुमार गिरगिटिया पहलवान हैं. वह गिरगिट की तरह रंग बदलते हैं. उनका अपना कोई औचित्य नहीं है. वह पलटू राम हैं. कब, किसके साथ पलटी मार दें यह कहा नहीं जा सकता.’

ईडी की टीम ने राबड़ी देवी से करीब सात घंटे पूछताछ की

इससे पहले दिल्ली से आए प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के अधिकारी ने एजेंसी के स्थानीय अधिकारियों के साथ बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी से रेलवे टेंडर घोटाला मामले में करीब सात घंटों तक पूछताछ की.

राजधानी के दस सकुर्लर रोड स्थित अपने सरकारी आवास से राबड़ी देवी निर्धारित समय 11 बजे से करीब एक घंटे विलंब से ईडी के दफ्तर पहुंची और जहां उनसे 6.45 बजे शाम तक पूछताछ की गयी.

राबड़ी अपनी बड़ी बेटी और राज्यसभा सदस्य मीसा भारती और अन्य लोगों के साथ पटना के बैंक रोड स्थित ईडी के क्षेत्रीय कार्यालय पहुंची.

पूछताछ के बाद ईडी कार्यालय से निकलने पर राबड़ी मीडियाकर्मियों से बात किए बिना अपने वाहन पर सवार होकर अपने आवास के लिए रवाना हो गयीं. आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि ईडी कार्यालय आमतौर पर शनिवार को बंद रहता है, लेकिन लालू के रेल मंत्रित्वकाल के दौरान हुए कथित रेलवे टेंडर घोटाला के संबंध में राबड़ी से से पूछताछ के लिए दफ्तर को शनिवार को विशेष तौर पर खोला गया था.

जुलाई में इस मामले में प्राथमिकी दर्ज किए जाने के बाद से छह बार सम्मन भेजकर राबडी को दिल्ली में पूछताछ के लिए उपस्थित होने को ईडी द्वारा कहा गया था पर उनके द्वारा इससे इनकार किए जाने पर आज पटना में उनसे पूछताछ की गई.

हाल ही में, पटना में आयोजित आरजेडी के खुले अधिवेशन के दौरान राबड़ी ने रेलवे टेंडर घोटाला और बेनामी संपत्ति को लेकर सीबीआई, ईडी और आयकर विभाग द्वारा उनके साथ साथ उनके परिवार के अन्य सदस्यों से पूछताछ किए जाने की ओर इशारा करते हुए कहा था कि ऐसा उन्हें डरा के लिए किया जा रहा है जिससे वे और उनका परिवार के सदस्य डरने वाले नहीं.

वहीं लालू ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए इस पूछताछ को लेकर कोई दिक्कत नहीं होने की ओर इशारा करते हुए कहा, ‘ईडी का काम है पूछताछ करना. पूछेगा तो पूछेगा. कौन चीज छुपाया हुआ है, कुछ नहीं है.’

उन्होंने केंद्र में सत्तासीन बीजेपी के इशारे पर केंद्रीय एजेंसियों के कार्य करने का आरोप लगाते हुए कहा कि उपमुख्यमंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी ने दावा किया था उनके और उनके परिवार के अन्य सदस्यों के मामलों में केंद्रीय एजेंसियों द्वारा जल्द ही आरोपपत्र समर्पित किया जाएगा. वह कैसे जानते हैं, इससे यह संकेत मिलता है कि इन लोगों की इसमें भूमिका है.

लालू के छोटे पुत्र और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव ने आरोप लगाया कि हम पर कोई स्थापित अपराध नहीं फिर भी हम जांच-एजेंसियों को पूरा सहयोग कर रहे हैं. मेरी मां ने तबीयत ठीक नहीं होने के बावजूद भी आज ईडी को जांच में सहयोग किया.

उन्होंने आरोप लगाया, ‘मुझ पर जबरदस्ती का एफआईआर दर्ज किए आज 150 दिन हो गए है लेकिन ये लोग आरोप पत्र अभी तक दाखिल नहीं कर सके हैं जबकि इन्होंने सबूत ढूंढने के लिए सभी जगहों पर छापे मार लिए, मुझसे अनेकों बार पूछताछ कर ली. सांच को आंच क्या. कुछ किया ही नहीं तो हमारे ख़िलाफ़ सबूत कहाँ से मिलेगा.अब ये लोग सबूत बनाना चाह रहे हैं.’

उल्लेखनीय है कि 29 अगस्त को आयकर विभाग की टीम ने बेनामी संपत्ति मामले में पूर्व मुख्यमंत्री राबडी देवी, उनके छोटे पुत्र तेजस्वी यादव और बडी पुत्री मीसा भारती से आयकर विभाग कार्यालय में पूछताछ की थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi