S M L

राफेल डील के लिए प्रधानमंत्री दें इस्तीफा, कैबिनेट से किसी को बनाएं PM: खड़गे

मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा, 'यह मेरी निजी मांग है कि वो इस पद के लिए काबिल नहीं हैं. इसलिए उन्हें फौरन अपना इस्तीफा दे देना चाहिए और किसी कैबिनेट मंत्री को यह पद सौंप देना चाहिए. वो नैतिक रूप से अब इस पद के लिए योग्य नहीं हैं'

Updated On: Sep 22, 2018 02:39 PM IST

FP Staff

0
राफेल डील के लिए प्रधानमंत्री दें इस्तीफा, कैबिनेट से किसी को बनाएं PM: खड़गे

राफेल सौदे को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार चौतरफा वार झेल रही है. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने इस मुद्दे पर ताजा हमला बोलते हुए प्रधानमंत्री से इस्तीफा मांगा है.

न्यूज़ एजेंसी एएनआई के अनुसार खड़गे ने कहा, 'यह मेरी निजी तौर पर मांग है कि वो (नरेंद्र मोदी) इस पद के लिए काबिल नहीं हैं. इसलिए उन्हें फौरन अपना इस्तीफा दे देना चाहिए और किसी कैबिनेट मंत्री को यह पद सौंप देना चाहिए. वो नैतिक रूप से अब इस पद के लिए योग्य नहीं हैं.'

खड़गे ने कहा, 'पूर्व फ्रांसिसी राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद ने यह साफ कर दिया है कि राफेल सौदे में एक निजी कंपनी को साझीदार बनाने में पीएम मोदी का हाथ है. इससे यह साबित होता है कि हमारे प्रधानमंत्री अपने इस 'दोस्त' को सौदा फाइनल करवाने फ्रांस लेकर गए थे. हम शुरू से कहते रहे हैं कि राफेल सौदे में भ्रष्टाचार हुआ है और पीएम ने इसमें मदद की है.'

दरअसल शुक्रवार को यह खबर आई कि ओलांद ने एक फ्रेंच अखबार को दिए इंटरव्यू में राफेल सौदे से जुड़े कई चौंकाने वाले खुलासे किए थे. ओलांद ने कहा था कि भारत सरकार ने अरबों डॉलर के इस सैन्य सौदे (डिफेंस डील) में फ्रेंच कंपनी (डसाल्ट एविएशन) को साझीदार के तौर पर एक खास कंपनी का नाम आगे बढ़ाया था.

हालांकि ओलांद के इस खुलासे पर फ्रांस की सरकार ने डैमेज कंट्रोल करते हुए फौरन कहा कि राफेल फाइटर जेट डील में वह किसी भी तरह से भारतीय साझेदार को चुनने में शामिल नहीं था. सरकार ने कहा कि फ्रांसीसी कंपनियों को कॉन्ट्रैक्ट के लिए भारत की किसी भी फर्म को चुनने की आजादी थी.

0

अन्य बड़ी खबरें