S M L

पंजाब मंत्रिमंडल विस्तार पर घमासान: दो कांग्रेस विधायकों ने जताई नाराजगी

कांग्रेस ने पार्टी प्रमुख राहुल गांधी और पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिदंर सिंह के बीच नई दिल्ली में बैठकों के बाद शुक्रवार को नौ नए मंत्रियों के नामों पर मुहर लगाई थी

Bhasha Updated On: Apr 21, 2018 05:21 PM IST

0
पंजाब मंत्रिमंडल विस्तार पर घमासान: दो कांग्रेस विधायकों ने जताई नाराजगी

पंजाब मंत्रिमंडल विस्तार पर नौ नए विधायकों के नाम फाइनल हो गए हैं. शनिवार शाम को यह विधायक मंत्रिपद की शपथ लेंगे, लेकिन इस बीच विधायकों की नाराजगी भी बाहर आने लग गई है.

पंजाब मंत्रिमंडल के विस्तार में जगह न पाने पर कांग्रेस के दो और विधायकों ने शनिवार को निराशा जताई. नए मंत्रियों के शपथ ग्रहण से कुछ घंटे पहले ही विधायकों ने अपनी नाराजगी जताई.

इससे पहले कांग्रेस विधायक संगत सिंह गिल जियां ने इस मुद्दे पर अखिल भारतीय कांग्रेस समिति (एआईसीसी) और पंजाब प्रदेश कांग्रेस समिति के उपाध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया जिसके एक दिन बाद नवतेज सिंह चीमा और गुरकीरत सिंह कोटली ने अपनी नाखुशी जताई.

कांग्रेस ने पार्टी प्रमुख राहुल गांधी और पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिदंर सिंह के बीच नई दिल्ली में बैठकों के बाद शुक्रवार को नौ नए मंत्रियों के नामों पर मुहर लगाई थी.

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह के पोते एवं खन्ना से विधायक गुरकीरत सिंह कोटली ने कहा कि पार्टी के लिए चुनाव जीत चुके ‘पुराने और पारंपरिक’ परिवारों का मंत्रिमंडल में पद के लिए विचार करना चाहिए.

नवतेज सिंह चीमा ने कहा , ‘मैं मंत्री बनने के सभी मानदंडों पर खरा उतरता हूं लेकिन एक कनिष्ठ व्यक्ति को शामिल किया गया. मैंने तीन चुनाव लड़े और तीनों जीते.’

कपूरथला जिले के सुल्तानपुर लोधी से विधायक चीमा ने कहा कि वह इस बात से निराश हैं कि दोआबा क्षेत्र को ‘नजरअंदाज’ किया गया.

चीमा ने कहा , ‘मंत्रिमंडल में दोआबा (सुंदर शाम अरोड़ा) को केवल एक सीट दी गई है और वह भी कंडी क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं. दोआबा के मुख्य क्षेत्र में जालंधर और कपूरथला है जो एनआरआई बेल्ट के लिए जाना जाता है और उसे पूरी तरह नजरअंदाज किया गया है.’

उन्होंने कहा , ‘जब भी कांग्रेस दोआबा क्षेत्र से सीटें जीतती है तो वह सरकार बनाती है.’ चीमा ने कहा कि पार्टी ने एक जिले से तीन मंत्री बनाए लेकिन दोआबा को नजरअंदाज किया गया.

डेरा बाबा नानक से विधायक सुखजिंदर सिहं रंधावा को मंत्रिमंडल में शामिल करने के साथ ही गुरदासपुर जिले से अब तीन मंत्री हो गए हैं. जिले के तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा (फतेहगढ़ चूड़ियां) और अरुणा चौधरी (दीनानगर) पहले से ही मंत्रिमंडल में हैं.

ओ पी सोनी (अमृतसर मध्य) और सुखबिंदर सरकारिया (राजा सांसी) को शामिल करने के साथ ही अमृतसर से अब तीन मंत्री हो गए हैं. अमृतसर पूर्व से नवजोत सिंह सिद्धू पहले ही मंत्री हैं.

चीमा ने कहा कि वह यह समझ नहीं पाए कि क्यों आखिरी क्षण में उनका नाम हटा दिया गया और वह इस मामले को मुख्यमंत्री के समक्ष उठाएंगे. इस बीच, कोटली ने पंजाब के ‘पारंपरिक’ परिवारों के पक्ष में दलीलें दीं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi