विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

झारखंड: सीएम रघुवर बनना चाहते हैं पीएम की फोटो कॉपी, जैसा काम वैसा मंत्रालय देने की तैयारी

रघुवर तीन मंत्री को बाहर का रास्ता दिखाने का मन बना चुके हैं. स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी, शिक्षा मंत्री नीरा यादव और कृषि मंत्री रणधीर सिंह पर गाज गिरना तय माना जा रहा है

Brajesh Roy Updated On: Sep 04, 2017 02:38 PM IST

0
झारखंड: सीएम रघुवर बनना चाहते हैं पीएम की फोटो कॉपी, जैसा काम वैसा मंत्रालय देने की तैयारी

मिशन 2019 नरेंद्र मोदी की भाजपा के लिए एक ड्रीम प्रोजेक्ट है. रविवार को अपने नवरत्न को मंत्रिमंडल में शामिल करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह संकेत भी दे दिया है. इतना ही नहीं बीजेपी ने अपने इस ड्रीम प्रोजेक्ट की सफलता के लिए उन राज्यों को भी टास्क दे रखा है जहां आज सीधे या सहयोगी दलों के साथ वो सत्ता पर काबिज है. झारखंड भी इस गिनती में आता है. बिहार से अलग हुए झारखंड से लोकसभा की 14 सीट निकलती है. फिर झारखंड की अहमियत और बढ़ जाती है कि 2019 में ही यहां विधानसभा का चुनाव भी अपेक्षित है.

राजनीति की प्रयोगशाला के तौर पर पहचान रखने वाले झारखंड को पहली दफा भाजपा ने सहयोगी दलों के साथ पूर्ण बहुमत की सरकार दी है. पहली दफा गैर आदिवासी को मुख्यमंत्री बनाकर भाजपा ने यहां की राजनीति को एक अलग दिशा भी देने का काम किया है.

22 सितंबर को सरकार के तीन साल होंगे पूरे 

मुख्यमंत्री की कुर्सी संभाले रघुवर दास इसी महीने की 22 तारीख को अपनी सरकार के तीन साल पूरे होने की तैयारियों में जुट गए हैं. अपने पीएम नरेंद्र मोदी के नंबर वन चहेते सीएम के तौर पर पहचान बनाने की दिशा में रघुवर दास कोई कोर कसर बाकी नहीं रखना चाहते. यही वजह है कि रघुवर कार्य क्षमता और दूरदर्शी प्लानिंग में लगातार पीएम मोदी को फॉलो करना चाहते हैं.

रघुवर की इस कोशिश ने उन्हे पीएम मोदी का फोटो कॉपी बना दिया है. इस बात को रांची में नेता प्रतिपक्ष और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने भी कई दफा कहा है. यह अलग बात है कि नेता प्रतिपक्ष अपने पारंपरिक विरोध की राजनीति का उदाहरण देते रहें हों. बावजूद इसके मुख्यमंत्री रघुवर दास ने इसे अपने लिए गर्व का विषय ही माना. रघुवर ने कहा भी कि अच्छे को फॉलो करना हमेशा बेहतर परिणाम देता है, इतिहास गवाह है.

CM Raghuwar Photo Copy (3)

क्यों कहा जाता है सीएम रघुवर को पीएम मोदी का फोटो कॉपी....

ताजा उदाहरण केंद्रीय मंत्रिमंडल में फेर बदल का ही हो रघुवर भी 15-17 सितंबर के अमित शाह के झारखंड दौरे के तुरंत बाद अपने मंत्रिमंडल में फेरबदल कर सकते हैं. सूत्रों की जानकारी के मुताबिक इसपर आलाकमान की भी सहमति मिल चुकी है. रघुवर तीन मंत्री को बाहर का रास्ता दिखाने का मन बना चुके हैं.

मसलन स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी , शिक्षा मंत्री नीरा यादव और राज्य के कृषि मंत्री रणधीर सिंह पर गाज गिरना तय माना जा रहा है. मुख्यमंत्री रघुवर दास पीएम मोदी की नजरों में अपना ग्राफ एक इंच भी गिरने देना पसंद नहीं करते.

हाल के दिनों में सरकारी अस्पतालों में एक हजार से ज्यादा मासूम बच्चों की मौत ने 70 साल के स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी की कब्र खोद दी. दो साल से नीरा यादव का रिपोर्ट कार्ड मनोनुकूल नहीं रखने के कारण शिक्षा मंत्री को इसका खामियाजा भुगतना तय माना जा रहा है.

इसी तरह राज्य में किसानों की आत्महत्या, विवशता और पलायन का ठीकरा कृषि मंत्री रणधीर सिंह पर फूटना लगभग तय हो चुका है.

तैयार कर लिया है रघुवर ने अपना ब्लू प्रिंट 

अपने लीडर पीएम मोदी को फॉलो करते हुए झारखंड के सीएम रघुवर दास ने अगले दो साल के लिए अपना ब्लू प्रिंट तैयार कर लिया है. इसी कड़ी में सीएम रघुवर दास ने पीएम मोदी को उनके प्रिय सोशल मीडिया साइट पर एक रिपोर्ट सौंपने का काम किया है.

अपनी रिपोर्ट में रघुवर ने प्रधानमंत्री को यह जानकारी दी है कि किस तरह से सरकारी काम काज की जानकारी सोशल साइट के जरिये आम जनता तक पहुंचायी जा रही है. झारखंड में फेसबुक यूजर्स की संख्या 5.80 लाख है जिसमें 2.91 लाख यूजर्स मुख्यमंत्री रघुवर दास को फॉलो करते हैं. वहीं ट्विटर पर रघुवर दास के फॉलोअर्स की संख्या 86 हजार है और इसमें अब हर महीने लगभग 10 हजार का इजाफा हो रहा है.

इसके साथ ही रघुवर दास ने यह भी सूचना पीएम मोदी को दी है कि झारखंड सरकार जल्द ही सोशल साइट पर ‘समाधान’ नाम से एक नयी योजना शुरू की जा रही है. इस योजना के तहत आम जनता सीधे मुख्यमंत्री से अपनी समस्या और भावनाओं को लेकर जुड़ सकती है.

यानि मोदी के मिशन 2019 के लिए रघुवर दास ने अपनी तैयारियों को ठोस करना शुरू कर दिया है. रघुवर अपने लीडरशिप में किसी भी विभाग के मार्क्स को अब घटने नहीं देना चाहते. यही वजह है कि वह अपने मंत्रिमंडल से लापरवाह मंत्रियों को बाहर का रास्ता दिखाने का मन बना चुके हैं.

मिशन 2019 के लिये सीएम रघुवर ने जो पॉइंट कार्यक्रम तय कर रखा है. उसपर गौर किया जाय तो साफ हो जाता है कि पीएम मोदी के गुड बुक्स में सीएम रघुवर बने रहने के लिये हाड़ तोड़ मेहनत करने का संकेत दे रहे हैं.

CM Raghuwar Photo Copy (10)

क्या है रघुवर दास की प्राथमिकता सूची में 

1. ग्रामीण विकास पर ज़ोर - मोदी के मजबूत भारत के सपना को पूरा करने के उद्देश्य से रघुवर दास ने ‘सरकार आपके द्वार कार्यक्रम’ शुरू किया है. पूरे देश में अपने तरह के इस अनूठे कार्यक्रम के अंतर्गत सीएम खुद पूरे राज्य में दौरा पर हैं. इसके तहत आम जनता की समस्याओं का उसके घर के दरवाजे पर ही निवारण का उपाय भी सीएम रघुवर दास ने शुरू कर दिया है.

2. शहरों में उद्द्योग धंधों का जाल बिछाना - इसी कड़ी में उन्होने इसी साल फरवरी माह में देश विदेश के पूंजी निवेशकों को मोमेंटम झारखंड के तहत रांची बुलाया. इस कार्यक्रम में 210 एमओयू पर हस्ताक्षर हुआ जिसमे सवा तीन लाख करोड़ के पूंजी निवेश की मंजूरी मिली. बड़ी बात यह भी है कि लगभग 8 प्रतिशत योजनाओं को सीएम रघुवर ने जमीन पर उतार भी दिया. घरेलू, लघु और मंझोले उद्योग के साथ टेक्सटाइल्स के क्षेत्र में झारखंड सरकार ने काम दिखा दिया. अपने कदम से राज्य के सीएम ने भरोसा जीतने में कुछ सफलता भी हासिल की.

3. युवा रोजगार और स्वरोजगार को बढ़ावा देना - रघुवर दास ने यह भी तय कर लिया है कि युवाओं को रोजगार ही सरकार की सफलता का मूल मंत्र है. पिछले डेढ़ साल के दौरान भाजपा सरकार ने लगभग एक लाख को रोजगार दिया. 2017-18 में प्रत्यक्ष तौर पर सवा लाख और अप्रत्यक्ष तौर पर साढ़े तीन लाख लोगों को रोजगार उपलब्द्ध करवाना सरकार ने लक्ष्य तय कर रखा है.

4. स्वच्छ भारत मिशन को समयबद्ध सीमा से पहले पूरा करने पर बल देना - रघुवर दास ने शौच मुक्त झारखंड का टार्गेट 2018 तय कर दिया है. इसके लिये न केवल सरकारी महकमा बल्कि पार्टी के कार्यकर्ता भी गांव-गांव दौड़ लगाकर योजना को धरातल पर उतारने की कोशिश में जुट गए हैं.

CM Raghuwar Photo Copy (5)

5. 2018 तक हर घर में बिजली पहुंचाना - इस बाबत सीएम रघुवर दास ने खुला ऐलान कर दिया है कि बिजली घर तक नहीं आयी तो वोट मांगने भाजपा मतदाता के दरवाजे पर नहीं आएगी.

6. डिजिटल भारत के निर्माण की दिशा में मोदी के मनोनुकूल माहौल बनाकर कार्य को गति देना. ट्विटर पर सक्रियता, सोशल मीडिया पर सरकार के कार्य की पारदर्शिता सुनिश्चित करना.

7. नक्सल, उग्रवाद की समस्या को जड़ से खत्म कर विधि व्यवस्था को दुरुस्त करना.

8. शिक्षा, स्वास्थ्य के साथ कृषि रोजगार को बढ़ावा देते हुए किसानों को समृद्ध करना.

9. पीएम मोदी के मिशन 2019 के तहत झारखंड से लोकसभा की सभी 14 सीट को जीतना साथ ही राज्य में दो तिहाई बहुमत से पुनः भाजपा एनडीए की सरकार बनाना.

10. 22 सितंबर को अपनी सरकार के 1000 हजार दिन पूरा होने के अवसर को ऐतिहासिक बना देना. इसके तहत सीएम रघुवर ने नारा दिया है 14 साल बनाम 3 साल. 11 से 22 सितंबर तक रघुवर दास अपनी उपलबद्धियों के साथ भविष्य की ठोस योजनाओं की चर्चा करने जा रहे हैं. रघुवर दास के इस कार्यक्रम की शोभा बढ़ाने के लिये देश के उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू, के अलावा पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह, गृह मंत्री राजनाथ सिंह सहित पार्टी के कई बड़ी हस्तियों को भी सीएम रघुवर दास ने निमंत्रण दिया है.

अब आप समझ सकते हैं कि सीएम रघुवर दास कितनी ठोस प्लानिंग के साथ कदम दर कदम चल रहे हैं. रघुवर बतौर मुख्यमंत्री भी इस बात को बखूबी जानते हैं कि जनता के दास बनकर रहेंगे तो ऊपर भी वेरी गुड रहेगा. अब इस वजह से कोई सीएम रघुवर को पीएम मोदी का फोटो कॉपी कहे तो इससे फिलहाल रघुवर दास को कोई फर्क नहीं पड़ता.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi