S M L

PWD घोटाला: साढ़ू के बेटे की गिरफ्तारी से बढ़ सकती हैं केजरीवाल की मुश्किलें

विनय बंसल की गिरफ्तारी के बाद दिल्ली के सीएम और 'आप' के संयोजक अरविंद केजरीवाल की मुश्किलें अब और बढ़ सकती हैं

Updated On: May 10, 2018 05:42 PM IST

Ravishankar Singh Ravishankar Singh

0
PWD घोटाला: साढ़ू के बेटे की गिरफ्तारी से बढ़ सकती हैं केजरीवाल की मुश्किलें

दिल्ली एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) ने दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के दिवंगत साढ़ू सुरेंद्र बंसल के बेटे विनय बंसल को गिरफ्तार किया है. बंसल की कंपनी पर दिल्ली में रोड और सीवर के ठेकों में घोटाला करने का आरोप है. विनय बंसल को एक दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है.

पिछले साल ही लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) के ठेके में एक एनजीओ ने 10 करोड़ रुपए का घोटाला करने का आरोप लगाया था. एसीबी ने इस घोटाले में विनय बंसल और कुछ वरिष्ठ पीडब्ल्यूडी अधिकारियों के खिलाफ तीन मामले दर्ज किए थे.

7 मई 2017 को अरविंद केजरीवाल के साढ़ू सुरेंद्र बंसल का निधन हो गया था. सुरेंद्र बंसल का निधन उसी दिन हुआ था जिस दिन एसीबी ने इस मामले में FIR दायर किया था. एसीबी के मुताबिक सुरेंद्र बंसल के बेटे विनय बंसल की भी इस कंपनी में हिस्सेदारी है. 24 मई 2017 को इस घोटाले में सुरेंद्र बंसल के घर छापा मारा गया था. इस छापेमारी ने एसीबी ने कई दस्तावेज जब्त किए थे.

क्या है आरोप?

एसीबी का कहना है कि बंसल की कंपनी ने फर्जी बिल के जरिए दिल्ली सरकार को 10 करोड़ रुपए का चूना लगाया. एसीबी के मुताबिक विनय बंसल ने दावा किया था कि उन्होंने रोड और सीवर के काम के लिए महादेव इंपेक्स कंपनी से खरीददारी की थी, जो कि एसीबी की जांच में गलत साबित हुआ. विनय बंसल खरीददारी से संबंधित कोई भी दस्तावेज एसीबी को नहीं दे पाए.

गौरतलब है कि एक एनजीओ रोड एंटी करप्शन आर्गनाइजेशन ने मुख्यमंत्री केजरीवाल पर सुरेंद्र बंसल के 10 करोड़ रुपए के कथित जाली बिलों को मंजूरी देने का आरोप लगाया था. साल 2015-16 में दिल्ली की सड़कों और सीवर लाइनों के लिए यह अनुबंध जारी किए गए थे. एनजीओ ने एसीबी को शिकायत में कहा था कि सुरेंद्र बंसल की कंपनी ने उन फर्मों को पैसा रिलीज किया जो सिर्फ पेपर पर ही चल रहे थे.

तीन मुकदमे दर्ज

एसीबी ने बीते पिछले साल 9 मई को पीडब्ल्यूडी अधिकारियों के खिलाफ तीन मामले दर्ज किए थे. 13 मई को एसीबी ने विभाग के छह इंजीनियरों से पूछताछ की थी. इस पूछताछ में सामने आया था कि बंसल की कंपनी को अलग-अलग कामों के लिए कई बिलों को अलग-अलग कंपनियों के द्वारा मंजूरी दी गई.

एसीबी के द्वारा दर्ज एफआईआर में अरविंद केजरीवाल का नाम तो शामिल नहीं है, लेकिन इस घोटाले की जांच की मांग करने वाली एनजीओ का कहना है कि अरविंद केजरीवाल जाली बिलों को मंजूरी देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाया है.

दिल्ली एंटी करप्शन ब्यूरो के प्रमुख अरविंद दीप का कहना है कि जिस व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है उसका नाम विनय बंसल है. यह व्यक्ति दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का साढू सुरेंद्र बंसल का बेटा है.

पिछले काफी दिनों के बाद एक बार फिर से अरविंद केजरीवाल चर्चा में आ गए हैं. विनय बंसल की गिरफ्तारी के बाद दिल्ली के सीएम और आप संयोजक अरविंद केजरीवाल की मुश्किलें अब और बढ़ सकती हैं.

वैसे तो एसीबी दिल्ली सरकार के अधीन काम करता है, लेकिन इसके मुखिया दिल्ली के एलजी अनिल बैजल हैं. पिछले कुछ दिनों से दिल्ली के सीएम और एलजी के बीच सीसीटीवी निगरानी को लेकर ठनी हुई है. सीसीटीवी निगरानी को लेकर एलजी के द्वारा समिति गठित करने पर दिल्ली सरकार नाराज है और ऊपर से मनीष सिसोदिया ने एलजी के निर्णय को असंवैधानिक करार दे कर दोनों में तल्खी और तेज कर दी है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi